ब्रेकिंग न्यूज़
श्री कृष्ण महोत्सव के रंग में रंगे स्कूली बच्चे, कृष्ण और राधा बन कर पहुंचे स्कूलस्वच्छ रक्सौल संस्था के अध्यक्ष रंजीत के समर्थन में महिलाओं ने हाथों में चूड़ी लेकर किया बाजार भ्रमणपताही पुलिस ने पांच सौ बोतल लेमन फ्लेवर नेपाली कस्तूरी शराब किया बरामद, शराब माफिया फरारकिशोरावस्था में होने वाले बदलाव से जुड़ी भ्रांतियां मात्र एक क्लिक में होंगे दूर, स्वास्थ्य विभाग ने लांच किया साथिया सलाह मोबाइल एपपेरिस में 370 पर बोले प्रधानमंत्री मोदी- अब भारत में कुछ भी टेम्परेरी नहीं होगानेपाल में जन्माष्टमी की धूम, ललितपुर के कृष्ण मंदिर में उमड़ा भक्तों का सैलाबघाटी में अब तेज़ी से सामान्य होते जा रहे हैं हालात, खत्म हुआ अलगाववादियों के फतवों का खौफशार्ट सर्किट से स्कूल बस में लगी आग, लपटों के बीच बच्चों को सुरक्षित निकाला गया
राष्ट्रीय
चक्रवाती तूफान 'वायु' की रफ्तार हुई तेज, 2.91 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया
By Deshwani | Publish Date: 12/6/2019 4:30:23 PM
चक्रवाती तूफान 'वायु' की रफ्तार हुई तेज, 2.91 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया

अहमदाबाद। 140 से 150 किमी. प्रति घंटे की रफ़्तार से सौराष्ट्र की ओर बढ़ रहा 'वायु' बवंडर अभी वेरावल से करीब 320 किमी. दूर है। यह बवंडर अब डीप डिप्रेशन में परिवर्तित हो चुका है  और गुजरात के तट से टकराने के बाद सौराष्ट्र-कच्छ के तटीय इलाकों में तबाही मचा सकता है। ऐसे में 5 से 7 इंच बारिश होने की संभावना जताई जा रही है। सौराष्ट्र के तटीय विस्तार के गांवों से अब तक लगभग 2.91 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा जा चुका है। 
 
अरब सागर में स्थित डीप डिप्रेशन अब बवंडर में तब्दील होने से गुजरात के तटीय इलाकों में चिंता व्याप्त हो चुकी है। 12 और 13 को स्कूल-कालेजों में छुट्टी घोषित कर दी गई है। स्कूल-कालेजों के परिसरों को आपातकालीन स्थिति में लोगों को शरण देने के काम में लाया जायेगा। 
 
मुख्यमंत्री विजयभाई रुपानी की अगवाई में हुई बैठक में राज्य के मुख्य सचिव जेएन सिंघ ने सौराष्ट्र और कच्छ के जिला कलेक्टरों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये वार्ता की थी। 'वायु' बवंडर की वजह से लोगों के जान-माल की सुरक्षा के लिए सरकार ने सौराष्ट्र और कच्छ जिले के संभावित प्रभावित क्षेत्रों में सेना की 34 टीमें, एनडीआरएफ की 15 टुकड़ियां, एसडीआरएफ की 11 टीमें 24 घंटे तैनात रहेंगी। एनडीआरएफ की 20 अतिरिक्त टीमें पुणे और भटिंडा से सौराष्ट्र भेजी जा चुकी हैं। पोरबंदर, महुआ, वेरावल और दिव में बारिश शुरू हो चुकी है।
 
गिर सोमनाथ जिला प्रशासन ने भी अलर्ट घोषित किया है। सौराष्ट्र के तटीय इलाकों के 408 गांवों में ज्यादा असर होने की संभावना जताई गई है। राज्य के नायब मुख्यमंत्री नितिन पटेल लगातार प्रशासन के संपर्क में हैं। सभी सरकारी एजेंसियां भी सरकार से संपर्क बनाए हुए हैं।
 
सरकार द्वारा आपदा की स्थिति को संभालने के लिए 5 लाख फ़ूड पैकेट्स तैयार करने के लिए राज्य के आपूर्ति विभाग को निर्देश दिए हैं। फ़ूड पैकेट्स में पानी के पाउच के साथ सूखा नाश्ता रखने को कहा गया है। सरकार ने इस आपदा की परिस्थिति में बीएसएनएल और एनी मोबाइल ऑपरेटर्स को खास निर्देश दिए हैं कि इस आपदा की स्थिति में भी मोबाइल टावर कार्य करते रहें। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS