ब्रेकिंग न्यूज़
अनिल कुमार जैन कोयला मंत्रालय के नए सचिव नियुक्तमुख्यमंत्री नीतीश का दावा-एनडीए में कोई दरार नहीं, विधानसभा चुनावों में जीतेंगे 200 से ज्यादा सीटबिहार में गंगा समेत कई नदियां उफान पर, मुख्यमंत्री नीतीश ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया हवाई सर्वेक्षणमां दुर्गा के गाने पर जमकर थिरकीं नुसरत जहां और मिमी चक्रवर्ती, वायरल हुआ वीडियोचाइना ओपन से बाहर हुए प्रणीत, भारत का अभियान समाप्तबेल्जियम दौरे के लिये भारतीय हॉकी टीम घोषित, मनप्रीत सिंह को मिली कमानसरकार ने कॉरपोरेट टैक्स 30 फीसदी से घटाकर 22 फीसदी किया, नई दरें 1 अप्रैल से लागूतुलसी गबार्ड ने ‘हाउडी मोदी’ में शामिल नहीं होने पर मांगी माफी, वीडियो जारी कर किया पीएम मोदी का स्वागत
राष्ट्रीय
तीन तलाक पर नए विधेयक को पेश करेगी मोदी सरकार, 17 जून से आरंभ हो रहा है बजट सत्र
By Deshwani | Publish Date: 13/6/2019 11:19:13 AM
तीन तलाक पर नए विधेयक को पेश करेगी मोदी सरकार, 17 जून से आरंभ हो रहा है बजट सत्र

नई दिल्ली। तीन तलाक पर प्रतिबंध के लिए केंद्र सरकार बजट सत्र में नया विधेयक पेश करेगी। कैबिनेट मीटिंग के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने यह जानकारी दी। जावड़ेकर ने कहा कि नया विधेयक फरवरी में पेश किए गए अध्यादेश का स्थान लेगा। जावड़ेकर ने उम्मीद जताई कि इस बार यह बिल राज्यसभा से भी पास करा लिया जाएगा।

 

नई सरकार का पहला बजट सत्र 17 जून से आरंभ हो रहा है। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में इस विधेयक को लोकसभा से तो पास करा लिया गया था लेकिन राज्यसभा में बहुमत न होने के कारण वहां ये पारित नहीं हो सका था।

 
संसदीय नियमों के अनुसार, जो विधेयक सीधे राज्यसभा में पेश किए जाते हैं, वो लोकसभा भंग होने की स्थिति में स्वत: समाप्त नहीं होते। वहीं, जो विधेयक लोकसभा में पेश किए जाते हैं और राज्यभा में लंबित रहते हैं, वो निचले सदन यानी लोकसभा भंग होने की स्थिति में अपने आप ही समाप्त हो जाते हैं। तीन तलाक बिल के साथ भी यही हुआ और इसी वजह से सरकार को नया विधेयक लाना पड़ रहा है।
 
 
लोकसभा में तीन तलाक पर कानूनी रोक वाला विधेयक फरवरी में पारित हो गया था। हालांकि, राज्यसभा में एनडीए सरकार के पास बहुमत का अभाव था, इसलिए ये वहां अटका रहा। अब सरकार बजट सत्र में इसे पेश करने और दोनों सदनों से पास कराने की उम्मीद कर रही है। अध्यादेश को भी कानून में तभी बदला जा सकता है जबकि संसद सत्र आरंभ होने के 45 दिन के भीतर वो पास करा लिया जाए। अन्यथा अध्यादेश की अवधि समाप्त हो जाती है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS