ब्रेकिंग न्यूज़
जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के अनेक भागों में भारी बर्फबारी, उत्तर भारत में भी शीतलहर का प्रकोपपटना गैंगरेप के आरोपित विपुल कुमार और मनीष कुमार ने कोर्ट में किया सरेंडर, अभी भी दो फरारनागरिकता संशोधन विधायक किसी भी हालत में पश्चिम बंगाल में लागू नहीं होगा: ममता बनर्जीस्ट्रीट डांसर 3d में ऐसा होगा श्रद्धा कपूर का लुक, वरुण धवन ने शेयर किया पहला पोस्टरसमस्तीपुर के दलसिंहसराय में महिला से दुष्कर्म के बाद हत्या, गेहूं के खेत में मिला शवराजधानी दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई इलाकों में भारी वर्षा, उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में रेड अलर्ट जारीपीएम मोदी ने संसद भवन पर आतंकी हमले में शहीदों को दी श्रद्धांजलिनागरिकता संशोधन विधेयक 2019 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी
राष्ट्रीय
अयोध्या आतंकी हमले पर 14 साल बाद फैसला, चार दोषियों को उम्रकैद, एक बरी
By Deshwani | Publish Date: 18/6/2019 6:52:46 PM
अयोध्या आतंकी हमले पर 14 साल बाद फैसला, चार दोषियों को उम्रकैद, एक बरी

प्रयागराज। अयोध्या के राम जन्मभूमि परिसर में वर्ष 2005 में हुए आतंकी हमले में इलाहाबाद की स्पेशल ट्रायल कोर्ट ने मंगलवार को चार दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने पांचवें आरोपित मोहम्मद अजीज को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया है। आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा द्वारा कराए गए इस हमले में पांच आतंकवादी मारे गए थे। एक टूरिस्ट गाइड समेत एक अन्य की भी जान गई थी जबकि हमले में सीआरपीएफ व पीएसी के सात जवान गंभीर रूप से घायल हुए थे।

 
आतंकी हमले में मारे गए आतंकियों के पास से बरामद मोबाइल सिम की जांच से आसिफ इकबाल उर्फ फारुक, मो. शकील, मो. अजीज और मो. नसीम का नाम प्रकाश में आया था, जिन्हें 28 जुलाई 2005 को और डाॅ. इरफान को 22 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था। इनमें दिल्ली के साकेत नगर में क्लीनिक चलाने वाला सहारनपुर का डॉ. इरफ़ान मास्टर माइंड है, जबकि बाकी चार लोग जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले के मेंडर इलाके के रहने वाले हैं। 2006 से इलाहाबाद में चले मुकदमे में कुल 371 तारीखें लगीं। मुकदमे में कुल 63 गवाहों के बयान दर्ज हुए। गिरफ्तार आतंकियों पर कोर्ट में 19 अक्टूबर, 2006 को आरोप तय किए गए थे। सरकार की तरफ से जिला शासकीय अधिवक्ता गुलाब चन्द्र अग्रहरि ने अपना पक्ष रखा। जज दिनेश चंद्र की कोर्ट में दोनों पक्षों की बहस 11 जून को पूरी हो चुकी थी। 
 
इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर आठ दिसम्बर, 2006 को यह मुकदमा फैजाबाद से प्रयागराज ट्रांसफर कर दिया गया। प्रयागराज जिला अदालत के स्पेशल जज अतुल कुमार गुप्ता ने दो साल पहले इस मामले में सुनवाई पूरी होने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। इसके बावजूद मामले की फिर से सुनवाई की गई। करीब 14 सालों तक चले इस संवेदनशील मुकदमे की पूरी सुनवाई प्रयागराज की नैनी सेंट्रल जेल में बनाई गई स्पेशल कोर्ट में ही हुई। सुरक्षा कारणों से इस मामले का फैसला सुनाने के लिए प्रयागराज की नैनी सेंट्रल जेल में अस्थाई अदालत बनाई गई।
 
स्पेशल जज एससी-एसटी दिनेश चंद्र ने आज फैसला सुनाते हुए आसिफ इकबाल उर्फ फारुक, मो. शकील, मो. नसीम और डाॅ. इरफान को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने पांचवें आरोपित मोहम्मद अजीज को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया है। कोर्ट ने चारों सजायाफ्ता आतंकियों पर दो लाख चालीस हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। आज आने वाले इस फैसले को देखते हुए अयोध्या से लेकर प्रयागराज समेत उत्तर प्रदेश के कई जिलों में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए। 
 
सभी आतंकी नेपाल के रास्ते बतौर भक्त अयोध्या में घुसे थे। इन लोगों ने कई दिनों तक पूरे इलाके की पहले रेकी की और हमले से पहले राम मंदिर के दर्शन भी किए थे। इसके बाद टाटा सूमो से सुरक्षा घेरा तोड़ते हुए ग्रेनेड फेंककर हमला किया। आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा द्वारा कराए गए इस हमले में एक टूरिस्ट गाइड समेत एक अन्य की भी मौत हो गई थी, जबकि पुलिस की जवाबी कार्रवाई में पांच आतंकवादी मार गिराए गए थे। सीआरपीएफ और पीएसी के सात जवान गंभीर रूप से जख्मी भी हुए थे। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS