ब्रेकिंग न्यूज़
हॉकी इंडिया ने आयरलैंड दौरे के लिए जूनियर महिला हॉकी टीम की घोषणा, सुमन होंगी कप्तानबॉलीवुड में कमबैक करेगी मशहूर अभिनेत्री मधुअरुणाचल में उग्रवादियों का हमला, एनपीपी विधायक समेत 11 लोगों की मौत, तीन घायलदुष्कर्म, हत्या का आरोपी थाना परिसर से पुलिस को चकमा देकर फरारसुप्रीम कोर्ट ने ईवीएम और वीवीपीएटी के शत-प्रतिशत मिलान की मांग वाली याचिका खारिज की, बताया बकवासएनडीएस विशेष बलों ने चार आतंकियों को किया ढेररेलवे ने महिला यात्रियों को दी खास सुविधा! मुसीबत में ट्रेन के गार्ड और मोटरमैन से कर सकेंगी संपर्कमातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य केंद्र में तीन नवजात की मौत, परिजनों ने मचाया हंगामा
अंतरराष्ट्रीय
पाकिस्तान के अवैध कब्जे की वजह से परेशानी झेल रहे हैं पीओके के लोग: भारत
By Deshwani | Publish Date: 13/3/2019 11:18:10 AM
पाकिस्तान के अवैध कब्जे की वजह से परेशानी झेल रहे हैं पीओके के लोग: भारत

नई दिल्ली/जिनेवा। जिनेवा में हो रहे संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के 40 वें सत्र में भारत ने एक बार फिर दुनिया के सामने पाकिस्तान के नापाक चेहरे को बेनकाब किया है। 

 
भारत ने दुनिया को बताया है कि पीओके (पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर) पर पाकिस्तान के अवैध कब्जे की वजह से वहां रहने वाले लोगों को बहुत परेशानी झेलनी पड़ रही है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन की प्रथम सचिव मिनी कुमाम ने कहा है कि पीओके में रहनेवालों को पाकिस्तान की सेना का अत्याचार सहना पड़ रहा है और उन्हें मूल अधिकारों से वंचित रखा जा रहा है, जिसका तत्काल समाधान निकालना जरूरी है। 
 
कुमाम ने संयुक्त राष्ट्र में पीओके के अलावा पाकिस्तान के बलूचिस्तान, सिंध और खैबर पख्तूनख्वा में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान भारत के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण प्रॉपेगैंडा के लिए काउंसिल के दुरुपयोग कर रहा है। आज जिन मामलों पर बात करने की जरूरत है वे हैं पाकिस्तान द्वारा भारत के राज्य जम्मू-कश्मीर पर अवैध कब्जा और पाक अधिकृत कश्मीर के लोगों की पीड़ा।
 
उन्होंने कहा कि पाकिस्तान द्वारा सीमा पार आतंकवाद का लगातार समर्थन और भारतीय राज्य जम्मू-कश्मीर में हमारे नागरिकों के मानवाधिकारों की रक्षा हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि, 'संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को पाकिस्तानी सेना या राजनीतिक नेतृत्व द्वारा राज्य नीति के साधन के रूप में उपयोग करने का खुलासा पहले ही हो चुका है।' पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय समुदाय में आक्रामकता के कृत्यों, आतंकवादियों के सुरक्षित पनाहगाहों के लिए जाना जाता है।
 
कुमाम ने कहा कि सिंध, बलूचिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा में नागरिकों का शोषण करने वाली सैन्य अदालतें, ईशनिंदा कानून के माध्यम से अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न, जबरन धर्म परिवर्तन और अल्पसंख्यकों का विवाह कराया जा रहा है। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS