ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में मोतिहारी की आदापुर पुलिस ने पाच करोड़ की चरस के साथ पांच नेपाली नागरिक को पकड़ाजिला प्रशासन ने अंतरजातीय विवाह करने वाले 10 दंपत्तियों को बतौर प्रोत्साहन 7.75 लाख की राशि प्रदान कियादैवीय आपदा, बेघर और कच्चे घरों में रहने वाले गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत निःशुल्क आवास उपलब्धदिनेशलाल यादव निरहुआ ने की बिहार में 500 थियेटर के साथ एजुकेशन को जोड़ने की पहलविभिन्न समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर स्वच्छ रक्सौल संस्था द्वारा धरना आज तीसरा दिन भी जारी रहाशराब कारोबारी और पुलिस की कथित चूहा बिल्ली के खेल में हुई दुर्घटना में एक तेज रफ्तार होण्डा कार ने तीन लोगों को रौंदा, एक की मौतदूरदर्शन की मशहूर एंकर नीलम शर्मा का निधन, कैंसर से थीं पीड़ितकुशीनगर में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या, क्षेत्र में फैली सनसनी
अंतरराष्ट्रीय
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प का विवादित बयान, एक बार फिर लगा नस्लवाद का आरोप
By Deshwani | Publish Date: 15/7/2019 5:18:59 PM
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प का विवादित बयान, एक बार फिर लगा नस्लवाद का आरोप

लॉस एंजेल्स। राष्ट्रपति डोनाल ट्रम्प ने प्रतिपक्ष डेमोक्रेटिक पार्टी के कुछ सांसदों का नाम लिए बिना कहा कि 'अपने घर जाएं, जहां से आए थे।' ट्रम्प के इस बयान के बाद डेमोक्रेटिक पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को एक बार फिर राष्ट्रपति को नस्लवादी कहने का मौक़ा मिल गया है।

 
ट्रम्प ने पिछले वर्ष अफ़्रीका के कुछ देशों को अभद्र उच्चारण के साथ नस्लवादी कहलाने पर तंज झेला था। अमेरिकी राष्ट्रपति ने रविवार को एक ट्वीट में डेमोक्रेटिक पार्टी की उन प्रगतिशील युवा महिला सांसदों पर कटाक्ष किया है, जो कांग्रेस के निचले सदन में पहली बार चुन कर आई हैं। इन महिला सांसदों में एलेक्जेंडिया ओकेज़ो-कोर्टेज़ (न्यूयॉर्क), इलहन ओमार (मिनिसोटा), रशिदा टलैब (मिशिगन) हैं। 
 
ट्रंप ने ट्वीट में किसी भी महिला सांसद का नाम लिए बिना कहा कि ये ऐसे देश से आई हैं, जो निहायत तौर पर झंझावतों से जूझ रहे हैं, निकृष्ट हैं, महाभ्रष्ट और अकुशल होने के कारण दुनिया में कहीं भी आदर योग्य नहीं हैं। इसके विपरीत अमेरिका दुनिया में अत्यंत शक्तिशाली देश है। बेहतर होगा कि वे अपने देश के नवनिर्माण में योगदान दें।
 
विदित हो कि ओकेज़ो कोर्टेज़ न्यू यॉर्क में पैदा हुईं और अमेरिकी नागरिक है, पर वह पुएर्तो रिकोवंशी हैं। टलैब डेटराइट में पैदा हुईं अैर अमेरिकी नागरिक हैं,लेकिन पूर्वज फिलिस्तीन के थे। इनके अलावा अश्वेत महिला ओमार हिंसा के शिकार सोमालिया की मूलवंशी हैं, लेकिन छोटी उम्र में अमेरिका आ गई थीं।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS