ब्रेकिंग न्यूज़
वाल्मीकिनगर का भटका बाध मोतिहारी के पकड़ीदयाल पहुंचा, सूचना पर डीएम पहुंचे, रेस्क्यू ऑपरेशन देर शाम तक रही जारीमोतिहारी में ग्रामीण कार्य विभाग के कार्यपालक अभियंता व डेटा अपरेटर को निगरानी ने पकड़ा, बताया- 80 हजार रुपया घूस लेते पकड़ासमस्तीपुर रेल मंडल के मिथिलांचल व कोसी क्षेत्र होकर चलेगी कामाख्या से श्रीमाता वैष्णो देवी कटरा स्पेशल ट्रेनमोतिहारी के पीपरा में Indian oil स्वागत पेट्रोल पंपकर्मी से लूटा 11 लाख, एसपी ने गठित की एसआईटीआयकर फॉर्म 15सीए/15सीबी की इलेक्ट्रॉनिक फाइलिंग में राहतसमस्तीपुर : मानसून व बाढ़ को ले रेल ने उठाये कई एहतिहाती कदम, किया अलर्टरक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रक्षा क्षेत्र में नवाचार के लिए 498.8 करोड़ रुपये की बजटीय सहायता को दी मंजूरीप्रधानमंत्री ने अमृतभाई कड़ीवाला के निधन पर शोक व्यक्त किया
मनोरंजन
ड्रग्स मामला: रिया-शौविक की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी, बॉम्बे हाई कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित
By Deshwani | Publish Date: 29/9/2020 8:42:15 PM
ड्रग्स मामला: रिया-शौविक की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी, बॉम्बे हाई कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित

मुंबई। ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती  और उनके भाई शौविक की जमानत अर्जी पर बॉम्बे हाईकोर्ट में आज करीब पौने 7 घंटे तक सुनवाई चली। बॉम्बे हाई कोर्ट ने इस मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया है। आज कोर्ट ने रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शौविक चक्रवर्ती, सैमुअल मिरांडा और दिलीप सावंत और कथित ड्रग पेडर अब्देल बासित पाराशर की जमानत याचिका पर सुनवाई की। न्यायमूर्ति एस वी कोतवाल ने सुबह 11 बजे से शाम 6.45 बजे तक सुनवाई की, जिसके बाद फैसला सुरक्षित रखा गया।
 
वहीं एक्ट्रेस रिया के वकील ने सतीश मानशिंदे ने एनसीबी के जांच अधिकार पर भी सवाल उठाया है। सतीश मानशिंदे का कहना है कि एनसीबी के पास मामले की जांच करने का कोई अधिकार क्षेत्र नहीं है, क्योंकि उन्हें सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के अनुसार मामले को सीबीआई को स्थानांतरित करना था। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि सुशांत की मौत से जुड़े सभी मामलों की सीबीआई जांच होनी चाहिए।
 
एनसीबी  के जोनल निदेशक समीर वानखेड़े द्वारा बॉम्बे हाईकोर्ट में दायर एक हलफनामे में रिया ने बयान दिया है कि उन्होंने सैमुएल मिरांडा और दीपेश सावंत को उन ड्रग्स के पैसे चुकाए हैं, जिन्हें बाद में सुशांत को सेवन के लिए दिया गया। एनसीबी ने कहा कि यह साफ है कि जिन ड्रग्स के लिए पैसे चुकाए गए थे, वे निजी उपयोग के लिए नहीं थे बल्कि ऐसा किसी और को इनकी आपूर्ति कराए जाने के लिए किया गया और यह एनडीपीएस 1985 की धारा 27ए के तहत आता है। 
 
एनसीबी ने एक हलफनामे में कहा है कि जांच एक महत्वपूर्ण चरण में है और अगर इस वक्त रिया को जमानत मिल जाती है, तो इससे छानबीन बाधित होगी। एनसीबी ने कहा कि रिया मादक पदार्थो की तस्करी में शामिल रही है, यह साबित करने के लिए कई सबूत हैं। वह ड्रग पहुंचाने के काम में न सिर्फ मदद देती थीं बल्कि क्रेडिट कार्ड, नकद और ऐसे ही कई माध्यमों से इनका भुगतान भी करती थीं।
 
बता दें कि रिया फिलहाल छह अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में है। रिया-शौविक के अलावा सैमुअल मिरांडा, दीपेश सावंत और ड्रग पेडलर बाशित परिहार की जमानत पर आज ही सुनवाई हुई। मामले में ड्रग एंगल की जाच कर रही नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो अब तक 18 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS