ब्रेकिंग न्यूज़
जीपीएफ पर सरकार ने घटाई ब्याज दर, जानिए अब कितना मिलेगा इंटरेस्टमार्क एस्पर होंगे अमेरिका के नए रक्षा मंत्रीउप्र के एक लाख सहायक शिक्षकों बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने पलटा इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसलासुपर- 30 के अभिनेता ऋतिक रोशन से मिले उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी और आनंद कुमारपूर्व प्रधानमंत्री स्व. चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर भाजपा में शामिल, अमित शाह से किया था संपर्कविश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला कल से, अर्घा से जलार्पण करेंगे कांवरियेयूपी भाजपा को मिला नया अध्यक्ष, स्वतंत्र देव सिंह को मिली जिम्मेदारीकर्नाटक संकट: बागी विधायकों की याचिका पर फैसला सुरक्षित, सर्वोच्च न्यायालय कल सुनाएगा फैसला
झारखंड
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस: योग को गांवों तक पहुंचाने का समय आ गया है: प्रधानमंत्री मोदी
By Deshwani | Publish Date: 21/6/2019 10:46:34 AM
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस: योग को गांवों तक पहुंचाने का समय आ गया है: प्रधानमंत्री मोदी

रांची। 5वें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर भारत समेत दुनियाभर में जगह-जगह योग के कार्यक्रम हो रहे हैं। केंद्र सरकार के साथ-साथ तमाम राज्य सरकारें जगह-जगह योग कार्यक्रम कर रही हैं। पांचवें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम की अगुवाई करने रांची आए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज प्रभात तारा मैदान में योग कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने योग की अहमियत बताते हुए इसे शहरों से गांवों और गरीब, आदिवासियों तक पहुंचाने की जरूरत बताई। 

 
योग शुरू करने से पहले प्रधानमंत्री ने योग शिविर को संबोधित करते कहा कि योग सबका है और सबके लिए है। आप सभी को, पूरे देश और दुनिया को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएं। योग के दुनिया भर में प्रसार में मीडिया के हमारे साथी, सोशल मीडिया से जुड़े लोग जिस तरह अहम भूमिका निभा रहे हैं, वो भी बहुत महत्वपूर्ण है। मैं उनका भी आभार व्यक्त करता हूं। 
 
इस बार 'योगा फॉर हार्ट केयर' की थीम पर यह आयोजन हो रहा है। इसे लेकर प्रधानमंत्री ने कहा कि अब मुझे आधुनिक योग की यात्रा शहरों से गांवों की तरफ ले जानी है, गरीब और आदिवासी के घर तक ले जानी है। उन्होंने कहा कि मुझे योग को गरीब और आदिवासी के जीवन का भी अभिन्न हिस्सा बनाना है। ये गरीब ही हैं जो बीमारी की वजह से सबसे ज्यादा कष्ट झेलते हैं। 
 
प्रधानमंत्री ने कहा कि आज के बदलते समय में, इलनेस से बचाव के साथ-साथ वेलनेस पर हमारा फोकस होना जरूरी है। यही शक्ति हमें योग से मिलती है, यही भावना योग की है, पुरातन भारतीय दर्शन की है। योग सिर्फ तभी नहीं होता जब हम आधा घंटा जमीन या मैट पर होते हैं। योग अनुशासन है, समर्पण है और इसका पालन पूरे जीवन करना होता है। योग आयु, रंग, जाति, संप्रदाय, मत, पंथ, अमीरी-गरीबी, प्रांत, सरहद के भेद से परे है। 
 
प्रधानमंत्री ने कहा कि आज हम यह कह सकते हैं कि भारत में योग के प्रति जागरुकता हर कोने तक, हर वर्ग तक पहुंची है। ड्रॉइंग रूम से बोर्ड रूम तक, शहरों के पार्क से लेकर स्पोर्ट कॉम्प्लेक्स तक, गली-कूचों से वेलने सेंटर्स तक आज चारों तरफ योग का अनुभव किया जा सकता है। 
 
देश के अलग-अलग शहरों में कई केंद्रीय मंत्रियों ने योग कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। गृह मंत्री अमित शाह ने हरियाणा के रोहतक में योग किया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और एचआरडी मिनिस्टर प्रकाश जावडेकर ने राजपथ पर योग किया। दूसरी तरफ, योग गुरु बाबा रामदेव ने महाराष्ट्र के नांदेड़ में लोगों को योग के गुर सिखाए।बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने दिल्ली में योग किया। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS