ब्रेकिंग न्यूज़
20 नवंबर को नेपाल में चुनाव को लेकर शुक्रवार से रविवार तक भारत-नेपाल सीमा सीलसीतामढ़ी के ड्रग इंस्पेक्टर नवीन कुमार को गिरफ्तार किया, दो लाख रुपये रिश्वत लेने का आरोप, पटना आवास से सोने की कटोरी और चम्मच बरामदजीकेसी का प्रथम राष्ट्रीय अधिवेशन अनुराग सक्सेना के नेतृत्व में उदयपुर में होगानेपाल चुनाव को लेकर रक्सौल बॉर्डर पर पुलिस ने चलाया जांच अभियानपटना आर्ट्स कॉलेज में आयोजित हुई संगीत संध्या में देव ज्योति घोष के गायन व बांसुरीवादक हर्षित में श्रोताओं को किया मंत्रमुग्धबिहार लोक सेवा आयोग का 2022-23 के सत्र में होने वाली परीक्षाओं के लिए संशोधित परीक्षा कैलेंडर जारी, 67 वीं मेन 29 दिसंबर सेपटना के सीआईएमपी ऑडिटोरियम में निर्यात जागरूकता पर क्षमता निर्माण कार्यक्रम में 180 से अधिक निर्यातकों ने भाग लियाराष्ट्रीय प्रयास नाट्य मेला का हुआ समापन - देवराज मुन्ना की रही धमाकेदार प्रस्तुति
राष्ट्रीय
छोटे व सीमांत किसानों के फायदे के लिए भारत सरकार कटिबद्ध- केंद्रीय कृषि मंत्री
By Deshwani | Publish Date: 28/9/2022 11:00:55 PM
छोटे व सीमांत किसानों के फायदे के लिए भारत सरकार कटिबद्ध- केंद्रीय कृषि मंत्री

 दिल्ली। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेंद्र सिंह बाली (इंडोनेशिया)  ने आज बाली (इंडोनेशिया) में जी-20 की बैठक में विभिन्न सत्रों में भारत का पक्ष रखते हुए उद्बोधन दिया। इस दौरान श्री तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार कृषि और खाद्य प्रणालियों के समक्ष स्थिरता संबंधी चुनौतियों से निपटने के लिए तत्‍पर है और इनके समाधान के लिए अनेक महत्वपूर्ण पहल की गई हैं। उन्होंने कहा कि छोटे व सीमांत किसानों के फायदे लिए भारत सरकार कटिबद्ध है और उनके कल्याण के लिए अनेक बड़ी योजनाएं चलाई जा रही है।

 
 
 
 
 
जी-20 की बैठक में अनुकूल व सतत कृषि एवं खाद्य प्रणालियों का निर्माण विषय पर श्री तोमर ने कहा कि भारत किसानों को आदान, प्रौद्योगिकी व बाजारों तक उनकी पहुंच में सुधार करके वर्तमान व भावी संकटों के प्रति सक्षम बनाने के लिए कटिबद्ध है। भारत अपने किसानों की आर्थिक अनुकूलता बढ़ाने के लिए छोटे व सीमांत किसानों को समूहों में एकजुट, कृषि अवसंरचना में निवेश व दुनिया में बड़ा फसल बीमा कार्यक्रम शुरू करने, कृषि-स्टार्टअप को बढ़ावा देने और कृषि के डिजिटलीकरण को सुविधाजनक बनाने जैसी विभिन्न गतिविधियां संचालित कर रहा है। भारत ने जलवायु अनुकूल कृषि परियोजना में राष्ट्रीय स्तर पर नवाचार शुरू किया है, जिसका उद्देश्य जलवायु-स्मार्ट कृषि पद्धतियों के कार्यान्वयन और विभिन्न फसलों की जलवायु अनुकूल किस्मों के विकास के माध्यम से किसानों को लाभ पहुंचाना है।
 
 
 
 
 
श्री तोमर ने कहा कि विषम जलवायु परिस्थितियों के प्रति मिलेट की सहन-क्षमता के साथ-साथ उनके पोषण संबंधी लाभों को देखते हुए भारत मिलेट की खेती को बढ़ावा दे रहा है। मिलेट के इन गुणों को मान्यता देते हुए संयुक्त राष्ट्र ने भारत के प्रस्ताव पर वर्ष 2023 को अंतरराष्ट्रीय पोषक-अनाज वर्ष घोषित किया है। उन्होंने, खाद्य विविधता प्रदान करने व कम संसाधनों में उगाए जा सकने वाले मिलेट की खपत को बढ़ावा देने की पहल के लिए सभी के समर्थन और सक्रिय भागीदारी का अनुरोध किया। श्री तोमर ने कहा कि अपने प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के लिए भारत बड़े पैमाने पर जैविक और प्राकृतिक कृषि पद्धतियों को बढ़ावा दे रहा हैं। श्री तोमर ने कहा कि आने वाली चुनौतियों को देखते हुए यह जरूरी है कि कृषि उत्पादन निरंतर रूप से बढ़ाने, खाद्य नुकसान कम करने, वैश्विक खाद्य आपूर्ति श्रृंखला मजबूत करने के लिए सभी मिल-जुलकर काम करें, ताकि हमारे छोटे और सीमांत किसानों को पर्याप्त आय सुनिश्चित की जा सकें। हमें मिलकर पारंपरिक ज्ञान का उपयोग करना होगा, उभरती प्रौद्योगिकियों और सर्वोत्तम पद्धतियों के आदान-प्रदान को मजबूत करना होगा तथा कृषि पारिस्थितिकी तंत्र को बदलने के लिए एक सक्षम नीतिगत वातावरण बनाना होगा।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS