ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में मोतिहारी की आदापुर पुलिस ने पाच करोड़ की चरस के साथ पांच नेपाली नागरिक को पकड़ाजिला प्रशासन ने अंतरजातीय विवाह करने वाले 10 दंपत्तियों को बतौर प्रोत्साहन 7.75 लाख की राशि प्रदान कियादैवीय आपदा, बेघर और कच्चे घरों में रहने वाले गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत निःशुल्क आवास उपलब्धदिनेशलाल यादव निरहुआ ने की बिहार में 500 थियेटर के साथ एजुकेशन को जोड़ने की पहलविभिन्न समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर स्वच्छ रक्सौल संस्था द्वारा धरना आज तीसरा दिन भी जारी रहाशराब कारोबारी और पुलिस की कथित चूहा बिल्ली के खेल में हुई दुर्घटना में एक तेज रफ्तार होण्डा कार ने तीन लोगों को रौंदा, एक की मौतदूरदर्शन की मशहूर एंकर नीलम शर्मा का निधन, कैंसर से थीं पीड़ितकुशीनगर में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या, क्षेत्र में फैली सनसनी
अंतरराष्ट्रीय
खतरे में आया चीन का पोर्क उद्योग, अर्थव्यवस्था को हो सकता है करोड़ों का नुकसान
By Deshwani | Publish Date: 9/2/2019 4:17:00 PM
खतरे में आया चीन का पोर्क उद्योग, अर्थव्यवस्था को हो सकता है करोड़ों का नुकसान

बीजिंग। चीन में अफ्रीकी स्वाइन फीवर नामक बीमारी का एक और मामला सामने आया है जो देश के महत्वपूर्ण सूअर मांस उद्योग के लिए खतरा बन गया है। कृषि और ग्रामीण मामलों के मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि देश के मध्य प्रांत हुनान के योंगझो के एक फार्म में इस बीमारी का पता लगा है, जहां 4,600 सूअर रखे गये हैं।

 
हालांकि, उन सूअरों में से 171 की मृत्यु हो चुकी है और 270 बीमार पाए गए हैं। सरकारी नियमों के मुताबिक, किसी प्रभावित फार्म के सभी सूअरों को वहां से हटा दिया जाना चाहिए या उन्हें खत्म कर देना चाहिए और उस क्षेत्र को संक्रमणमुक्त बनाये जाने तक उसे खाली छोड़ देना चाहिए। 
 
चीन दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक और उपभोक्ता के सूअर का मांस है, परंपरागत रूप से है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय पोर्क व्यापार में भागीदारी सीमित था। अगर बीमारी के कारण चीन के सूअर मांस के उद्योग पर बैन लगता है तो इससे देश को काफी नुकसान हो सकता है।  
 
 
इस बीमारी के बारे में पहली बार अगस्त में पता चला था, इस बीमारी के कारण चीन में अब तक 10 लाख से अधिक सूअरों की मौत हो चुकी है, जिसके चलते चीन में सूअरों के आयात-निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसकी वजह से चीन में सूअर मांस की आपूर्ति बाधित हो गई है। अफ्रीकी स्वाइन फीवर मनुष्यों को प्रभावित नहीं करता लेकिन सूअरों के लिए जानलेवा होता है, जिसमें संक्रमण बेहद तेजी से फैलता है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS