ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल: देशभक्त राजभक्त समूह पर्सा ने वीरगंज महाबीर मंदिर के पास सम्मान कार्यक्रम का किया आयोजनमौसम विभाग: चक्रवाती तूफान निवार 11 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ रहाबंगलादेश: राष्ट्रपिता बंगबंधु शेख मोजिबुर्रहमान को श्रद्धांजलि देने के लिए कल ढाका में लगाई गई एक चित्र प्रदर्शनीटीम इंडिया की जर्सी में बीसीसीआई ने किए कुछ बदलावजान कुमार सानू के बयान पर कुमार सानू का आया रिएक्शन, कुमार सानू ने कहा- मैंने वो सब दिया जो कुछ जान की मां ने मांगा थामहापर्व छठ की समाप्ति के बाद जमा हुए जिले के वरिष्ठ क्रिकेट खिलाड़ी, हुआ फैंसी क्रिकेट मैच का आयोजनझारखंड: इन जिलों में कोरोना संक्रमण की दर में हुई काफी वृद्धिकोविड-19: मुख्‍यमंत्री अरविन्‍द केजरीवाल ने आज नई दिल्‍ली में सर्वदलीय बैठक की
राष्ट्रीय
राज्यों के चिकित्सकों को एम्स विशेषज्ञ कोविड-19 के बारे में मार्गदर्शन उपलब्ध कराएंगे
By Deshwani | Publish Date: 9/7/2020 1:04:16 PM
राज्यों के चिकित्सकों को एम्स विशेषज्ञ कोविड-19 के बारे में मार्गदर्शन उपलब्ध कराएंगे

दिल्ली नई दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान-एम्स के विशेषज्ञ चिकित्सक, राज्यों के अस्पतालों में आईसीयू में काम करने वाले डॉक्टरों को कोविड-19 पर विशेषज्ञ मार्गदर्शन और जानकारी मुहैया कराएंगे। इसके लिए दस अस्पतालों का चयन किया गया है, जिनमें नौ मुंबई और एक गोवा के हैं। यह टेली-परामर्श सुविधा पांच सौ से एक हजार बिस्‍तरों वाले 61 अन्‍य अस्पतालों में भी सप्ताह में दो बार उपलब्‍ध कराई जाएगी।

 
 
 
 
इस महीने की 31 तारीख तक राज्यों को यह सुविधा उपलब्‍ध कराने के लिए इन विशेषज्ञ आधारित टेली-परामर्श सत्रों का एक कैलेंडर तैयार किया गया है। हमारे संवाददाता ने खबर दी है कि ऐसे कुल 17 राज्यों को यह सुविधा मुहैया कराई जाएगी। ये राज्‍य हैं-दिल्ली, गुजरात, तेलंगाना, केरल, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, बिहार, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, हरियाणा, ओडिशा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, झारखंड और महाराष्ट्र। इस टेली परामर्श में सम्‍बंधित राज्य के स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक सहित प्रत्येक अस्पताल में आईसीयू के दो प्रभारी चिकित्‍सक भाग लेंगे। दिल्ली के एम्स में पल्मोनरी मेडिसिन के विभागध्‍यक्ष डॉक्‍टर अनंत मोहन ने आज टेली परामर्श के पहले सत्र को सम्‍बोधित किया। आकाशवाणी समाचार से विशेष बातचीत में उन्‍होंने कहा कि इस का उद्देश्‍य देश में मृत्‍यु दर को और नीचे लाना है। डॉक्‍टर मोहन ने कहा कि इस तकनीक से देशभर में डॉक्टरों को अधिकतम मरीजों का इलाज करने में मदद मिलेगी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS