ब्रेकिंग न्यूज़
जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के अनेक भागों में भारी बर्फबारी, उत्तर भारत में भी शीतलहर का प्रकोपपटना गैंगरेप के आरोपित विपुल कुमार और मनीष कुमार ने कोर्ट में किया सरेंडर, अभी भी दो फरारनागरिकता संशोधन विधायक किसी भी हालत में पश्चिम बंगाल में लागू नहीं होगा: ममता बनर्जीस्ट्रीट डांसर 3d में ऐसा होगा श्रद्धा कपूर का लुक, वरुण धवन ने शेयर किया पहला पोस्टरसमस्तीपुर के दलसिंहसराय में महिला से दुष्कर्म के बाद हत्या, गेहूं के खेत में मिला शवराजधानी दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई इलाकों में भारी वर्षा, उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में रेड अलर्ट जारीपीएम मोदी ने संसद भवन पर आतंकी हमले में शहीदों को दी श्रद्धांजलिनागरिकता संशोधन विधेयक 2019 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरी
राष्ट्रीय
इमरान के संदेश पर प्रधानमंत्री मोदी का जवाब, कहा- आतंक का रास्‍ता छोड़ें पाकिस्तान, तभी बातचीत संभव
By Deshwani | Publish Date: 20/6/2019 11:23:09 AM
इमरान के संदेश पर प्रधानमंत्री मोदी का जवाब, कहा- आतंक का रास्‍ता छोड़ें पाकिस्तान, तभी बातचीत संभव

नई दिल्ली। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान और विदेश मंत्री एफएम कुरैशी के बधाई संदेश का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चिट्ठी लिखते हुए आतंक के माहौल का जिक्र किया है। उन्होंने लिखा, दोनों के बीच एक अनुकूल वातावरण बनाने पर पुनर्विचार करना चाहिए जो आतंक का रास्ता छोड़ने के बाद ही संभव है।

 
पत्र में कहा गया कि पाकिस्तान लगातार भारत से बातचीत की पेशकश कर रहा है, लेकिन भारत का स्टैंड साफ है। भारत का कहना है कि दोनों देशों के बीच संबंध तभी सुधर सकते हैं जब पाकिस्तान आतंकवाद पर ठोस कार्रवाई करके दिखाए।
 
उल्‍लेखनीय है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने आठ जून को अपने भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिख कर कहा कि कश्मीर मुद्दे सहित सभी सुलह योग्य समस्याओं के समाधान के लिए नई दिल्ली के साथ इस्लामाबाद वार्ता करना चाहता है। दरअसल, उससे एक दिन पहले भारत ने कहा था कि बिश्‍केक में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर बैठक से इतर दोनों नेताओं के बीच कोई द्विपक्षीय बैठक नहीं होगी। 
 
भारत के प्रधानमंत्री पद पर दूसरे कार्यकाल के लिए प्रधानमंत्री मोदी को बधाई देते हुए इमरान खान ने पत्र में कहा था कि दोनों राष्ट्रों के बीच वार्ता ही दोनों देशों के लोगों को गरीबी से उबरने में मदद करने का एकमात्र समाधान है तथा इसके लिए यह जरूरी है कि क्षेत्रीय विकास के लिए साथ मिल कर काम किया जाए। खान ने कहा था कि पाकिस्तान कश्मीर मुद्दा सहित सभी समस्याओं का समाधान चाहता है। मोदी के सत्ता में वापस आने के बाद यह दूसरा मौका है जब पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने दोनों देशों के लोगों की बेहतरी के लिए भारत के साथ मिल कर काम करने की आकांक्षा जताई थी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS