ब्रेकिंग न्यूज़
नहीं मिली एबुलेंस, पिता को कंधे पर ले जाना पड़ा बेटे का शव, जिला मजिस्ट्रेट ने लिया संज्ञान, मांगा स्पष्टीकरणपुलिसकर्मी ही शराबबंदी कानून की घज्जियां उड़ा रहे हैं, दिन में ली शपथ तो रात में नशे की हालत में गिरफ्तारबसपा में परिवारवाद का नया अध्यायमहिला फुटबॉल विश्व कप: अमेरिका क्वॉर्टरफाइनल में, फ्रांस से होगा सामनाविश्व कप: ऑस्‍ट्रेलिया को पहला झटका, वार्नर 53 रन पर आउट, स्‍कोर 26 ओवर में 143 रनगढ़वा में भीषण सड़क हादसा, बस के खाई में गिरने से छह की मौत, 40 घायलपीएनबी घोटाला: हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी की एंटीगुवा की नागरिकता होगी रद्द, जल्द लाया जाएगा भारतआपातकाल के 44 साल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले- 'लोकतंत्र के लिए संघर्ष करनेवाले नायकों को सलाम'
राष्ट्रीय
जलियांवाला बाग कांड के 100 साल, ब्रिटिश उच्चायुक्त ने जलियांवाला बाग़ कांड को बताया शर्मनाक
By Deshwani | Publish Date: 13/4/2019 11:31:47 AM
जलियांवाला बाग कांड के 100 साल, ब्रिटिश उच्चायुक्त ने जलियांवाला बाग़ कांड को बताया शर्मनाक

अमृतसर। ब्रिटिश उच्चायुक्त डोमिनिक अस्किथ ने आज सुबह अमृतसर में जलियांवाला बाग़ में पहुंच कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने जलियांवाला बाग़ कांड को शर्मनाक बताया। उन्होंने इस घटना पर खेद भी प्रकट दिया। 

 
परन्तु उन्होंने ब्रिटिश सरकार की तरफ से इस घटना को लेकर माफ़ी नहीं मांगी गई। शुक्रवार देर शाम को पंजाब में मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अमृतसर में इस घटना के 100 वर्ष पूरा होने पर कैंडल मार्च किया और मांग की कि ब्रितानवी सरकार को इस घटना के लिए माफ़ी मांगने चाहिए। 
 
उनके साथ पंजाब के राज्यपाल वी पी सिंह बदनोर भी थे। काबिले जिक्र है कि ब्रितानवी संसद में भी इस घटना को लेकर अफ़सोस तो प्रकट किया गया, परन्तु माफ़ी मांगने से गुरेज किया। 
 
गौरतलब है कि देश की आजादी के इतिहास में 13 अप्रैल का दिन एक दुखद घटना के साथ दर्ज है। वो साल था 1919 और तारीख थी 13 अप्रैल, जब जलियांवाला बाग में एक शांतिपूर्ण सभा के लिए जमा हुए हजारों भारतीयों पर अंग्रेज हुक्मरान ने अंधाधुंध गोलियां बरसाई थीं। ये सभी जलियांवाला बाग में रौलट एक्ट के विरोध में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS