ब्रेकिंग न्यूज़
दिग्‍व‍िजय भोपाल से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव, 30 साल से यहां जीत नहीं पाई है कांग्रेसराम मनोहर लोहिया का जिक्र कर प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशानासुरक्षाबलों को सर्च अभियान के दौरान मिली सफलता, भारी मात्रा में विस्फोटक और हथियार बरामदहाइवा की चपेट में आने से युवक की मौत, विरोध में लोगों ने किया सड़क जामकांग्रेस की सरकार आई तो दस दिन में किसान का कर्जा होगा माफ: राहुल गांधीआईपीएल 2019: आईपीएल के शुरुआती 6 मैचों में नहीं खेलेंगे लसिथ मलिंगा, सामने आई ये वजहमणिकर्णिका' के बाद कंगना का बड़ा धमाका, जयललिता की बायोपिक से जुड़ा नामकरमबीर सिंह होंगे अगले नौसेना प्रमुख, सुनील लांबा 31 मई को हो रहे हैं रिटायर
झारखंड
फिदायनी हमला में झारखंड के विजय भी शहीद, पत्नी से कहा था-पता नहीं लौट पाऊंगा कि नहीं
By Deshwani | Publish Date: 15/2/2019 11:16:46 AM
फिदायनी हमला में झारखंड के विजय भी शहीद, पत्नी से कहा था-पता नहीं लौट पाऊंगा कि नहीं

गुमला। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार शाम सुरक्षाबलों पर अब तक का सबसे बड़ा आतंकी हमला हुआ। इसमें सीआरपीएफ के 44 जवान शहीद हो गए। शहीदों में झारखंड स्थित गुमला जिले के विजय सोरेंग भी शामिल हैं। इधर, शहीद के पिता बिरीश सोरेंग ने कहा कि मुझे गर्व है मेरा बेटा देश के लिए शहीद हुआ। पर सरकार को जल्द से जल्द इसका बदला लेना चाहिए।

 
गुमला के बसिया प्रखंड के बसिया फरसमा गांव के विजय सोरेंग सीआरपीएफ में हवलदार के पद पर तैनात थे। उन्होंने गुरुवार दोपहर 12 बजे ही पत्नी बिमला से फोन पर बात की थी। उन्होंने कहा था कि बर्फबारी के बाद श्रीनगर का रास्ता दो दिन से बंद था। आज ही खुला है। हम लोग श्रीनगर जा रहे हैं। पता नहीं लौट पाएंगे कि नहीं, कुछ कह नहीं सकते। बच्चों और घर के सभी लोगों का ख्याल रखना।
 
विजय के भाई संजय महतो ने बताया कि विजय एक फरवरी को 8 दिन की छुट्‌टी लेकर घर आए थे। विजय के पांच बच्चे हैं। दो लड़के और तीन लड़कियां। सबसे बड़ा बेटा 16 साल का है। सबसे छोटी बेटी 2 साल की है। पिता बिरीश सोरेंग और भाई संजय किसान हैं। खबर मिलते ही परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। ग्रामीण शहीद के घर पर जमा होकर परिवार को दिलासा दे रहे हैं।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS