ब्रेकिंग न्यूज़
जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के अनेक भागों में भारी बर्फबारी, उत्तर भारत में भी शीतलहर का प्रकोपपटना गैंगरेप के आरोपित विपुल कुमार और मनीष कुमार ने कोर्ट में किया सरेंडर, अभी भी दो फरारनागरिकता संशोधन विधायक किसी भी हालत में पश्चिम बंगाल में लागू नहीं होगा: ममता बनर्जीस्ट्रीट डांसर 3d में ऐसा होगा श्रद्धा कपूर का लुक, वरुण धवन ने शेयर किया पहला पोस्टरसमस्तीपुर के दलसिंहसराय में महिला से दुष्कर्म के बाद हत्या, गेहूं के खेत में मिला शवराजधानी दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई इलाकों में भारी वर्षा, उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में रेड अलर्ट जारीपीएम मोदी ने संसद भवन पर आतंकी हमले में शहीदों को दी श्रद्धांजलिनागरिकता संशोधन विधेयक 2019 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी
राष्ट्रीय
आईपीएस अफसर संजीव भट्ट को उम्रकैद, 29 साल पहले हिरासत में मौत के मामले में दोषी
By Deshwani | Publish Date: 20/6/2019 3:38:21 PM
आईपीएस अफसर संजीव भट्ट को उम्रकैद, 29 साल पहले हिरासत में मौत के मामले में दोषी

अहमदाबाद/जामनगर। जामनगर जिला एवं सत्र न्यायालय ने पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट और एक अन्य पुलिस अधिकारी प्रवीण सिंह जाला को 1990 में हिरासत में हुई एक मौत के मामले में हत्या का दोषी पाया है। अदालत ने इस मामले में उन्हें आज उम्रकैद की सजा सुनाई है। 

 
मामले में विशेष सरकारी वकील तुषार गोकानी और मधु मेहता ने बताया, "अदालत ने प्रवीण सिंह जाला और संजीव भट्ट को आईपीसी की धारा 302 के तहत दोषी पाया और इस तरह उन्हें आईपीसी की धारा 302 के तहत उम्रकैद की सजा सुनाई। बाकी आरोपितों को धारा 323 और 506 के तहत दोषी पाया गया।" जज डीएम व्यास ने यह फैसला सुनाया और बाकी पांचों आरोपितों की सजा का इंतजार है। 
 
यह पूरा मामला 1990 का है जब संजीव भट्ट जामनगर में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के रूप में तैनात थे। उन्होंने लालकृष्ण आडवाणी द्वारा निकाली जा रही रथयात्रा के समय जामजोधपुर शहर में एक सांप्रदायिक दंगे के दौरान लगभग 150 लोगों को हिरासत में लिया था। हिरासत में लिये गए व्यक्तियों में से एक प्रभुदास वैष्णानी की अस्पताल में मौत हो गई थी। आरोप था कि उसकी मौत पुलिस यातना के कारण हुई थी। मृतक के भाई अमृतलाल वैष्णानी द्वारा भट्ट सहित आठ पुलिसकर्मियों के खिलाफ हिरासत में मौत की शिकायत दर्ज कराई गई थी। 
 
गुजरात उच्च न्यायालय की न्यायमूर्ति सोनिया गोकानी ने अप्रैल में मृतक के भाई द्वारा दायर विशेष आपराधिक आवेदन पर शीघ्र सुनवाई का आदेश दिया था। उन्होंने निर्देश दिया गया था कि मामले की सुनवाई दिन-प्रतिदिन के आधार पर की जाए। 1988 बैच के बर्खास्त आईपीएस अधिकारी भट्ट मौजूदा समय में पालनपुर जेल में बनासकांठा के 22 साल पुराने ड्रग प्लांटिंग मामले में न्यायिक हिरासत में हैं।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS