ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी में डंपर के नीचे काम कर रहे मिस्त्री व बगल में खड़े चालक को ट्रक ने कुचला, दो की मौत, तीन घायलग्रामीणों की सजगता से पचरुखिया चौक पर लगे एटीएम को चुराने में असफल रहे लूटेरेसीमा चौकी रक्सौल एवं एकीकृत जांच चौकी में 70वें बैच के कस्टम अधिकारियों को दिया गया प्रशिक्षणभाई ने पेश की मिसाल, रक्तदान कर बहन एंजल को दिया जन्मदिन का उपहारलोहिया की पुण्यतिथि: लोस चुनाव में हार के बाद पहली बार एक साथ दिखे महागठबंधन के सभी नेताप्रधानमंत्री मोदी ने महाबलीपुरम के समुद्र तट पर की साफ सफाई, दुनिया को दिया स्वच्छता का पैगाममोदी-शी शिखर वार्ता: कारोबार, निवेश, सेवा क्षेत्र में एक ‘तंत्र' स्थापित करने पर बनी सहमतिसंतकबीरनगर: घाघरा नदी में नाव पलटने से 18 लोग डूबे, चार लापता
बिज़नेस
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मिला कैट का प्रतिनिधिमंडल, जीएसटी पर श्वेत पत्र किया जारी
By Deshwani | Publish Date: 13/6/2019 6:20:06 PM
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मिला कैट का प्रतिनिधिमंडल, जीएसटी पर श्वेत पत्र किया जारी

नई दिल्ली। जीएसटी के सरलीकरण और उसे युक्ति संगत बनाने के लिए कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने वित्‍त मंत्री को एक श्‍वेत पत्र सौंपा। ये पत्र कैट ने विस्तृत रुप से तैयार किया है, जिसे वित्त मंत्री को कैट प्रतिनिधिमंडल ने महासचिव प्रवीण खंडेलवाल के साथ मिलकर आज नार्थ ब्लॉक कार्यालय में निर्मला सीतारमण को सौंपा। 

 
कैट के प्रतिनिधिमंडल ने अपने राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल के नेतृत्व में निर्मला सीतारमण से विभिन्न व्यापारिक मुद्दों पर विस्तृत बातचीत की। वित्त मंत्री से बात करते हुए खंडेलवाल ने उनसे जीएसटी के तहत विभिन्न कर स्लैब के तहत रखी गई वस्तुओं की समीक्षा करने का आग्रह किया, क्योंकि विभिन्न टैक्‍स स्लैब में शामिल अनेक वस्तुएं एक दुसरे पर ओवरलैप कर रही हैं। 
 
उन्होंने कहा कि नीति के रूप में कच्चे माल की टैक्‍स की दर तैयार माल की टैकस रेट से अधिक नहीं होनी चाहिए। विभिन्न वस्तुएं जैसे ऑटो पार्ट्स, अल्लुमिनियम बर्तन आदि जो विलासिता की वस्तुएं नहीं हैं, इन्हें 28 फीसदी कर स्लैब से निकाला जाना चाहिए और इन्हें कम कर स्लैब के तहत रखा जा सकता है। खंडेलवाल ने वित्त मंत्री से फॉर्म जीएसटीआर-9 और 9-सी को सरल बनाने का भी आग्रह किया, क्योंकि ये फॉर्म विभिन्न प्रकार के विवरण मांगते है जो पहले कर प्रणाली में निर्धारित नहीं थे। इसलिए व्यापारी इसका अनुपालन करने में असमर्थ हैं।
 
खंडेलवाल ने यह भी कहा कि मूल घोषणा के अनुसार, गैर बैंकिंग वित्त कंपनियों और माइक्रो फाइनेंस संस्थानों को व्यापारियों को वित्त देने के लिए मुद्रा योजना में शामिल किया जाना चाहिए। वित्‍त मंत्री सीतारमण ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिया कि वह कैट द्वारा उठाए गए मुद्दों की ध्यानपूर्वक समीक्षा कर आवश्यक कदम उठाएंगी। उन्होंने ये भी कहा कि सरकार का इरादा निश्चित रूप से टैक्‍स प्रक्रिया को सरल बनाना है, ताकि अधिक से अधिक लोग आसानी से उसी का अनुपालन कर सकें।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS