ब्रेकिंग न्यूज़
नाबालिग को मिली तालिबानी सजा, चीनी डालकर शरीर पर छोड़ दी चीटियांभारत के अहंकारी और नकारात्‍मक जवाब से निराश हूं', इमरान खान का मोदी सरकार पर हमलाराम मंदिर मुद्दे पर दिल्ली में साधु-संतों की बड़ी बैठक, कारसेवा पर हो सकता है फैसलाईरान में सैन्य परेड पर हमला, 9 सैनिकों समेत कई लोगों की मौतअमेरिका में घुस गया रूसी टोही विमान, फिर सेना में ऐसे मच गया हड़कंपडेई तूफान की चपेट में आधा हिंदुस्तान, 8 राज्यों में भारी बारिश का अलर्टपीएम मोदी और अनिल अंबानी ने रक्षाबलों पर 1,30,000 करोड़ की 'सर्जिकल स्ट्राइक' की : राहुल गांधीशिक्षाविदों से संवाद में बोले राहुल गांधी: कठिन परिस्थितियों में काम करने वाले शिक्षक देश के बेहद अहम संसाधन हैं
बिज़नेस
पैट्रोल-डीजल के बाद अब महंगी बिजली की भी पड़ सकती है मार
By Deshwani | Publish Date: 24/5/2018 11:38:51 AM
पैट्रोल-डीजल के बाद अब महंगी बिजली की भी पड़ सकती है मार

  कोलकाता। देश में थर्मल पावर की बढ़ती मांग और उसके मुताबिक कोयले की सप्लाई में कमी के चलते बिजली की कीमतें 2 साल के उच्चतम स्तर 6.20 रुपए प्रति यूनिट पर पहुंच गई हैं। कुछ दिन और यदि यही हाल रहा तो कई राज्यों के नागरिकों को बिजली का अधिक भुगतान करने के लिए तैयार रहना होगा। इससे पहले बिजली की प्रति यूनिट 6 रुपए कीमत 2016 में पहुंची थी।

 
पिछले सप्ताह की ही बात करें तो यह कीमत 4 रुपए प्रति यूनिट थी लेकिन गर्मी बढऩे पर मांग में इजाफा हुआ और उसके मुताबिक कोयले की सप्लाई न होने के चलते इसकी कीमत एक सप्ताह के भीतर 2 रुपए ज्यादा हो गई। पश्चिमी भारत से बिजली को उत्तर भारत के राज्यों में भेजने वाली ट्रांसमिशन लाइन फेल होने और उत्तरी राज्यों की ओर से थर्मल पावर की मांग में इजाफा होने के चलते सोमवार को कई राज्यों में प्रति यूनिट कीमत 8 रुपए तक पहुंच गई थी। फिलहाल यह कीमत अब 7.43 रुपए प्रति यूनिट है।
 
हालांकि उपभोक्ताओं का बिजली बिल कुल कितना बढ़ेगा, यह इस बात पर निर्भर करेगा कि राज्य की बिजली कम्पनियां अपनी खरीद का कितना बोझ कंज्यूमर पर डालना चाहती हैं। एक राज्य विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारी ने कहा कि अधिकतर मामलों में कम्पनियों की ओर से बोझ उपभोक्ताओं पर ही डाल दिया जाता है। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS