ब्रेकिंग न्यूज़
रणवीर सिंह की 'गली बॉय' की धुआंधार कमाई जारी, 80 करोड़ के पारअयोध्या मामला: 26 फरवरी से सुप्रीम कोर्ट में सीजेआई की पांच सदस्यीय बेंच करेगी सुनवाईभारत और सऊदी अरब के बीच हुए पांच समझौते, प्रिंस सलमान ने भारत को सहयोग का किया वादाशहीद परिवार को सांत्वना देने पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंकाजैश-ए-मोहम्मद पर कार्रवाई का विरोध नहीं करे पाकिस्तान: अमेरिकामनी लांड्रिंग के मामले में ईडी के समक्ष पेश हुए राबर्ट वाड्रासरकारी नौकरी में गरीब सवर्णों को मिलेगा फायदा, लागू हुआ सवर्ण आरक्षणमशहूर साहित्यकार नामवर सिंह के निधन पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जताया शोक
राष्ट्रीय
जेएनयू देशद्रोह मामला: पटियाला हाउस कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को लगाई फटकार
By Deshwani | Publish Date: 19/1/2019 2:42:57 PM
जेएनयू देशद्रोह मामला: पटियाला हाउस कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को लगाई फटकार

नई दिल्ली। जेएनयू देशद्रोह मामले में पटियाला हाउस कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को फटकार लगाई है। इसके साथ ही ताबड़तोड सवाल भी किए है। पटियाला कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से सवाल किया कि आखिर इस मामले में चार्जशीट दाखिल करने से पहले दिल्ली सरकार से इजाजत क्यों नहीं ली गई? क्या आपके पास लीगल डिपार्टमेंट नहीं है? इसके साथ ही अदालत ने कहा कि जब तक दिल्ली सरकार इस मामले में चार्जशीट दाखिल करने की इजाजत नहीं देती है। तब तक वो इस पर संज्ञान नहीं लेगी। 

 
गौरतलब है कि अदालत ने दिल्ली पुलिस से पूछा कि आखिर आप दिल्ली सरकार की इजाजत के बगैर ही चार्जशीट क्यों दाखिल करना चाहते है? इसके बाद दिल्ली पुलिस ने जवाब दिया कि वह इस मामले में 10 दिन के अंदर दिल्ली सरकार से अनुमति ले लेगी। हालांकि पटियाला कोर्ट के इस फैसले को दिल्ली सरकार की इजाजत के बिना जेएनयू मामले में चार्जशीट दायर करने वाली दिल्ली पुलिस को बड़ा झटका माना जा रहा है। 
 
इसके बाद ​केजरीवाल सरकार ने कहा है ​कि अभी तक जेएनयू मामले में किसी भी तरह के अभियोजन की इजाजत नहीं ली गई है। अगर दिल्ली पुलिस दावा करती है। तो वह पूरी तरह से झूठ बोल रही है। वह कुछ छिपा रही है। हालांकि इससे पहले 14 जनवरी 2019 को दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में जेएनयू  मामले में चार्जशीट पेश की थी। तब उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य ने आरोपों को खारिज कर दिया।
 
आपको बता दें कि जेएनयू देशद्रोह मामले में दिल्ली पुलिस ने 14 जनवरी 2019 को 1200 की चार्जशीट दाखिल की थी। यह चार्जशीट दिल्ली की केजरीवाल सरकार से बिना अनुमति लिए दाखिल की गई थी। जबकि इस प्रकार के मामले में पहले राज्य सरकार से पुलिस को परमिशन लेनी होती है। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS