ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में मोतिहारी की आदापुर पुलिस ने पाच करोड़ की चरस के साथ पांच नेपाली नागरिक को पकड़ाजिला प्रशासन ने अंतरजातीय विवाह करने वाले 10 दंपत्तियों को बतौर प्रोत्साहन 7.75 लाख की राशि प्रदान कियादैवीय आपदा, बेघर और कच्चे घरों में रहने वाले गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत निःशुल्क आवास उपलब्धदिनेशलाल यादव निरहुआ ने की बिहार में 500 थियेटर के साथ एजुकेशन को जोड़ने की पहलविभिन्न समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर स्वच्छ रक्सौल संस्था द्वारा धरना आज तीसरा दिन भी जारी रहाशराब कारोबारी और पुलिस की कथित चूहा बिल्ली के खेल में हुई दुर्घटना में एक तेज रफ्तार होण्डा कार ने तीन लोगों को रौंदा, एक की मौतदूरदर्शन की मशहूर एंकर नीलम शर्मा का निधन, कैंसर से थीं पीड़ितकुशीनगर में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या, क्षेत्र में फैली सनसनी
राष्ट्रीय
शारदा चिटफंड मामला: कुणाल घोष और कुमार से आज तीसरे दिन भी सीबीआई की पूछताछ
By Deshwani | Publish Date: 11/2/2019 12:51:02 PM
शारदा चिटफंड मामला: कुणाल घोष और  कुमार से आज तीसरे दिन भी सीबीआई की पूछताछ

शिलॉन्ग। पश्चिम बंगाल के चर्चित सारदा चिटफंड घोटाले में कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से लगातार तीसरे दिन सीबीआई की टीम पूछताछ कर रही है। इससे पहले शनिवार और रविवार को भी घोटाले के सिलसिले में सीबीआई अफसरों ने राजीव कुमार से घंटों पूछताछ की थी। 

पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार आज सुबह मेघालय की राजधानी शिलॉन्ग स्थित सीबीआई के दफ्तर पहुंचे। उनसे पिछले दो दिनों के दौरान लंबी पूछताछ हो चुकी है। सूत्रों के अनुसार सारदा घोटाले के मुख्य आरोपी और पूर्व तृणमूल कांग्रेस सांसद कुणाल घोष से भी रविवार को पूछताछ की गई। राजीव कुमार और टीएमसी सांसद को करीब ढाई घंटे तक आमने-सामने बिठाकर सवाल-जवाब किए गए। 

 
एक सीबीआई अधिकारी ने बताया, 'इस वक्त पूछताछ की समयसीमा के बारे में बताना बहुत मुश्किल है।' शनिवार को भी राजीव कुमार से सात घंटे तक पूछताछ चली थी। बंगाल सरकार के सूत्रों का कहना है कि इस मुद्दे पर कानूनी सलाह ली जा सकती है। कुणाल घोष के वकील अयान चक्रबर्ती का कहना है, 'वह सीबीआई के अधिकारियों को सहयोग करने के लिए आए हैं और जमानत की यह पहली शर्त है।' 
 
बता दें कि सारदा चिटफंड स्कैम की जांच सीबीआई के पास जाने से पहले बतौर एसआईटी चीफ राजीव कुमार की निगरानी में चल रही थी। पश्चिम बंगाल सरकार ने इस घोटाले की जांच के लिए राजीव कुमार की अगुआई में एक एसआईटी का गठन किया था। हालांकि बाद में सुप्रीम कोर्ट ने मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी। 
 
दिल्ली में सीबीआई के अधिकारियों ने बताया कि राजीव कुमार ने मांग की थी कि उनके बयानों की विडियो रिकॉर्डिंग की जाए। हालांकि सीबीआई ने उनकी यह मांग नहीं मानी। ऐसा हिरासत में लेकर की गई पूछताछ के दौरान होता है। कुछ रिपोर्ट्स में राजीव कुमार के वकील के हवाले से दावा किया जा रहा था कि सीबीआई राजीव कुमार के बयानों की विडियो रिकॉर्डिंग भी कर रही है। 
 
जांच को करीब से देख रहे एक सीबीआई अधिकारी ने नाम ना जाहिर करने की शर्त पर बताया, 'राजीव कुमार और कुणाल घोष को दोपहर बाद आमने-सामने बैठाकर लंबी पूछताछ की गई। इससे पहले दोनों से काफी देर अलग-अलग पूछताछ चली थी।' 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS