ब्रेकिंग न्यूज़
अनिल कुमार जैन कोयला मंत्रालय के नए सचिव नियुक्तमुख्यमंत्री नीतीश का दावा-एनडीए में कोई दरार नहीं, विधानसभा चुनावों में जीतेंगे 200 से ज्यादा सीटबिहार में गंगा समेत कई नदियां उफान पर, मुख्यमंत्री नीतीश ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया हवाई सर्वेक्षणमां दुर्गा के गाने पर जमकर थिरकीं नुसरत जहां और मिमी चक्रवर्ती, वायरल हुआ वीडियोचाइना ओपन से बाहर हुए प्रणीत, भारत का अभियान समाप्तबेल्जियम दौरे के लिये भारतीय हॉकी टीम घोषित, मनप्रीत सिंह को मिली कमानसरकार ने कॉरपोरेट टैक्स 30 फीसदी से घटाकर 22 फीसदी किया, नई दरें 1 अप्रैल से लागूतुलसी गबार्ड ने ‘हाउडी मोदी’ में शामिल नहीं होने पर मांगी माफी, वीडियो जारी कर किया पीएम मोदी का स्वागत
बिज़नेस
इंडिगो सीईओ ने कहा- कारोबार की वृद्धि को लेकर हमारी रणनीति में कोई बदलाव नहीं
By Deshwani | Publish Date: 17/5/2019 4:00:58 PM
इंडिगो सीईओ ने कहा- कारोबार की वृद्धि को लेकर हमारी रणनीति में कोई बदलाव नहीं

नयी दिल्ली। इंडिगो एयरलाइन की परिचालक इंटरग्लोब एविएशन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) रोनोजोय दत्ता का कहना है कि कारोबार में वृद्धि की रणनीति अब भी पूर्ववत बनी हुई है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस रणनीति को जारी रखने के लिए इंडिगो के प्रबंधकों को कंपनी के निदेशक मंडल का पूरा समर्थन है। 

 
दत्ता ने इंडिगो के दो प्रवर्तकों राहुल भाटिया और राकेश गंगवाल के बीच कथित मतभेद की खबरें सामने आने बाद कर्मचारियों को लिखे एक ई–मेल में यह बात कही है। मालूम हो कि घरेलू विमान यात्री सेवा बाजार में इंडिगो की करीब 44 प्रतिशत हिस्सेदारी है।
 
 
उन्होंने अपने ई–मेल में कहा, ” मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि कारोबार वृद्धि को लेकर हमारी रणनीति अब भी अपरिवर्तित है और मजबूती से खड़ी हुई है और इस रणनीति पर अमल करने के लिए प्रबंधन को निदेशक मंडल का पूरा समर्थन है ” उन्होंने कहा, ”मुझे यकीन है कि आप सबको हमारे दो प्रवर्तकों राहुल भाटिया और राकेश गंगवाल के बीच कथित मतभेद के बारे में चल रही खबरों का पता है।”
 
अधिकारी ने कहा कि कंपनी सभी शेयरधारकों, ग्राहकों, कर्मचारियों और सेवा में लगे समुदायों का मूल्य ऊंचा करने पर ध्यान बराबर केंद्रित रखेगी। हालांकि इंडिगो ने इस मामले पर न्यूज एजेंसी की ओर से भेजे गए सवाल का जवाब नहीं दिया है। इंटरग्लोब एविएशन में गंगवाल की करीब 37 प्रतिशत हिस्सेदारी है जबकि भाटिया के पास करीब 38 प्रतिशत शेयर हैं।
 
बता दें कि मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक, एयरलाइन की रणनीतियों और आकांक्षाओं को लेकर दो मुख्य प्रवर्तकों में मतभेद उभर कर सामने आए हैं। मतभेदों को सौहार्दपूर्ण ढंग से हल करने के लिए गंगवाल और भाटिया क्रमश: कानूनी फर्म जे सागर एसोसिएट्स और खेतान एंड कंपनी की मदद ले रहे हैं ताकि एयरलाइन के कामकाज पर इसका असर नहीं पड़े।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS