झारखंड
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा राज्य की तीन लाख महिलाओं को रोजगार देगी सरकार
By Deshwani | Publish Date: 17/2/2018 5:06:23 PM
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा राज्य की तीन लाख महिलाओं को रोजगार देगी सरकार

नामकुम (रांची) । मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने में किसानों और मजदूरों का महत्वपूर्ण योगदान है। समृद्ध राज्य में गरीबी पल रही है, जब तक राज्य के किसान समृद्ध और खुशहाल नहीं होंगे, राज्य समृद्ध नहीं हो सकता है। सरकार खुशहाल झारखंड बनाने की दिशा में काम कर रही है। राज्य की तीन लाख महिलाओं को सरकार रोजगार से जोड़ेगी। कहा कि लाह उत्पादन को इनकम टैक्स फ्री करने पर विचार किया जा रहा है। झारखंड की तरह केंद्र में भी लाह बोर्ड का गठन हो इसके लिए केंद्र से बात की जाएगी।

 
सीएम नामकुम स्थित प्राकृतिक राल एवं गोंद संस्थान में किसान मेला, तकनीक व मशीन प्रदर्शनी का उद्घाटन करने के बाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री का सपना है कि 2022 तक देश के किसानों की आय दोगुनी हो, यह सिर्फ खेती से संभव नहीं है। इसके लिए किसानों को लाह उत्पादन, मधुमक्खी पालन, बागवानी, पशुपालन और वनोत्पाद के क्षेत्र में भी काम करना होगा। यह झारखंड में संभव है।
उत्पादन पर ध्यान दें किसान, बाजार की व्यवस्था सरकार करेगी मुख्यमंत्री ने कहा कि किसान सिर्फ उत्पादन पर ध्यान दें, प्रसंस्करण और बाजार की व्यवस्था सरकार करेगी। सरकार ने लाह, मधुमक्खी, तसर और हैंडीक्राफ्ट के विकास के लिए मुख्यमंत्री उद्यमी बोर्ड का गठन किया है। जल्द ही 100 प्रोसेसिंग प्लांट की स्थापना कराई जाएगी। लाह के माध्यम से देश-विदेश में राज्य के किसान अपनी पहचान बना सकते हैं। मुख्यमंत्री ने नक्सल प्रभावित पलामू, खूंटी, गुमला, सिमडेगा, रामगढ़ व गढ़वा जिले के किसानों को लाह की खेती से जोडऩे पर जोर दिया।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने मीठी क्रांति की शुरुआत की है। इसके तहत केंद्र सरकार के द्वारा राज्य में ढाई लाख मधुमक्खी पालन के बक्सों का वितरण किया जाएगा। सरकार ने 600 मास्टर ट्रेनर तैयार किए हैं जो मीठी क्रांति को रफ्तार देंगे। राज्य सरकार जल्द ही पतंजलि से ओएमयू करने जा रही है। इसके तहत राज्य में उत्पादित शहद की खरीदारी पतंजलि करेगी। सीएस मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने कहा कि लाह किसान राज्य के गौरव हैं। लाह नकदी फसल है। लाह पेड़ों में लगा बैंक है। किसान लाह का जितना ज्यादा उत्पादन करेंगे, सरकार उतनी ही ज्यादा सुविधा उन्हें मुहैया कराएगी। इससे पूर्व संस्थान के निदेशक डॉ. केवलकृष्ण शर्मा ने कहा कि झारखंड देश का सबसे बड़ा लाह उत्पादक राज्य है।
 
कार्यक्रम के दौरान लाह की खेती में उत्कृष्ट योगदान के लिए किसानों को सम्मानित किया गया। इसमें खूंटी के जीतेंद्र सिंह मुंडा, टीपारू मुंडा, रांची के संदीप टोप्पो, छत्तीसगढ़ के प्रकाशचंद्र निषाद, भोजराज साहू, जनकराम रात्रे शामिल हैं। इसके अलावा लाह प्रोत्साहन एग्जीक्यूटिव अवार्ड मध्यप्रदेश के सीएल पार्डी, छत्तीसगढ़ के राजीव लोचन नायक, लाह प्रोत्साहन संस्था पुरस्कार उद्योगिनी रांची एवं सहभागी समाजसेवी संस्था, कांकेर छत्तीसगढ़ को दिया गया। उत्कृष्ट लाख उद्यमी पुरस्कार सुमित अग्रवाल, सर्वश्री डी मनोहरलाल प्रालि. कोलकाता को दिया गया।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS