ब्रेकिंग न्यूज़
जानिए किस बात का है रानी मुखर्जी को बेसब्री से इंतजार, इंटरव्यू में कहा...विधानसभा चुनाव के बाद जयपुर में मतगणना को लेकर आयोग की तैयारियां पूरी16 दिसंबर को कांग्रेस के गढ़ रायबरेली जाएंगे प्रधानमंत्री मोदी, दे सकते हैं बड़ी सौगातकश्मीर में अलगाववादियों की हड़ताल से जन-जीवन प्रभावित, तनावपूर्ण हुआ माहौलभारत ने अग्नि 5 मिसाइल का किया सफल प्रायोगिक परीक्षणनिजामुद्दीन दरगाह में महिलाओं के प्रवेश को लेकर केंद्र और दिल्ली सरकार को नोटिसब्रिटेन से भारत प्रत्‍यर्पण के बाद इस जेल में बीतेंगी विजय माल्‍या की रातें, बैरक तैयारएनडीए से अलग होते ही कुशवाहा ने गिनाई गठबंधन की खामियां, नीतीश कुमार को भी घेरा
राष्ट्रीय
5 राज्‍यों की मतगणना वाले दिन शुरू होगा संसद का शीत सत्र, पेश होंगे अहम विधेयक
By Deshwani | Publish Date: 6/12/2018 2:29:31 PM
5 राज्‍यों की मतगणना वाले दिन शुरू होगा संसद का शीत सत्र, पेश होंगे अहम विधेयक

नई दिल्ली। संसद का अगले सप्ताह शुरू होने वाला शीतकालीन सत्र हंगामेदार रहने के आसार हैं। सत्र के दौरान सरकार तीन तलाक, उपभोक्ता संरक्षण, चिट फंड, डीएनए, गैर कानूनी गतिविधियां रोकथाम जैसे विधेयकों सहित करीब तीन दर्जन विधेयक पारित कराना चाहती है। इनमें 20 विधेयक नए हैं जबकि शेष, सदन में पहले ही पेश किए जा चुके विधेयक हैं।

कांग्रेस सहित विपक्षी दल राफेल मुद्दा, कृषि एवं किसानों की समस्याओं, सीबीआई में उच्च पदों पर बैठे अधिकारियों के बीच झगड़े जैसे मुद्दे उठाकर सरकार को घेरने का प्रयास करेंगे। राज्यसभा में कांग्रेस के सचेतक भुवनेश्वर कालिता ने कहा, ‘‘हम संसद सत्र के दौरान राफेल समेत अन्य महत्वपूर्ण मुद्दे उठायेंगे और सरकार से जवाब मांगेंगे।’’ 

उन्होंने कहा कि संसद में उठाये जाने वाले विषयों की रूपरेखा पार्टी की बैठक में तय की जाएगी लेकिन किसानों के मुद्दे, सीबीआई में वर्तमान स्थिति, साम्प्रदायिक सौहार्द के समक्ष चुनौती जैसे विषय निश्चित तौर पर उठेंगे। 

वहीं, संसदीय कार्य मंत्री विजय गोयल ने कहा कि सरकार के लिए यह सत्र महत्वपूर्ण है। तीन अध्यादेश के संबंध में विधेयक आने हैं। ‘‘हम तीन तलाक संबंधी विधेयक पारित कराना चाहते हैं।’’ उन्होंने कहा कि लोकसभा में पेश किये गए करीब 15 विधेयक और राज्यसभा में पेश 9 विधेयक पारित होने हैं। अन्य महत्वपूर्ण नये विधेयक भी पेश किये जाने हैं और पारित होने हैं।

यह पूछे जाने पर कि, विपक्ष राफेल समेत कई मुद्दों पर सरकार को घेरने का प्रयास करेगा, गोयल ने कहा कि विपक्ष नियमों के तहत कोई भी मुद्दा उठा सकता है और सरकार इसके लिये तैयार है. सरकार का दामन और नियम दोनों साफ हैं। ‘‘हम नियमों के तहत चर्चा कराने को तैयार हैं।’’ 

संसद का शीतकालीन सत्र ऐसे समय में शुरू हो रहा है जब पांच राज्यों  मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना मिजोरम के विधानसभा चुनाव के नतीजे आने वाले हैं। इनमें मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी कांग्रेस के लिये महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं। समझा जाता है कि संसद सत्र पर चुनाव परिणाम का प्रभाव देखने को मिल सकता है।

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने 11 दिसंबर से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन सर्वदलीय बैठक बुलाई है। राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने एक दिन पहले 10 दिसंबर को सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इन बैठकों का उद्देश्य सदन का कामकाज सुचारु रूप से चलाने के लिए सर्वसम्मति बनाना है।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS