ब्रेकिंग न्यूज़
उड़ीसा में महिलाओं और बच्चों से संबंधित मामलों की सुनवाई के लिए बनाए जाएंगे 45 नई फास्ट ट्रैक अदालतेंअब हम उन्हें चाचा नहीं बल्कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कहेंगे: तेजस्वी यादववेडिंग एनिवर्सरी पर अनुष्का-विराट हुए रोमांटि‍क, शेयर की ये बेहद रोमांटिक तस्वीरवेडिंग एनिवर्सरी पर अनुष्का-विराट हुए रोमांटि‍क, शेयर की ये बेहद रोमांटिक तस्वीरवेडिंग एनिवर्सरी पर अनुष्का-विराट हुए रोमांटि‍क, शेयर की ये बेहद रोमांटिक तस्वीरअब हम उन्हें चाचा नहीं बल्कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कहेंगे: तेजस्वी यादवबेतिया में यौन शोषण के उपरान्त शादी के दवाब पर अरमान ने रोबिना को जलायारक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा की आतंकवाद को अपनी कार्य नीति का हिस्सा बना लिया पाकिस्तान
अंतरराष्ट्रीय
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प का विवादित बयान, एक बार फिर लगा नस्लवाद का आरोप
By Deshwani | Publish Date: 15/7/2019 5:18:59 PM
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प का विवादित बयान, एक बार फिर लगा नस्लवाद का आरोप

लॉस एंजेल्स। राष्ट्रपति डोनाल ट्रम्प ने प्रतिपक्ष डेमोक्रेटिक पार्टी के कुछ सांसदों का नाम लिए बिना कहा कि 'अपने घर जाएं, जहां से आए थे।' ट्रम्प के इस बयान के बाद डेमोक्रेटिक पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को एक बार फिर राष्ट्रपति को नस्लवादी कहने का मौक़ा मिल गया है।

 
ट्रम्प ने पिछले वर्ष अफ़्रीका के कुछ देशों को अभद्र उच्चारण के साथ नस्लवादी कहलाने पर तंज झेला था। अमेरिकी राष्ट्रपति ने रविवार को एक ट्वीट में डेमोक्रेटिक पार्टी की उन प्रगतिशील युवा महिला सांसदों पर कटाक्ष किया है, जो कांग्रेस के निचले सदन में पहली बार चुन कर आई हैं। इन महिला सांसदों में एलेक्जेंडिया ओकेज़ो-कोर्टेज़ (न्यूयॉर्क), इलहन ओमार (मिनिसोटा), रशिदा टलैब (मिशिगन) हैं। 
 
ट्रंप ने ट्वीट में किसी भी महिला सांसद का नाम लिए बिना कहा कि ये ऐसे देश से आई हैं, जो निहायत तौर पर झंझावतों से जूझ रहे हैं, निकृष्ट हैं, महाभ्रष्ट और अकुशल होने के कारण दुनिया में कहीं भी आदर योग्य नहीं हैं। इसके विपरीत अमेरिका दुनिया में अत्यंत शक्तिशाली देश है। बेहतर होगा कि वे अपने देश के नवनिर्माण में योगदान दें।
 
विदित हो कि ओकेज़ो कोर्टेज़ न्यू यॉर्क में पैदा हुईं और अमेरिकी नागरिक है, पर वह पुएर्तो रिकोवंशी हैं। टलैब डेटराइट में पैदा हुईं अैर अमेरिकी नागरिक हैं,लेकिन पूर्वज फिलिस्तीन के थे। इनके अलावा अश्वेत महिला ओमार हिंसा के शिकार सोमालिया की मूलवंशी हैं, लेकिन छोटी उम्र में अमेरिका आ गई थीं।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS