ब्रेकिंग न्यूज़
दिग्‍व‍िजय भोपाल से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव, 30 साल से यहां जीत नहीं पाई है कांग्रेसराम मनोहर लोहिया का जिक्र कर प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशानासुरक्षाबलों को सर्च अभियान के दौरान मिली सफलता, भारी मात्रा में विस्फोटक और हथियार बरामदहाइवा की चपेट में आने से युवक की मौत, विरोध में लोगों ने किया सड़क जामकांग्रेस की सरकार आई तो दस दिन में किसान का कर्जा होगा माफ: राहुल गांधीआईपीएल 2019: आईपीएल के शुरुआती 6 मैचों में नहीं खेलेंगे लसिथ मलिंगा, सामने आई ये वजहमणिकर्णिका' के बाद कंगना का बड़ा धमाका, जयललिता की बायोपिक से जुड़ा नामकरमबीर सिंह होंगे अगले नौसेना प्रमुख, सुनील लांबा 31 मई को हो रहे हैं रिटायर
झारखंड
रांची पहुंचा शहीद विजय का पार्थिव शरीर, शहीद की पत्नी और बेटे ने कहा- लेना चाहते हैं शहादत का बदला
By Deshwani | Publish Date: 16/2/2019 4:16:50 PM
रांची पहुंचा शहीद विजय का पार्थिव शरीर, शहीद की पत्नी और बेटे ने कहा- लेना चाहते हैं शहादत का बदला

रांची। पुलवामा आतंकी हमले में शहीद झारखंड के गुमला रहने वाले विजय सोरेंग का पार्थिव शरीर आज दोपहर 3:45 बजे चॉपर से रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर लाया गया। शहीद का पार्थिव शरीर आज सुबह करीब 10 बजे पटना एयरपोर्ट पर पहुंच गया। यहां से जिस विमान से शहीद का पार्थिव शरीर रांची लाया जा रहा था उसमें तकनीकी खराबी आ गई जिसके बाद झारखंड सरकार ने वायुसेना का चॉपर पटना भेजा था। यहां से उनका पार्थिव शरीर गुमला के बसिया ले जाया जाएगा। बसिया में पार्थिव शरीर का इंतजार कर रही शहीद की पत्नी और उनके बेटे ने कहा कि वे पति और पिता के शहादत का बदला लेना चाहते हैं।

 
रांची एयरपोर्ट पर शहीद के पार्थिव शरीर को राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू, मुख्यमत्री रघुवर दास के साथ झारखंड के मंत्री, सभी पार्टियों के सांसद और विधायक उन्हें श्रद्धांजलि देने के पहुंचे हैं। इसके अलावा एयरपोर्ट के बाहर आम जनता और स्थानीय लोगों की भी भीड़ जुटी रही।
 
 
मुख्यमंत्री रघुवर दास और मंत्रिमंडल के सभी सदस्य अपने एक महीने का वेतन पुलवामा में शहीद परिजनों को देंगे। इस संबंध में रघुवर दास ने ट्वीट कर जानकारी दी। इससे पहले रघुवर दास ने शहीद की पत्नी से फोन पर बात की थी और उन्हें हरसंभव मदद का आश्वासन दिया था।
 
शहीद विजय सोरेंग की पहली पत्नी कारमेला बा झारखंड आर्म्ड पुलिस 10 कंपनी एफ में हवलदार के पद पर रांची के डाेरंडा थाना में तैनात हैं। शहीद की पत्नी के कहा कि वे 15 दिन पहले ही छुट्टी बिताकर वो वापस जम्मू-कश्मीर गए थे। विजय सोरेंग की पत्नी कार्मेला सोरेंग ने कहा कि जैसे मेरे पति और उनके साथियों को आतंकवादियों ने विस्फोट कर उड़ाया है, उसी तरह सेना भी उनके घर में घुसकर मारे, तभी शहीदों को श्रद्धांजलि मिलेगी। कार्मेला जैप 10 में हवलदार हैं।  रांची में कार्मेला सरना टोली में एक किराए के मकान में रहती हैं। उनके तीन बच्चे हैं। बड़ा बेटा अरुण बिरास कॉलेज खूंटी में बीए की पढ़ाई कर रहा है। 
 
मझली बेटी बरखा आठवीं में और छोटा बेटा राहुल दूसरी कक्षा में छत्तीसगढ़ के बोर्डिंग स्कूल में पढ़ता है। शहीद विजय सोरेंग ने साल 2002 में सिमडेगा के कोचेडेगा निवासी विमला देवी के साथ रामरेखा धाम में पारंपरिक रीति रिवीज से दूसरी शादी की थी। दोनों के तीन बच्चे हैं। इनमें रेखा कुमारी, बरखा कुमारी और राहुल कुमार है। विमला बच्चों के साथ कोचेडेगा में मकान बनाकर रहती है। इधर, शहीद के पिता बिरीश सोरेंग और मां लक्ष्मी सोरेंग ने कहा कि मुझे गर्व है मेरा बेटा देश के लिए शहीद हुआ। पर सरकार को जल्द से जल्द इसका बदला लेना चाहिए।
 
 नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा शहीद विजय के अंतिम यात्रा में शामिल रहेंगे। गुमला के बसिया में विजय का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। शहीद के पैत्रृक निवास और रांची एयरपोर्ट के बाहर सुबह से ही लोगों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई। सभी वंदे मातरम और शहीद अमर रहे का नारा लगाते दिखे। वहीं पाकिस्तान मुर्दाबाद का भी नारा लगाया गया।
 
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने पुलवामा में शहीद हुए गुमला निवासी विजय सोरेंग के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी और परिजनों को 10 लाख रु. की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है। सीएम ने कहा कि पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस लेने का फैसला कर प्रधानमंत्री मोदी ने पाकिस्तान की कमर तोड़ने की पहल कर दी है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान व आतंकियों को ये याद रखना चाहिए कि जवानों की शहादत का बदला हम जरूर लेंगे। 
 
कार्मिक एवं प्रशासनिक सुधार विभाग के अपर मुख्य सचिव केके खंडेलवाल की अध्यक्षता में शुक्रवार को प्रोजेक्ट भवन में शोक सभा का आयोजन हुआ। इसमें कश्मीर में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। साथ ही निर्णय लिया गया कि राज्य सरकार के अधिकारी और कर्मचारी फरवरी माह के वेतन से एक दिन का वेतन शहीदों के सहायतार्थ मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करेंगे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS