ब्रेकिंग न्यूज़
दुष्कर्म के दोषी आसाराम को अभी भी उनके अंधभक्त मान रहे पाक साफ, कर रहे हवनदुल्हन ने शादी मंडप में शादी करने से किया इनकार, दूल्हे की दिमागी हालत खराबबिहार सरकार जल्द करें गन्ना किसानों के बकाया का भुगतान : हाइकोर्टनाबालिग से बलात्कार के मामले आसाराम को उम्रकैद, बाकी दोषियों को 20-20 साल की सजाकुत्तों-बंदरों से परेशान हुआ एम्स के डॉक्टर और मरीज, मेनका गांधी को लिखा पत्रमोदी-माल्या पर शिकंजा कसेगी ईडी, संपत्ति कुर्क करने के लिए नए अध्यादेश की तैयारीकर्नाटक चुनाव: जदयू ने जारी की दूसरी लिस्ट, 12 उम्मीदवारों के नामों की घोषणाभारत और चीन के बीच मतभेद विवादों में नहीं बदलना चाहिए : रक्षामंत्री
बिज़नेस
एनएसडीएल में 30 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगा आईडीबीआई बैंक
By Deshwani | Publish Date: 12/12/2017 4:27:28 PM
एनएसडीएल में 30 फीसदी हिस्सेदारी बेचेगा आईडीबीआई बैंक

मुम्बई, (हि.स.)। गैर निष्पादन संपत्तियों (एनपीए) के भारी बोझ तले दबे सरकारी क्षेत्र के बैंक आईडीबीआई बैंक ने अपनी गैर कोर परिसंपत्तियों को बेचने का फैसला किया है। इसके तहत बैंक ने एनएसडीएल के ई-गवर्नेंस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एनईजीआईएल) में 30 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का निर्णय लिया है।
बैंक ने मंगलवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) पर यह जानकारी दी। बैंक ने इस जानकारी में बताया कि यह फैसला हमारी उस नीति के तहत है, जिसमें हम अपने गैर कोर व्यवसाय को बेचना चाहते हैं। एनएसडीएल डिपोजिटरी का काम करती है। आईडीबीआई बैंक ने बताया कि बैंक के निदेशक मंडल ने एनईजीआईएल में अपने 1,20,00,000 इक्विटी शेयरों को बेचने का फैसला किया है, जो 30 फीसदी हिस्सेदारी है।
बतादें कि पिछले महीने ही आईडीबीआई बैंक के निदेशक मंडल ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में 1.5 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का फैसला किया था और उसके बाद अब एनएसडीएल में हिस्सेदारी बेचने की जानकारी दी है। बैंक ने नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में अपने नौ लाख इक्विटी शेयरों को जो चुकता पूंजी के दो फीसदी के करीब हैं, उन्हें एलआईसी को 30 मार्च 2016 को बेच दिया था।
इस तरह से देखा जाए तो बैंक लगातार उन व्यवसायों या परिसंपत्तियों को बेच रहा है, जहां उसकी दिलचस्पी नहीं है। इस कारण बैंक को जो पूंजी मिल रही है उससे उसकी बैलेंसशीट में थोड़ा सुधार होने की गुंजाइश है। बैंक पहले से ही किंग फिशर सहित तमाम खातों के एनपीए होने की वजह से हर तिमाही में घाटा पेश कर रहा है। कुछ बड़े खातों के एनपीए होने से बैंक की बैलेंसशीट में एनपीए का हिस्सा काफी ज्यादा बढ़ गया है। बैंक का कुल एनपीए सितम्बर तिमाही में बढ़कर 24.98 फीसदी पर पहुंच गया, जबकि इसका घाटा बढ़कर 198 करोड़ रुपये हो गया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS