ब्रेकिंग न्यूज़
झारखंड में बिहार सहित अन्य राज्यों से आनेवाली बस की एंट्री नहीं, निजी वाहनों को भी लेना होगा ई-पासमोतिहारी के कोटवा में ट्रक व कार में भीषण टक्कर, एक की मौत चार अन्य घायल, दो की स्थित गंभीरबिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोज
अंतरराष्ट्रीय
कोरोना वायरस के प्रतिकूल आर्थिक प्रभाव से निपटने के लिए अमरीकी राष्ट्रपति ने अरबों डॉलर की आपातकालीन आर्थिक सहायता विधेयक पर किए हस्ताक्षर
By Deshwani | Publish Date: 19/3/2020 4:48:19 PM
कोरोना वायरस के प्रतिकूल आर्थिक प्रभाव से निपटने के लिए अमरीकी राष्ट्रपति ने अरबों डॉलर की आपातकालीन आर्थिक सहायता विधेयक पर किए हस्ताक्षर

नई दिल्ली अमरीका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने नोवेल कोरोना वायरस के कारण प्रतिकूल आर्थिक परिस्थितियों का सामना कर रहे अमरीकी लोगों की मदद के लिए अरबो डॉलर की आपातकालीन आर्थिक सहायता संबंधी विधेयक पर हस्‍ताक्षर किये हैं। फैमिलीज़ फर्स्‍ट कोरोना वायरस रिस्‍पांस एक्‍ट के नाम से लाए गए विधेयक के तहत प्रभावित कर्मियों को बीमार होने पर सवैतनिक छुट्टी देने और कोविड-19 का परीक्षण मुफ्त कराने के प्रावधान हैं। 

 
 
 
इसके जरिये अमरीकी सरकार की ओर से नोवेल कोरोना की महामारी से निपटने के लिए जारी प्रयासों के तहत बेरोजगारी संबंधी बीमा, खाद्य सहायता और चिकित्‍स‍कीय सहायता के लिए रकम को भी प्रोत्‍साहन मिलेगा। राष्‍ट्रपति ट्रंप ने कल एक बयान में कहा कि उन्‍होंने जिस विधेयक पर हस्‍ताक्षर किये हैं उससे आपातकालीन अनुपूरक विनियोग की व्‍यवस्‍था होगी और कानून में बदलाव से राष्‍ट्र को महामारी से निपटने में मदद मिलेगी। 
 
 
 
प्रतिनिधि सभा और सीनेट से पारित इस कानून को नोवेल कोरोना वायरस से निपटने के अमरीकी संघीय सरकार के प्रयासों को बढ़ावा देने के लिए तैयार किया गया है। इससे वायरस के कारण अमरीकी लोगों के स्‍वास्‍थ्‍य और आर्थिक सुरक्षा पर होने वाले असर पर भी ध्‍यान दिया जा सकेगा। व्‍हाइट हाउस के अनुसार इस कानून के माध्‍यम से सुनिश्चित किया गया है कि वायरस से प्रभावित अमरीकी परिवारों और व्‍यवसायों को आवश्‍यकता पड़ने पर ठोस मदद मिल सके।
 
 
 
इस विधेयक में आर्थिक स्‍थि‍ति से परे जाकर उन सभी योग्‍य कर्मियों के लिए नोवेल कोरोना वायरस के मुफ्त परीक्षण की सुविधा उपलब्‍ध कराई जायेगी, जो बीमार हैं, सबसे अलग रह रहे हैं, किसी पीडि़त व्‍यक्ति की तीमारदारी कर रहे हैं या किसी ऐसे बच्‍चे का ध्‍यान रख रहे हैं जिसका स्‍कूल बंद हो चुका है। उन सभी व्‍यक्तियों को वेतन का भुगतान जारी रखा जायेगा। अमरीका के रोग नियंत्रण और रोकथाम केन्‍द्रों के अनुसार वहां फिलहाल नोवेल कोरोना वायरस के कम से कम आठ हजार 736 मरीज मौजूद हैं और एक सौ उनचास लोगों की मृत्‍यु हो चुकी है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS