ब्रेकिंग न्यूज़
दुष्कर्म के दोषी आसाराम को अभी भी उनके अंधभक्त मान रहे पाक साफ, कर रहे हवनदुल्हन ने शादी मंडप में शादी करने से किया इनकार, दूल्हे की दिमागी हालत खराबबिहार सरकार जल्द करें गन्ना किसानों के बकाया का भुगतान : हाइकोर्टनाबालिग से बलात्कार के मामले आसाराम को उम्रकैद, बाकी दोषियों को 20-20 साल की सजाकुत्तों-बंदरों से परेशान हुआ एम्स के डॉक्टर और मरीज, मेनका गांधी को लिखा पत्रमोदी-माल्या पर शिकंजा कसेगी ईडी, संपत्ति कुर्क करने के लिए नए अध्यादेश की तैयारीकर्नाटक चुनाव: जदयू ने जारी की दूसरी लिस्ट, 12 उम्मीदवारों के नामों की घोषणाभारत और चीन के बीच मतभेद विवादों में नहीं बदलना चाहिए : रक्षामंत्री
झारखंड
विस सत्र के दूसरे दिन विपक्ष का हंगामा, प्रश्नोत्तर काल किया बाधित
By Deshwani | Publish Date: 13/12/2017 7:43:28 PM
विस सत्र के दूसरे दिन विपक्ष का हंगामा, प्रश्नोत्तर काल किया बाधित

रांची, (हि.स.)। झारखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन बुधवार को प्रश्नोत्तर काल की कार्यवाही पूरी तरह से बाधित रही। सत्ता पक्ष के सदस्यों ने चुंबन प्रतियोगिता को लेकर जहां सदन में चर्चा कराने की मांग की वहीं झामुमो विधायक भूमि संशोधन अधिग्रहण बिल को वापस लेने की मांग को लेकर वेल में पहुंच गए। 
विधानसभा की कार्यवाही दिन के 11 बजे शुरू होने पर झाविमो विधायक प्रदीप यादव ने गोड्डा में प्रस्तावित अडाणी पावर प्लांट के लिए भूमि अधिग्रहण मामले में राज्य सरकार पर जोर जबर्दस्ती का आरोप लगाते हुए कार्य स्थगन प्रस्ताव के तहत चर्चा कराने की मांग की। भाजपा के राधाकृष्ण किशोर ने पाकुड़ जिले में झामुमो विधायक साइमन मरांडी द्वारा आयोजित चुंबन प्रतियोगिता पर नाराजगी व्यक्त करते हुए इस मसले पर सदन में चर्चा कराने की मांग की । उन्होंने कहा कि यह आधी आबादी का अपमान है और सदन में इस पर चर्चा होनी चाहिए कि इस तरह के कार्यक्रम समाज के लिए कितने उपयुक्त हैं। 
विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव ने कहा कि सदन में कार्य स्थगन के चार प्रस्ताव आए हैं, जिनमें झामुमो विधायक अमित कुमार महतो द्वारा सदन में पारित भू-अर्जन संशोधन विधेयक के औचित्य पर सवाल उठाया गया है और इसे वापस लेने की मांग की गई है। उन्होंने कहा कि यह विधेयक सदन में चर्चा के बाद ही पारित हुआ है और अब दोबारा इस विधेयक पर चर्चा कराना न्यायसंगत नहीं होगा। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि झामुमो के ही जगन्नाथ महतो द्वारा स्थानीय नीति 2016 में किए गए प्रावधान पर सवाल उठाते हुए कहा गया है कि इस नीति के कारण झारखंड के आदिवासियों और मूलवासियों को नौकरी नहीं मिल पा रही है। इसके अलावा झारखंड के लोगों को नौकरी से वंचित रह जाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि यह कार्य स्थगन आज की तिथि में समसामयिक नहीं है। इसलिए इसे भी अमान्य किया जाता है।
उन्होंने कहा कि झारखंड विकास मोर्चा विधायक प्रदीप यादव द्वारा गोड्डा में प्रस्तावित पावर प्लांट के लिए भूमि अधिग्रहण करने के दौरान रैयतों को प्रताड़ित करने और भय तथा डर का माहौल बन जाने की सूचना दी है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि यह कार्य स्थगन भी लोक महत्व का नहीं है, इसलिए इसे भी अमान्य किया जाता है। विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि झामुमो के दीपक बिरुवा ने भी भूमि अधिग्रहण संशोधन विधेयक को लेकर अराजकता की स्थिति उत्पन्न होने की बात कही है। इस कार्य स्थगन को भी अमान्य किया जाता है। 
विधानसभा अध्यक्ष ने पक्ष-विपक्ष के शोर-शराबा कर रहे सदस्यों को शांत करा कर कार्यवाही को सुचारू रूप से चलने देने का आग्रह किया लेकिन झामुमो के कई सदस्य वेल में पहुंच गए। इस बीच विधानसभा अध्यक्ष ने कांग्रेस के सुखदेव भगत को प्रश्न पूछने को कहा लेकिन झामुमो सदस्यों द्वारा किए जा रहे शोर शराबे के कारण कार्यवाही 12.30 बजे तक स्थगित करनी पड़ गई। विधानसभा की कार्यवाही दोबारा शुरू होने पर झामुमो के कई सदस्य फिर से वेल में पहुंच गए। इस बीच संसदीय कार्य मंत्री सरयू राय ने चालू वित्त वर्ष के लिए 2761.41 करोड़ रुपए से अधिक का द्वितीय अनुपूरक बजट सभा पटल पर रखा। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने विधानसभा की कार्यवाही कल सवेरे ग्यारह बजे तक के लिए स्थगित करने की घोषणा की। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS