ब्रेकिंग न्यूज़
श्री कृष्ण महोत्सव के रंग में रंगे स्कूली बच्चे, कृष्ण और राधा बन कर पहुंचे स्कूलस्वच्छ रक्सौल संस्था के अध्यक्ष रंजीत के समर्थन में महिलाओं ने हाथों में चूड़ी लेकर किया बाजार भ्रमणपताही पुलिस ने पांच सौ बोतल लेमन फ्लेवर नेपाली कस्तूरी शराब किया बरामद, शराब माफिया फरारकिशोरावस्था में होने वाले बदलाव से जुड़ी भ्रांतियां मात्र एक क्लिक में होंगे दूर, स्वास्थ्य विभाग ने लांच किया साथिया सलाह मोबाइल एपपेरिस में 370 पर बोले प्रधानमंत्री मोदी- अब भारत में कुछ भी टेम्परेरी नहीं होगानेपाल में जन्माष्टमी की धूम, ललितपुर के कृष्ण मंदिर में उमड़ा भक्तों का सैलाबघाटी में अब तेज़ी से सामान्य होते जा रहे हैं हालात, खत्म हुआ अलगाववादियों के फतवों का खौफशार्ट सर्किट से स्कूल बस में लगी आग, लपटों के बीच बच्चों को सुरक्षित निकाला गया
राष्ट्रीय
कड़कती ठंड़ पर आस्था पड़ी भारी, शुरू हुआ कुम्भ का स्नान
By Deshwani | Publish Date: 15/1/2019 11:25:41 AM
कड़कती ठंड़ पर आस्था पड़ी भारी, शुरू हुआ कुम्भ का स्नान

कुम्भनगर (प्रयागराज) । उत्तर प्रदेश के तीर्थराज प्रयाग में मकर संक्रांति के पहले शाही स्नान के साथ ही कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच आज तडक़े कुम्भ शुरू हो गया है।

 
गंगा, यमुना और  दृश्य सरस्वती के त्रिवेणी में कडक़ती ठंड पर श्रद्धालुओं की आस्था भारी पड़ी। श्रद्धालुओं ने मध्यरात्रि के बाद से ही संगम में स्नान शुरु कर दिया। नाग संन्यासियों का शाही स्नान निर्धारित समय भोर 5.15 से शुरु हो गया।
 
मेला प्रशासन ने बताया कि सुबह 7 बजे तक 16 लाख श्रद्धालुओ ने संगम में आस्था की डुबकी लगाई। निरंजनी अखाड़े की नवनियुक्त महामंडलेस्वर केंद्रीय राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने भी अखाड़ा के साधु-महात्माओं के काफिले संग स्नान किया।
 
दिव्य और भव्य कुम्भ का पहला मुख्य स्नान पर्व मकर संक्रांति मंगलवार को ब्रह्ममुहूर्त से शुरू हो गया। पुण्य की कामना में त्रिवेणी के संगम पर लाखों श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई। संक्रांति की प्रतीक्षा अंत:करण को शुद्ध करने के विविध मंत्रों से तट गुंजायमान हो रहे हैं। श्रद्धालु डुबकी मारने के बाद ‘‘हर-हर महादेव और जय गंगे और हर-हर गंगे के उच्चारण निर्वाध गति से चल रहे हैं।
 
आमतौर पर मकरसंक्रांति हर साल 14 जनवरी को मनाया जाता है, लेकिन 2019 में सूर्य के मकर राशि में बिलम्ब से जाने की वजह से स्नान पर्व 15 जनवरी को मनाया जा रहा है। मकर संक्रांति के दिन पूजा-पाठ और स्नान-दान का काफी महत्व होता है। श्रद्धालु स्नान करने के बाद घाट पर बैठे पंडो को चावल, मूंग दाल, नमक, हल्दी का दान कर रहे है। कुछ श्रद्धालु तो कपड़े भी गरीबों में बांटते दिखे। संगम किनारे रेती पर आस्था, भक्ति और आध्यात्मक का अछ्वुत संसार बस चुका है। लघु भारत को अपने में समेटे कुम्भ क्षेत्र में अखाड़ों में आध्यात्म की बयार बह रही है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS