ब्रेकिंग न्यूज़
दुष्कर्म के दोषी आसाराम को अभी भी उनके अंधभक्त मान रहे पाक साफ, कर रहे हवनदुल्हन ने शादी मंडप में शादी करने से किया इनकार, दूल्हे की दिमागी हालत खराबबिहार सरकार जल्द करें गन्ना किसानों के बकाया का भुगतान : हाइकोर्टनाबालिग से बलात्कार के मामले आसाराम को उम्रकैद, बाकी दोषियों को 20-20 साल की सजाकुत्तों-बंदरों से परेशान हुआ एम्स के डॉक्टर और मरीज, मेनका गांधी को लिखा पत्रमोदी-माल्या पर शिकंजा कसेगी ईडी, संपत्ति कुर्क करने के लिए नए अध्यादेश की तैयारीकर्नाटक चुनाव: जदयू ने जारी की दूसरी लिस्ट, 12 उम्मीदवारों के नामों की घोषणाभारत और चीन के बीच मतभेद विवादों में नहीं बदलना चाहिए : रक्षामंत्री
बिज़नेस
पटना में मार्च तक सीएनजी स्टोरेज स्टेशन : उपमुख्यमंत्री
By Deshwani | Publish Date: 12/12/2017 6:44:31 PM
पटना में मार्च तक सीएनजी स्टोरेज स्टेशन : उपमुख्यमंत्री

पटना, (हि.स.)। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि जीएआईएल (गेल) इंडिया द्वारा मार्च तक पटना में सीएनजी स्टोरेज स्टेशन का निर्माण पूरा कर लिया जायेगा। अगले दो साल में सीएनजी का पांच रिफिलिंग स्टेशन काम करने लगेगा।


वित्त, वाणिज्य कर और वन एवं पर्यावरण विभागों के भी मंत्री सुशील मोदी ने मंगलवार को यहां वायु प्रदूषण नियंत्रण के मद्देनजर अपने सचिवालय स्थित कक्ष में अधिकारियों के साथ बैठक कर प्रदूषण नियंत्रण प्रमाण पत्र निर्गत करने, वाहनों के प्रदूषण की सघन जांच, समुचित कचरा प्रबंधन, भवन निर्माण सामग्रियों का ढक कर परिवहन और सुरक्षित रख रखाव,नई तकनीक पर आधारित ईंट-भट्ठों की स्थापाना व प्रदेश के सभी पेट्रोल पम्पों पर वाहन प्रदूषण जांच केन्द्र स्थापित करने का निर्देश दिया।


उन्होंने बिहार प्रदूषण नियंत्रण पर्षद को निर्देश दिया कि एक तीन सदस्यीय कमिटी बनाकर वाहन प्रदूषण जांच केन्द्रों के उपकरणों की जांच कराई जाए तथा सभी वाहनों पर प्रदूषण नियंत्रण जांच का स्टीकर लगाना अनिवार्य किया जाय। पटना स्थित सभी चार सचिवालयों में चलंत उपकरणों से सरकारी वाहनों की जांच कर उन्हें प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र निर्गत किया जाय।


उन्होंने बताया कि पटना नगर निगम को उन्होंने निर्देश दिया कि कचरा तिरपाल से कवर करके ढोया जाय। सार्वजनिक स्थानों, सड़कों पर बालू व अन्य भवन निर्माण सामग्री रखने पर सख्ती से रोक लगाया जाय। कचरा जलाने पर व्यक्ति विशेष से पांच हजार तथा संस्थाओं से 25 हजार रुपये का दंड वसूला जाय। पटना जिले के पांच प्रखंडों में ईंट-भट्ठों की स्थापना पर रोक लगा दी गई है तथा पूर्व से संचालित ईंट-भट्ठों को नई तकनीक अपनाने तक संचालन की अनुमति नहीं दी जायेगी। बैठक में पर्यावरण व वन विभाग, परिवहन, नगर विकास, पटना नगर निगम, प्रदूषण नियंत्रण पर्षद के अधिकारियों के साथ पटना के जिलाधिकारी व यातायात आरक्षी अधीक्षक मौजूद थे।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS