ब्रेकिंग न्यूज़
क्राइम ब्रांच के सामने आज पेश नहीं हुए दाती महाराज, मिला और 2 दिन का समयबालू के बिहार से बाहर जाने पर पूर्णत: रोक लगेगी : सुशील मोदीबोकारो में भारी मात्रा में नकली शराब व होलोग्राम बरामदमुख्यमंत्री केजरीवाल ने दिया सुरक्षा का आश्वासन, आइएएस अधिकारी चर्चा के लिए तैयारआर्मी चीफ रावत शहीद औरंगजेब के परिवार से मिले, पिता बोले-बेटे की मौत का चाहिए बदलासबसे कम उम्र के लॉयंस क्लब ऑफ कोलकाता के अध्यक्ष बने ललपनिया के आनंद तिवारीभागलपुर में शरारती तत्वों ने न्यायिक अधिकारियों के चैंबर को बनाया निशाना, रिकॉर्ड जलायामेडिकल कॉलेज दाखिला मामला: सुप्रीम कोर्ट ने लगाई बिहार सरकार को फटकार
राष्ट्रीय
भाषा देश को एक सूत्र में बांधती है : राष्ट्रपति
By Deshwani | Publish Date: 14/9/2017 2:53:41 PM
भाषा देश को एक सूत्र में बांधती है : राष्ट्रपति

 नई दिल्ली। देश का अस्तित्व हिन्दी पर निर्भर बताते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को कहा कि मजहब भले ही बांट सकता है, लेकिन भाषा देश को एक सूत्र में पिरोती है। कोविंद ने हिन्दी दिवस के अवसर पर आज यहां विज्ञान भवन में आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि हिन्दी पर हमारा अस्तित्व निर्भर करता है।

 
मजहब बांट सकता है, लेकिन भाषाएं हमेशा जोड़ती हैं। उन्होंने कहा कि भाषा से जो समीपता तथा निकटता आती है वह किसी अन्य चीज से नहीं आती। गृह मंत्रालय के राजभाषा विभाग द्वारा आयोजित समारोह की अध्यक्षता केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने की। केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज गंगाराम अहीर तथा गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू भी समारोह में उपस्थित थे।
राष्ट्रपति ने कहा कि देश का अस्तित्व हिन्दी पर ही निर्भर करता है। इसे समझाने के लिए उन्होंने जाने-माने शायर मोहम्मद इकबाल द्वारा लिखे गीत, सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा की अंतिम पंक्तियों का उदाहरण देते हुए कहा, हिन्दी हैं हम, हिन्दी हैं हम। उन्होंने कहा बस इतना ही रहने दीजिए। राष्ट्रपति ने बाद में पूरी पंक्ति बोलते हुए कहा कि इसमें वतन बाद में आता है, हिन्दी हैं हम, वतन है, हिन्दोस्तां हमारा।
 
कोविंद ने कहा कि हिन्दी देश की सामासिक संस्कृति को व्यक्त करने में पूरी तरह सक्षम है और इसके प्रचार-प्रसार के लिए हिन्दी बोलने वालों के साथ-साथ गैर हिन्दी भाषियों को भी महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। उन्होंने कहा कि यह भी कहा जा सकता है कि हिन्दी का अस्तित्व गैर हिन्दी भाषियों के हिन्दी के इस्तेमाल पर निर्भर करता है। इसके लिए हिन्दी बोलने वालों को दूसरी भाषाओं तथा क्षेत्रीय बोलियों को भी उचित सम्मान देना होगा।
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS