ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोजमोतिहारी के झखिया में पुलिस ने घेराबंदी कर की कार्रवाई, शशि सहनी गिरफ्तार, 125 कार्टन अंग्रेजी शराब जब्तभोजपुरी सेंशेसन अक्षरा सिंह का नया गाना ‘कोरा में आजा छोरा’ रिलीज के साथ हुआ वायरल
झारखंड
रांची के नामकुम आर्मी परेड ग्राउंड में सेना के जवान और ग्रामीण सड़क निर्माण को लेकर आमने-सामने
By Deshwani | Publish Date: 19/10/2019 4:50:53 PM
रांची के नामकुम आर्मी परेड ग्राउंड में सेना के जवान और ग्रामीण सड़क निर्माण को लेकर आमने-सामने

रांची। राजधानी रांची के नामकुम में सेना और ग्रामीणों के बीच आज सुबह भिड़ंत हो गयी। दोनों पक्षों के बीच काफी देर तक नोंकझोंक हुई। घटना की सूचना मिलते ही स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची और मामले को शांत कराया।
 
दरअसल वर्ष 2016 में एयरपोर्ट से कुटियातू चौक तक सड़क निर्माण को मंजूरी दी गयी थी। सड़क का शिलान्यास भी हो गया लेकिन सड़क का निर्माण नहीं शुरू हो पाया। आर्मी परेड ग्राउंड की वजह से सेना सड़क निर्माण का विरोध कर रही थी। जून, 2019 में ग्रामीणों ने जबरन काम शुरू करवा दिया। सेना ने इसका विरोध किया और दोनों पक्षों के बीच तनावपूर्ण स्थिति उत्पन्न हो गयी थी। रांची से उपायुक्त, अनुमंडल पदाधिकारी और अन्य पदाधिकारियों के साथ-साथ सांसद तक को वहां जाना पड़ा था। अधिकारियों और सांसद की मौजूदगी में बैठक हुई और इस विवाद का शांतिपूर्ण हल ढूंढ़ने की बात कहकर बैठक खत्म हो गयी थी।
 
पांच माह बाद भी जब किसी ने सड़क निर्माण की पहल नहीं की, तो ग्रामीणों का धैर्य जवाब दे गया। शनिवार  को भारी संख्या में ग्रामीण पहुंचे और सड़क निर्माण शुरू कराने की कोशिश की। स्थायी रूप से मौजूद सेना के जवानों ने उनका विरोध किया। दोनों पक्ष आमने-सामने आ गये। सेना के जवानों ने कहा कि ग्रामीण जबरन सड़क बनाना चाहते हैं। यह आर्मी की जमीन है। उसकी अनुमति के बगैर यहां कोई भी निर्माण कार्य नहीं हो सकता। कमान के अधिकारी का तबादला हो गया है। नये अधिकारी को पूरे मामले की जानकारी नहीं है। जब तक वह पूरे मामले को समझ नहीं लेते और अधिकारियों के साथ कोई सर्वमान्य हल नहीं ढूंढ़ लेते, तब तक निर्माण कार्य शुरू न करें। सेना का यह भी कहना है कि यदि सड़क बननी है, तो आर्मी परेड ग्राउंड से कुछ दूर बने। इसके बाद ग्रामीण वहां से हट गये।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS