ब्रेकिंग न्यूज़
स्ट्रीट डांसर 3d में ऐसा होगा श्रद्धा कपूर का लुक, वरुण धवन ने शेयर किया पहला पोस्टरसमस्तीपुर के दलसिंहसराय में महिला से दुष्कर्म के बाद हत्या, गेहूं के खेत में मिला शवराजधानी दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई इलाकों में भारी वर्षा, उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में रेड अलर्ट जारीपीएम मोदी ने संसद भवन पर आतंकी हमले में शहीदों को दी श्रद्धांजलिनागरिकता संशोधन विधेयक 2019 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दी मंजूरीझारखंड विधानसभा चुनाव 2019: तीसरे चरण में 1:00 बजे तक 45% से अधिक मतदानआज उच्‍चतम न्‍यायालय में दुष्‍कर्म और हत्‍या के चार आरोपियों की मुठभेड़ में मौत की एसआईटी जांच की याचिकाओं पर होगी सुनवाईएक संसदीय समिति ने कहा है कि सरकार को रसोई गैस पर अधिक सब्सिडी वाली एक और योजना शुरू करने के बारे में करना चाहिए विचार
बिज़नेस
'ईज ऑफ डूइंग बिजनेस' रैंकिंग में भारत की स्थिति हुई बेहतर, वर्ल्ड रैकिंग में 63वें स्थान पर
By Deshwani | Publish Date: 24/10/2019 12:00:56 PM
'ईज ऑफ डूइंग बिजनेस' रैंकिंग में भारत की स्थिति हुई बेहतर, वर्ल्ड रैकिंग में 63वें स्थान पर

नई दिल्‍ली। अर्थव्‍यवस्‍था के मोर्चे पर भारत के लिए एक अच्‍छी खबर है। विश्‍व बैंक ने ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की रैंकिंग जारी कर दी है। इस रैंकिंग में भारत ने इस साल 14 पायदान की लंबी छलांग लगाकर 63वें स्थान पर पहुंच गया है। इससे भारत को और ज्यादा विदेशी निवेश आकर्षित करने में मदद मिलेगी। गौरतलब है कि पिछले साल भारत को ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की सूची में 77वां स्थान मिला था।

 
उल्लेखनीय है कि ईज ऑफ डूइंग बिजनेस यानी कारोबार करने में सुगमता की रैंकिंग उस समय आई है, जब देश आर्थिक सुस्ती के दौर से गुजर रहा है। साल 2014 में जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में एनडीए सरकार बनी थी, तब भारत की रैंकिंग 190 देशों में 142वें स्थान पर थी, जो पिछले साल 77 पर पहुंच गई थी। 
 
विश्‍व बैंक की रिपोर्ट के अनुसार 10 देशों की अर्थव्यवस्थाओं में सुधार हुआ है, जिसमें भारत के अलावा सऊदी अरब, जॉर्डन, टोगो, बहरीन, ताजिकिस्तान, पाकिस्तान, कुवैत, चीन, और नाइजीरिया शामिल है। 
 
क्‍या है ईज आॉफ डूइंग रिपोर्ट का अधार 
ईज आॉफ डूइंग बिजनेस का रिपोर्ट में किसी कारोबार को शुरू करना, कंस्ट्रक्शन परमिट, क्रेडिट मिलना, छोटे निवेशकों की सुरक्षा, टैक्स देना, विदेशों में ट्रेड, कॉन्‍ट्रैक्‍ट लागू करना, कंस्ट्रक्शन परमिट से निजात, बिजली प्राप्त करना, संपत्ति का पंजीकरण, अल्पसंख्यक निवेशकों की रक्षा करना और दिवालिया शोधन प्रक्रिया आदि को आधार बनाया जाता है। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS