ब्रेकिंग न्यूज़
नफरत को खत्म करने, संविधान को बचाने, एन आर सी, सी ए ए जैसे काले कानून के खिलाफ भारत के गंगा-जमुनी तहजीब का नमूना है शाहीन बाग: पप्पू यादवधार्मिक कार्यक्रम में जा रहे हजारों भारतीयों को नेपाल ने करोना वायरस की आशंका से गुरुवार की रात्रि रोका, वार्ता के बाद आज मिली एन्ट्रीपुलवामा हमले के शहीदों को राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने दी श्रद्धांजलिआगर- लखनऊ एक्सप्रेस वे पर मोतिहारी की बस की भीषण दुर्घटना में मृतकों के नाम फिरोजाबाद प्रशासन ने मोतिहारी एसपी को पत्र लिखकर दिएरक्सौल में लुधियाना की नाबालिक लड़की को प्रेम जाल में फंसा कर विवाह करने के आरोप में एक युवक गिरफ्तारऔरंगाबाद में 9वी की छात्रा की हत्या, छात्रा का शव उसके ही क्लास रूम में मिलाभारत को हराकर पहली बार बांग्लादेश ने अंडर-19 क्रिकेट विश्वकप जीतापटना के गांधी मैदान से सटे इलाके में ब्लास्ट होने से करीब आधा दर्जन लोग घायल
बिज़नेस
देश को डिजिटल पथ पर आगे ले जाने के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने माइक्रोसॉफ्ट के साथ किया करार: मुकेश अंबानी
By Deshwani | Publish Date: 12/8/2019 2:36:18 PM
देश को डिजिटल पथ पर आगे ले जाने के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने माइक्रोसॉफ्ट के साथ किया करार: मुकेश अंबानी

मुंबई।  रिलायंस जियो के 42वें ऐनुअल जनरल मीटिंग में मुकेश अंबानी ने घोषणा की कि रिलायंस जियो 34 करोड़ ग्राहकों के साथ देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी बन गई है। इसके अलावा दुनिया में दूसरी सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी है। उन्होंने कहा रिलायंस कंपनी स्मॉल सेक्टर और मिडियम सेक्टर की कंपनियों पर फोकस कर रही है। कंपनी ने लो कॉस्ट में बेहतर कनेक्टिविटी सर्विसेस उपलब्ध कराने की घोषणा करते हुए जियो फाइबर को सितंबर से शुरू करने की बात कही। देश को डिजिटल पथ पर आगे ले जाने के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने माइक्रोसॉफ्ट के साथ करार किया है। 

  
इस अवसर पर आकाश और ईशा अंबानी ने मिक्स रियल्टी (एमआर) लॉन्च किया। इसे कंपनी की एमआर लैब में डिजाइन किया गया है। मिक्स रियल्टी एंटरटेनमेंट के एक्सपीरियंस को बेहतर बनाने में कारगर होगा। जियो के मिक्स रियल्टी का नाम जियो होलोबोर्ड होगा और जल्द ही यह मार्केट में बिक्री के लिए उपलब्ध होगा। पांच सितंबर से जियो गीगा फाइबर की कॉमर्शियल लॉन्चिंग करने की घोषणा की गई है। आरआईएल ने ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के साथ ही सामाजिक उत्तरदायित्व को पूरा करने का भी आश्वासन दिया। उन्होंने केरला, आंध्रा प्रदेश और ओडिसा में रिहैबिलेशन सेंटर बनाने के साथ ही जम्मू कश्मीर में विकास कार्यों और निवेश पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि जियो इंस्टिट्यूट के रूप में उच्च शिक्षा, स्पोर्ट्रस और रिसर्च के लिए विश्वस्तरीय इंस्टिट्यूशन खोलने का भी आश्वासन दिया। 
 
रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि अब तक जियो के कुल 34 करोड़ ग्राहक हो चुके हैं। कंपनी की सालाना रिटेल बिजनेस ग्रोथ 130 हजार करोड़ के आंकड़े को पार कर गया है। रिटेल राजस्व में सात फीसदी और 14 फीसदी प्रॉफिट कमानेवाली कंपनी बन गई है। उन्होंने कहा कि दुनिया में जियो दूसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बन चुकी है। जियो का 5जी नेटवर्क सेवा के लिए तैयार है। वायरलेस नेटवर्क 4जी को भी 5जी में बदलने की सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि जियो होम ब्रॉडबैंड सर्विस, इंटरप्राइस सर्विस, ब्रॉडबैंड फॉर एसएमई के लिए इसी वित्त वर्ष में शुरू होगा। 
 
उन्होंने अगले कुछ साल में होम सेगमेंट में दो अरब आईओटी डिवाइस होने की बात कही। उन्होंने बताया कि जियो गीगा फायबर के 1.5 करोड़ रजिस्ट्रेशन पूरे किए गए हैं। 1600 शहरों में गीगा फायबर सेवाएं उपलब्ध कराएगी। कंपनी अपने ब्रॉडबैंड सेवाओं को भी बेहतर करेगी। पांच लाख घरों में फायबर ब्रॉडबैंड की सेवा दी जा रही हैं। 100 जीबी डेटा हर महीने उपयोग हो रहा है। एक साल में गीगा फाइबर पूरे देश में पहुंचाया जाएगा। 
 
मुकेश अंबानी ने कहा कि कनेक्टिविटी रेवेन्यू के लिए कंपनी ने होम ब्रॉडबैंड सर्विस, एंटरप्राइजेज ब्रॉडबैंड सर्विस, एसएमई के लिए ब्रॉडबैंड सर्विस और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) पर फोकस करेगी। जियो में इनवेस्टमेंट का दौर पूरा हो चुका है, हम इसे नई ऊंचाई पर लेकर जाएंगे। उन्होंने कहा कि सब्सक्राइबर, प्रॉफिट और रेवेन्यू के आधार पर जियो दुनिया की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बन चुकी है। भारत की अर्थव्यवस्था में रिलायंस ने अहम योगदान दिया है। वित्त वर्ष 2019-20 में आरआईएल मोस्ट प्रॉफिटेबल कंपनी रही है। 
 
कंपनी ने पिछले वित्त वर्ष में 67320 करोड़ रुपये का जीएसटी चुकाया है, जबकि 12191 करोड़ इनकम टैक्स के रूप में चुकाए हैं। मुकेश अंबानी ने कहा कि सउदी अरामको रिलायंस में 20 फीसदी हिस्सा खरीदेगी। सउदी अरामको ऑयल और केमिकल कारोबार में 75 बिलियन डॉलर का निवेश करेगी। उन्होंने टेक व डिजिटल सर्विस सेक्टर के पांच लाख करोड़ रुपये की रिटेल कंपनी होने की बात कही। उन्होंने कहा कि देश में 700 बिलियन डॉलर की असंगठित सेक्टर हैं, जिस पर ध्यान दिया जा सकता है। देश की अर्थ व्यवस्था में इनका अहम योगदान है। 
 
जनरल मीटिंग में रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी, नीता अंबानी, मुकेश अंबानी की माताजी कोकिलाबेन अंबानी, ईशा अंबानी, आकाश अंबानी, आकाश अंबानी की पत्नी श्लोका समेत कंपनी के अधिकारी मौजूद रहे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS