ब्रेकिंग न्यूज़
राहुल गांधी ने 'चौकीदार चोर है' वाले बयान पर सुप्रीम कोर्ट में जताया खेदशत्रुघ्न सिन्हा की उम्मीदवारी के विरोध में पार्टी कार्यकर्ताओं का पटना में हंगामा, की नारेबाजीप्रज्ञा ठाकुर मामले को लेकर मायावती का चुनाव आयोग पर हमला, कहा- नामांकन रद्द होना चाहिएलोकसभा चुनाव-2019: दिल्ली के छह सीटों पर कांग्रेस ने घोषित किए उम्मीदवारगूगल ने विश्व पृथ्वी दिवस पर बनाया खास एनिमेटेड डूडलराष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने श्रीलंका बम धमाकों में मारे गए लोगों पर जताया दुखआईपीएल: धोनी की विस्फोटक पारी बेकार गई, आरसीबी ने चेन्नई को 1 रन से हरायाश्रीलंका बम धमाकों में मृतकों की संख्या 290 हुई, इनमें 6 भारतीय; कोलंबो एयरपोर्ट के पास पाइप बम बरामद
राष्ट्रीय
35ए के खिलाफ दायर याचिका पर जल्द होगी सुनवाई: सुप्रीम कोर्ट
By Deshwani | Publish Date: 22/1/2019 3:11:29 PM
35ए के खिलाफ दायर याचिका पर जल्द होगी सुनवाई: सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में स्थायी नागरिकता की परिभाषा देने वाले अनुच्छेद-35ए को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई की तारीख तय करने की मांग पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने आश्वस्त किया कि जल्द ही इस मामले की इन-चैम्बर सुनवाई की तारीख तय कर दी जाएगी।

 
पिछले 7 जनवरी को जम्मू-कश्मीर सरकार ने हलफनामा दायर कर कहा था कि 1982 से लेकर अब तक ये एक्ट प्रभाव में नहीं आया है। पुनर्वास को लेकर राज्य सरकार को अभी तक कोई आवेदन नहीं मिला है।
 
13 दिसंबर, 2018 को सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर सरकार से पूछा था कि आखिर विभाजन के दौरान पाकिस्तान जा रहे लोगों के वंशजों को भारत में फिर से रहने की कैसे इजाज़त दी जा सकती है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने जम्मू-कश्मीर सरकार से पूछा था कि राज्य में पुर्नवास के लिए कितने लोगों ने अप्लाई किया है।
 
ये क़ानून विभाजन के दौरान 1947-54 के बीच पाकिस्तान जा चुके लोगों को हिंदुस्तान में पुर्नवास की इजाज़त देता है।इसके खिलाफ जम्मू-कश्मीर पैंथर्स पार्टी की ओर से दायर याचिका में कहा गया है कि ये क़ानून असंवैधानिक व मनमाना है, इससे राज्य की सुरक्षा को खतरा है।
 
केंद्र सरकार ने भी याचिकाकर्ता का समर्थन किया है। कोर्ट में केंद्र सरकार की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि सरकार पहले ही कोर्ट में हलफनामा दायर कर ये साफ कर चुकी है कि वो विभाजन के दौरान सरहद पार गए लोगों की वापसी के पक्ष में नहीं है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS