ब्रेकिंग न्यूज़
अदालत ने रमानी के खिलाफ एमजे अकबर के मानहानि मामले का लिया संज्ञानएनडी तिवारी का निधन, लंबी बीमारी के बाद जन्मदिन के दिन ही ली अंतिम सांसपुल के नीचे गिरा ट्रक, ड्राइवर और कंडक्टर की दर्दनाक मौतनवमी पर देउड़ी मंदिर में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने की पूजा, कहा- लोगों की सेवा ही मेरा लक्ष्यमहानायक अमिताभ बच्चन ने कुछ इस तरह की दुर्गापूजा, तस्वीरें हो रहीं वायरलमुजफ्फरपुर मामलाः बढ़ेंगी ब्रजेश ठाकुर की मुश्किलें, बेटे और पत्नी से भी होगी पूछताछसाईं बाबा की समाधि को हो रहे 100 साल, शताब्दी महोत्सव में शिरकत कर सकते हैं प्रधानमंत्री मोदीआकाश बने युवा ओलंपिक तीरंदाजी में रजत जीतने वाले पहले भारतीय
राष्ट्रीय
24 अप्रैल को मध्यप्रदेश से प्रधानमंत्री मोदी देंगे गांवों को सौगात
By Deshwani | Publish Date: 23/4/2018 6:14:50 PM
24 अप्रैल को मध्यप्रदेश से प्रधानमंत्री मोदी देंगे गांवों को सौगात

 भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कल 24 अप्रैल को पंचायती राज दिवस के अवसर पर मप्र के मंडला में होंगे। इस दौरान गांव रामनगर से देश के गांवों के लिए बड़ी घोषणा कर सकते हैं। आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र में हो रहे इस राष्ट्रीय स्तर के आयोजन में देशभर की 50 हजार से ज्यादा पंचायतों के प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी इन्हें संबोधित करेंगे। इस दो दिवसीय आयोजन का शुभारंभ आज केंद्रीय पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने किया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी कलेक्टरों को निर्देश दिए हैं कि गांवों में पीएम के संबोधन को लाइव करने का प्रबंध कराएं।

 
ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने बताया कि पंचायत प्रतिनिधियों के सम्मेलन में प्रधानमंत्री पंचायत प्रतिनिधियों को राष्ट्रीय पुरस्कार भी प्रदान करेंगे और राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान योजना का शुभारंभ भी करेंगे। प्रधानमंत्री के सम्बोधन का देश की लगभग ढाई लाख पंचायतों में सीधा प्रसारण किया जायेगा। तोमर ने बताया कि दो दिवसीय समारोह के पहले दिन जबलपुर में 'पंचायत की चौपाल में चर्चा' कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें पंचायतों में आर्थिक विकास, सामाजिक और सतत विकास लक्ष्य, युवा पंचायत, डिजिटल पंचायतों के माध्यम से ग्रामीण परिवर्तन और स्वच्छ भारत अभियान पर चर्चा की गई।
 
केंद्रीय मंत्री ने बताया कि देश की दो लाख 44 हजार ग्राम पंचायतों में ग्राम पंचायत विकास योजना (जीपीडीपी) तैयार की गई है, जिससे अच्छा संकेत मिलता है, लेकिन वहां तकनीक की समस्या है। काम में गति लाने और तकनीकी के उपयोग के लिए पंचायत प्रतिनिधियों को प्रशिक्षण देना जरुरी है। वर्तमान में जो व्यवस्था है, उसमें इस कार्य को पूरा करने में बहुत अधिक समय लगता है। सरकार चाहती है कि पंचायत चुनाव के 6 माह के अंदर ही प्रशिक्षण का कम से कम एक चरण पूरा कर कर लिया जाए। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायतों के कार्यालय भवन के निर्माण एवं तकनीकी सुदृढ़ीकरण पर अधिक ध्यान दिया जा रहा है और इसके लिए अलग से राशि का प्रावधान भी किया गया है।
 
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 23 अप्रैल को 8 जिलों के उन कलेक्टरों से चर्चा करेंगे। जिनसे 24 अप्रैल को पीएम मोदी चर्चा करने वाले हैं। मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों को सोमवार को भोपाल बुलाया है। मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों से कहा है कि वे पूरा अध्ययन करके जाएं। रामनगर में होने वाले कार्यक्रम में पहले पीएम का भाषण होगा। उसके बाद वे जनप्रतिनिधि एवं कलेक्टरों से चर्चा करेंगे।
 
प्रधानमंत्री की सभा में भीड़ जुटाने के लिए राज्य सरकार ने 27 जिलों के पंचायत के लोगों को बसों से ले जाने की तैयारी की है। जिन जिलों से भीड़ जाना है उनमें जबलपुर, कटनी, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला, बालाघाट, शहडोल, उमरिया, डिंडौरी, अनूपपुर, रीवा, सिंगरौली, सीधी, सतना, सागर, दमोह, पन्ना, छतरपुर, टीकमगढ़, होशंगाबाद, बैतूल, हरदा, भोपाल, सीहोर, रायसेन एवं विदिशा जिले के नाम शामिल हैं। इस संबंध में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस ने छह संभाग एवं 27 जिलों के कलेक्टरों को सीधे फरमान जारी किया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS