ब्रेकिंग न्यूज़
रक्सौल में आरपीएफ ने छापेमारी कर रेल टिकट किया बरामद, एक गिरफ्तारभारतीय नागरिकों के नेपाल प्रवेश पर रोक लगाने के विरोध में भारत-नेपाल सीमा के मैत्री पुल पर जमकर हुआ बवालनेपाल: देशभक्त राजभक्त समूह पर्सा ने वीरगंज महाबीर मंदिर के पास सम्मान कार्यक्रम का किया आयोजनमौसम विभाग: चक्रवाती तूफान निवार 11 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ रहाबंगलादेश: राष्ट्रपिता बंगबंधु शेख मोजिबुर्रहमान को श्रद्धांजलि देने के लिए कल ढाका में लगाई गई एक चित्र प्रदर्शनीटीम इंडिया की जर्सी में बीसीसीआई ने किए कुछ बदलावजान कुमार सानू के बयान पर कुमार सानू का आया रिएक्शन, कुमार सानू ने कहा- मैंने वो सब दिया जो कुछ जान की मां ने मांगा थामहापर्व छठ की समाप्ति के बाद जमा हुए जिले के वरिष्ठ क्रिकेट खिलाड़ी, हुआ फैंसी क्रिकेट मैच का आयोजन
मनोरंजन
ड्रग्स मामला: रिया-शौविक की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी, बॉम्बे हाई कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित
By Deshwani | Publish Date: 29/9/2020 8:42:15 PM
ड्रग्स मामला: रिया-शौविक की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी, बॉम्बे हाई कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित

मुंबई। ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती  और उनके भाई शौविक की जमानत अर्जी पर बॉम्बे हाईकोर्ट में आज करीब पौने 7 घंटे तक सुनवाई चली। बॉम्बे हाई कोर्ट ने इस मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया है। आज कोर्ट ने रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शौविक चक्रवर्ती, सैमुअल मिरांडा और दिलीप सावंत और कथित ड्रग पेडर अब्देल बासित पाराशर की जमानत याचिका पर सुनवाई की। न्यायमूर्ति एस वी कोतवाल ने सुबह 11 बजे से शाम 6.45 बजे तक सुनवाई की, जिसके बाद फैसला सुरक्षित रखा गया।
 
वहीं एक्ट्रेस रिया के वकील ने सतीश मानशिंदे ने एनसीबी के जांच अधिकार पर भी सवाल उठाया है। सतीश मानशिंदे का कहना है कि एनसीबी के पास मामले की जांच करने का कोई अधिकार क्षेत्र नहीं है, क्योंकि उन्हें सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के अनुसार मामले को सीबीआई को स्थानांतरित करना था। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि सुशांत की मौत से जुड़े सभी मामलों की सीबीआई जांच होनी चाहिए।
 
एनसीबी  के जोनल निदेशक समीर वानखेड़े द्वारा बॉम्बे हाईकोर्ट में दायर एक हलफनामे में रिया ने बयान दिया है कि उन्होंने सैमुएल मिरांडा और दीपेश सावंत को उन ड्रग्स के पैसे चुकाए हैं, जिन्हें बाद में सुशांत को सेवन के लिए दिया गया। एनसीबी ने कहा कि यह साफ है कि जिन ड्रग्स के लिए पैसे चुकाए गए थे, वे निजी उपयोग के लिए नहीं थे बल्कि ऐसा किसी और को इनकी आपूर्ति कराए जाने के लिए किया गया और यह एनडीपीएस 1985 की धारा 27ए के तहत आता है। 
 
एनसीबी ने एक हलफनामे में कहा है कि जांच एक महत्वपूर्ण चरण में है और अगर इस वक्त रिया को जमानत मिल जाती है, तो इससे छानबीन बाधित होगी। एनसीबी ने कहा कि रिया मादक पदार्थो की तस्करी में शामिल रही है, यह साबित करने के लिए कई सबूत हैं। वह ड्रग पहुंचाने के काम में न सिर्फ मदद देती थीं बल्कि क्रेडिट कार्ड, नकद और ऐसे ही कई माध्यमों से इनका भुगतान भी करती थीं।
 
बता दें कि रिया फिलहाल छह अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में है। रिया-शौविक के अलावा सैमुअल मिरांडा, दीपेश सावंत और ड्रग पेडलर बाशित परिहार की जमानत पर आज ही सुनवाई हुई। मामले में ड्रग एंगल की जाच कर रही नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो अब तक 18 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS