ब्रेकिंग न्यूज़
बेतिया-चनपटिया सड़क मार्ग पर बस दुर्घटनाग्रस्त, दर्जनों यात्री घायलश्रीमद्भागवत कथा ज्ञान महायज्ञ के पहले दिन निकली गई भव्य कलश शोभा यात्रा, सैकड़ों महिला पुरुष हुए शामिलयूपी सुन्नी वक्फ बोर्ड के चैयरमैन को सुरक्षा मुहैया कराने का सुप्रीम कोर्ट ने दिया निर्देशभारतीय मूल के अभिजीत और उनकी पत्नी एस्थर डफ्लो को मिला वर्ष 2019 के लिए अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कारछौड़ादानों से रक्सौल तक जर्जर नहर रोड का आखिरकार खुला टेंडर, जांच प्रक्रिया के बाद शुरू होगा कामडायरिया से बचाव को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट, सीएस ने किया मेडिकल टीम का गठननागा रोड में हुआ डिजिटल सेवा केन्द्र का उदघाट्न, लोगों को मिलेगी काफी सहूलियत47वीं वाहिनी के द्वारा रक्सौल में 22 दिवसीय मोटर ड्राइविंग कोर्स का उद्घाटन, पीएम मोदी के स्वरोजगार बनाने के सपनों को करेगा साकार
राष्ट्रीय
गुजरात राज्यसभा उपचुनाव: कांग्रेस की याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने किया इनकार
By Deshwani | Publish Date: 25/6/2019 1:12:50 PM
गुजरात राज्यसभा उपचुनाव: कांग्रेस की याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने किया इनकार

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात में राज्यसभा की 2 सीटों के लिए अलग-अलग चुनाव कराने के खिलाफ कांग्रेस की याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आप चुनाव के बाद हाईकोर्ट में चुनौती दें। इस मामले में निर्वाचन आयोग ने हलफनामा दाखिल कर दो सीटों पर अलग-अलग चुनाव कराने के अपने फैसले को सही ठहराया। निर्वाचन आयोग ने कहा कि अमित शाह और स्मृति ईरानी द्वारा खाली की गई सीटों पर अलग-अलग चुनाव कराना कानूनन सही है।

 
निर्वाचन आयोग ने कहा कि वह 57 सालों से दिल्ली हाईकोर्ट और बांबे हाईकोर्ट के फैसलों के तहत चुनाव कराता आया है। आयोग कैजुअल रिक्तियों के लिए अलग-अलग चुनाव कराता है। जब किसी की राज्यसभा सदस्यता का कार्यकाल खत्म होता है तो वह रेगुलर वेकेंसी होती है। निर्वाचन आयोग ने दिल्ली हाईकोर्ट के 2009 के सत्यपाल मलिक मामले के फैसले का हवाला दिया जिसमें हाईकोर्ट ने कहा था कि कैजुअल वैकेंसी को अलग-अलग चुनाव से भरा जाएगा।
 
पिछले 19 जून को सुप्रीम कोर्ट ने निर्वाचन आयोग को नोटिस जारी किया था। याचिका गुजरात के कांग्रेस विधायक परेश भाई धनानी ने दायर की थी। अमित शाह और स्मृति ईरानी के लोकसभा सदस्य बनने से खाली हुई इन सीटों पर 5 जुलाई को अलग-अलग चुनाव होने हैं।
 
निर्वाचन आयोग की अधिसूचना के मुताबिक अमित शाह को लोकसभा चुनाव जीतने का प्रमाणपत्र 23 मई को मिला था, जबकि स्मृति इरानी को 24 मई को मिला। इससे दोनों के चुनाव में एक दिन का अंतर हो गया। इसी को आधार बनाते हुए निर्वाचन आयोग ने राज्य की दोनों सीटों को अलग-अलग माना है, लेकिन चुनाव एक ही दिन होंगे। ऐसा होने से गुजरात की दोनों सीटों पर बीजेपी को जीत मिल जाएगी। क्योंकि, वहां प्रथम वरीयता वोट नए सिरे से तय होंगे। एक साथ चुनाव होते तो कांग्रेस को एक सीट मिल जाती। संख्या बल के हिसाब से गुजरात में राज्यसभा का चुनाव जीतने के लिए उम्मीदवार को 61 वोट चाहिए।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS