ब्रेकिंग न्यूज़
राजस्थान: साथ नजर आए सचिन पायलट और अशोक गहलोत, विधायक दल की बैठक कलराजस्थान विधानसभा चुनाव में राजकुमार शर्मा ने लगाई हैट्रिकआखिरकार सैफ अली खान ने देख ही ली सारा की 'केदारनाथ', करीना कपूर देंगी पार्टीछत्तीसगढ़: बीजेपी के हारते ही मुख्यमंत्री रमन सिंह के प्रमुख सचिव ने ली लंबी छुट्टीउपेंद्र कुशवाहा ने ट्वीट कर राहुल गांधी को दी बधाई, प्रधानमंत्री मोदी पर बोला हमलाभारत और रूस के बीच युद्धाभ्यास अविन्द्रा हुआ शुरूतीन राज्यों के रुझान में कांग्रेस को बढ़त, खुशी से झूमे कांग्रेस-आरजेडी कार्यकर्तावाजपेयी, अनंत, चटर्जी को श्रद्धांजलि देने के बाद दोनों सदनों की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित
राष्ट्रीय
CBI विवाद: आलोक वर्मा ने बंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया जवाब, सुनवाई कल
By Deshwani | Publish Date: 19/11/2018 4:37:54 PM
CBI विवाद: आलोक वर्मा ने बंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया जवाब, सुनवाई कल

नई दिल्ली। सीबीआई में छिड़े अंदरुनी विवाद का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचने के बाद मामले की लगातार सुनवाई हो रही है। आज मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई के निदेशक आलोक कुमार वर्मा से कहा कि उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों के बारे में सीवीसी की जांच रिपोर्ट पर जल्द से जल्द आज ही अपना जवाब दाखिल करें। न्यायालय ने स्पष्ट किया कि इस मामले के लिये मंगलवार को निर्धारित सुनवाई नहीं टाली जाएगी।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ को वर्मा के वकील गोपाल शंकरनारायणन ने सूचित किया कि सीबीआई निदेशक रजिस्ट्री में अपना जवाब दाखिल नहीं कर सके हैं। पीठ ने कहा, ‘‘हम तारीख आगे नहीं बढ़ायेंगे. आप जल्द से जल्द अपना जवाब दाखिल करें। हमें भी जवाब पढ़ना होगा.’’ इस पर गोपाल ने कहा कि आज दिन में ही जवाब दाखिल कर दिया जयेगा।
 
कोर्ट की फटकार लगने के बाद सीबीआई निदेशक आलोक कुमार वर्मा ने उन पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर केन्द्रीय सतर्कता आयोग की प्रारंभिक रिपोर्ट पर सोमवार को अपराह्न सीलबंद लिफाफे में अपना जवाब दाखिल कर दिया। इस मामले में न्यायालय मंगलवार को सुनवाई करेगा।
 
शीर्ष अदालत ने सीबीआई निदेशक के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों पर सीवीसी की प्रारंभिक रिपोर्ट पर 16 नवंबर को आलोक वर्मा को सीलबंद लिफाफे में सोमवार तक जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया था। इससे पहले, 16 नवंबर को न्यायालय ने कहा था कि सीवीसी ने अपनी जांच रिपोर्ट में कुछ ‘बहुत ही प्रतिकूल’ टिप्पणियां की हैं और वह कुछ आरोपों की आगे जांच करना चाहता है। इसके लिऐ उसे और समय चाहिए।
 
न्यायालय ने सीबीआई प्रमुख आलोक वर्मा के सभी अधिकार वापस लेने और उन्हें अवकाश पर भेजने के सरकार के फैसले को चुनौती देने वाली वर्मा की याचिका पर सुनवाई के दौरान पिछले शुक्रवार को यह निर्देश दिया था।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS