ब्रेकिंग न्यूज़
कार और ट्रक की भीषण टक्कर में मुजफ्फरपुर के चार लोगों की मौत, एक अन्य घायलअमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने की प्रधानमंत्री मोदी और विदेश मंत्री से की मुलाकातखुला विश्व प्रसिद्ध शक्तिपीठ कामाख्या मंदिर का कपाट, श्रद्धालुओं ने किए मां के दर्शनअगस्ता वेस्टलैंड केस: राजीव सक्सेना को सुप्रीम कोर्ट से झटका, विदेश जाने पर लगा रोकऔषधीय गुणों से युक्त कालमेघ का करें खेती, आय के साथ रोगों के लिए नहीं जाना पड़ेगा अस्पतालबाॅलीवुड अभिनेत्री करिश्मा कपूर ने शेयर की ऐसी फोटो, इंटरनेट पर मचा धमालहाईटेंशन की चपेट में आयी बस, चार यात्रियों की मौत, 27 झुलसे, परिजनों ने की सरकार से मुआवजा की मांगगृहमंत्री शाह आज से दो दिवसीय कश्मीर दौरे पर, अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा व्यवस्था का लेंगे जायजा
राष्ट्रीय
अवमानना का मामला: सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी को भेजा नोटिस, 22 तक मांगा जवाब
By Deshwani | Publish Date: 15/4/2019 3:21:16 PM
अवमानना का मामला: सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी को भेजा नोटिस, 22 तक मांगा जवाब

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने राफेल पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से चौकीदार चोर है कहने के खिलाफ दायर अवमानना याचिका दायर पर सुनवाई करते हुए राहुल गांधी को नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने राहुल गांधी को 22 अप्रैल तक जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया है। 

 
याचिका बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने दायर की है। मीनाक्षी लेखी की तरफ से कहा गया कि ये कोर्ट की अवमानना है। राहुल गांधी ने कोर्ट के फैसले की गलत व्याख्या की है। पिछले 10 अप्रैल को कोर्ट ने राफेल मामले पर लीक दस्तावेजों को साक्ष्य के तौर पर पेश करने के खिलाफ दायर केंद्र सरकार की याचिका को खारिज कर दिया था। अब सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर विस्तार से सुनवाई करेगा। 
 
मामले पर सुनवाई के दौरान अटार्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा था कि याचिकाकर्ताओं ने जो दस्तावेज लगाए हैं वे प्रिविलेज्ड हैं और उन्हें भारतीय साक्ष्य अधिनियम की धारा 123 के तहत साक्ष्य के तौर पर पेश नहीं किया जा सकता है। जबकि याचिकाकर्ता प्रशांत भूषण ने कहा था कि सरकार की चिंता राष्ट्रीय सुरक्षा नहीं है बल्कि सरकारी अधिकारियों को बचाने की है जिन्होंने राफेल डील में हस्तक्षेप किया।
 
सुनवाई के दौरान चीफ याचिकाकर्ता प्रशांत भूषण ने कहा था कि अटार्नी जनरल की आपत्तियां सुरक्षा हितों के लिए नहीं हैं। इनमें से सभी दस्तावेज पहले से ही पब्लिक डोमेन में हैं। ऐसे में कोर्ट इस पर संज्ञान कैसे नहीं ले सकती है। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS