ब्रेकिंग न्यूज़
श्री कृष्ण महोत्सव के रंग में रंगे स्कूली बच्चे, कृष्ण और राधा बन कर पहुंचे स्कूलस्वच्छ रक्सौल संस्था के अध्यक्ष रंजीत के समर्थन में महिलाओं ने हाथों में चूड़ी लेकर किया बाजार भ्रमणपताही पुलिस ने पांच सौ बोतल लेमन फ्लेवर नेपाली कस्तूरी शराब किया बरामद, शराब माफिया फरारकिशोरावस्था में होने वाले बदलाव से जुड़ी भ्रांतियां मात्र एक क्लिक में होंगे दूर, स्वास्थ्य विभाग ने लांच किया साथिया सलाह मोबाइल एपपेरिस में 370 पर बोले प्रधानमंत्री मोदी- अब भारत में कुछ भी टेम्परेरी नहीं होगानेपाल में जन्माष्टमी की धूम, ललितपुर के कृष्ण मंदिर में उमड़ा भक्तों का सैलाबघाटी में अब तेज़ी से सामान्य होते जा रहे हैं हालात, खत्म हुआ अलगाववादियों के फतवों का खौफशार्ट सर्किट से स्कूल बस में लगी आग, लपटों के बीच बच्चों को सुरक्षित निकाला गया
राष्ट्रीय
ईडी ने की जाकिर नाइक की 16.40 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क, धन शोधन का आरोप
By Deshwani | Publish Date: 19/1/2019 5:05:29 PM
ईडी ने की जाकिर नाइक की 16.40 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क, धन शोधन का आरोप

नयी दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय ने विवादास्पद इस्लामी उपदेशक जाकिर नाइक के खिलाफ धन शोधन के आरोपों की जांच के सिलसिले में उसकी 16.40 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति कुर्क की है।

 
प्रवर्तन निदेशालय ने एक बयान में कहा कि उसने धन शोधन निरोधक अधिनियम (पीएमएलए) के तहत नाइक की मुंबई और पुणे स्थित संपत्तियों की कुर्की के लिये अस्थायी आदेश जारी किया था। केंद्रीय जांच एजेंसी ने बताया कि अचल संपत्तियों का अनुमानित मूल्य 16.40 करोड़ रुपये है। 
 
ईडी ने इस मामले में तीसरी कुर्की की है। एजेंसी नाइक के खिलाफ राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की प्राथमिकी का संज्ञान लेने के बाद जांच कर रही है। नाइक फिलहाल मलेशिया में है। ईडी ने इस मामले में अब तक कुल 50.49 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की है।
 
बता दें कि हाल ही में विशेष एनआईए अदालत ने इस्लामी उपदेशक जाकिर नाइक की मुंबई स्थित चार संपत्तियां कुर्क करने का आदेश दिया था। उस पर आतंकवाद रोधी कानून के तहत मामला दर्ज है। नाइक को दो साल पहले गैर कानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के तहत आरोपित किया गया था। उसे जून 2017 में अदालत ने वांछित अपराधी घोषित किया था। 
 
इसके बाद, राष्ट्रीय जांच एजेंसी नेशहर में स्थित नाइक के दो फ्लैट और एक वाणिज्यिक प्रतिष्ठान कुर्क कर लिए थे। गौरतलब है कि नवंबर 2016 में केंद्र सरकार ने नाइक के मुंबई स्थित इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन को यूएपीए के तहत एक गैर कानूनी संगठन घोषित किया था। इसके शीघ्र बाद एनआईए ने नाइक के खिलाफ एक मामला दर्ज किया था।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS