ब्रेकिंग न्यूज़
रणवीर सिंह की 'गली बॉय' की धुआंधार कमाई जारी, 80 करोड़ के पारअयोध्या मामला: 26 फरवरी से सुप्रीम कोर्ट में सीजेआई की पांच सदस्यीय बेंच करेगी सुनवाईभारत और सऊदी अरब के बीच हुए पांच समझौते, प्रिंस सलमान ने भारत को सहयोग का किया वादाशहीद परिवार को सांत्वना देने पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंकाजैश-ए-मोहम्मद पर कार्रवाई का विरोध नहीं करे पाकिस्तान: अमेरिकामनी लांड्रिंग के मामले में ईडी के समक्ष पेश हुए राबर्ट वाड्रासरकारी नौकरी में गरीब सवर्णों को मिलेगा फायदा, लागू हुआ सवर्ण आरक्षणमशहूर साहित्यकार नामवर सिंह के निधन पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जताया शोक
झारखंड
मुठभेड़ में मारा गया दस लाख का इनामी नक्सली तारा दा, एसपी अमरजीत बलिहार का था हत्यारा
By Deshwani | Publish Date: 14/1/2019 6:21:53 PM
मुठभेड़ में मारा गया दस लाख का इनामी नक्सली तारा दा, एसपी अमरजीत बलिहार का था हत्यारा

दुमका। जिले के नक्सल प्रभावित शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र के छातुपाड़ा गांव के बाहर रविवार को पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हो गई। इस दौरान पुलिस ने भाकपा माओवादी के जोनल कमांडर सहदेव राय उर्फ ताला दा को मार गिराया। एसपी अमरजीत बलिहार हत्यारा व संताल परगना में लाल आतंक का पर्याय बन चुका ताला दा 10 लाख रुपए का इनामी था।

 
ताला दा पर नक्सल से संबंधित करीब 50 मामले दर्ज हैं। दो जुलाई 2013 को पाकुड़ के तत्कालीन एसपी अमरजीत बलिहार की हत्या के बाद पुलिस उसकी सरगर्मी से तलाश कर रही थी। कई बार पुलिस से उसका आमना-सामना हुआ लेकिन हर बार वह बच निकलता था। इस बार सटीक सूचना के कारण उसे भागने का मौका तक नहीं मिला। पुलिस ने ताला को मारकर प्रमंडल में नक्सलियों की कमर तोड़ दी।
 
मौके पर ताला दा अपने करीब बीस साथियों के साथ कैंप किए हुए था। पुलिस की गोली से कई नक्सलियों के घायल होने की भी सूचना है। पुलिस ने घटनास्थल से एक एके 47 और एक इंसास बरामद किया है। इसके अलावा कपड़ा व बैग आदि बरामद हुए हैं। करीब 30 वर्षीय ताला दा काठीकुंड के बड़ा सरुवापानी गांव का रहने वाला था। एसएसबी की टीम खोजी कुत्तों की मदद से जंगल में सर्च अभियान चला रही है।
 
शनिवार की शाम एसपी वाई एस रमेश को सूचना मिली कि ताला दा का दस्ता जंगल में कैंप किए हुए है। सूचना सटीक होने के बाद पुलिस और एसएसबी की टीम ने संयुक्त ऑपरेशन चलाया। जंगल को चारों अोर से घेर कर सर्च अभियान शुरू किया गया। चारों ओर से घेराबंदी करने के बाद पुलिस जंगल के रास्ते पहाड़ से नीचे उतर रही थी। करीब चार बजे एसएसबी के दो जवानों के साथ आगे बढ़ रहे जामा थाना प्रभारी फागो होरो का सामना ताला दा और विजय से हो गया। ताला ने जैसे ही गोली चलाने का प्रयास किया तब तक पुलिस की गोली उसे लग चुकी थी। गोली लगते ही उसकी मौत हो गई।
 
मुठभेड़ स्थल पर कई जगह खून गिरे हुए मिले। हालांकि ताला के दस्ता में शामिल अन्य नक्सली फायरिंग करते हुए जंगल के रास्ते भाग निकले। सूचना मिलते ही डीआईजी राजकुमार लाकड़ा और एसपी वाई एस रमेश भी पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और अभियान को और तेज किया गया। भाग निकले नक्सलियों की तलाश में खोजी कुत्तों के साथ एसएसबी की टीम जंगल में सर्च अभियान चला रही है।
 
संताल परगना प्रक्षेत्र के डीआईजी राजकुमार लकड़ा ने बताया कि पुलिस के लिए एक बड़ी सफलता है। ताला के मारे जाने से इस इलाके में नक्सलियों की कमर टूट गई है। नक्सलियों के खिलाफ इस तरह का अभियान चलता रहेगा। पुलिस और एसएसबी जवानों की मदद से यह बड़ी सफलता मिली है।
 
एसपी वाई एस रमेश ने बताया कि सूचना मिली थी कि नक्सली दस्ता रंगदारी लेने के लिए आया हुआ है। रविवार की  सुबह सात बजे मुठभेड़ के बाद ताला दा को मार गिराया गया। सर्च अभियान चलाया जा रहा है। कई स्थलों पर खून के निशान मिले हैं। बड़ी मात्रा में गोली बरामद हुई है। इसका आंकलन किया जा रहा है। पांच जगह से बैग बरामद हुआ है। बीस की संख्या में नक्सली थे, जिनमें तीन महिलाएं भी शामिल हैं। जंगल की घेराबंदी कर सर्च अभियान चलाया जा रहा है। दोनों ओर से करीब 500 राउंड गोली चली है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS