ब्रेकिंग न्यूज़
बाबरी ढांचा विध्वंस केस: कोर्ट ने सभी आरोपियों को किया बरी- मस्जिद विध्वंस सुनियोजित नहीं थीCoronavirus in India: कोरोना से कुल 97 हजार से अधिक लोगों ने गंवाई जान, 24 घंटे में 80 हजार नए मामलेहाथरस गैंगरेप मामले की जांच के लिए मुख्यमंत्री योगी ने गठित की एसआईटी, फास्‍ट ट्रैक कोर्ट में चलेगा मुकदमाकमजोर कारोबारी रुझानों के चलते सेंसेक्स 100 अंक टूटा, निफ्टी में भी गिरावट के साथ कारोबारकमजोर कारोबारी रुझानों के चलते सेंसेक्स 100 अंक टूटा, निफ्टी में भी गिरावट के साथ कारोबारकुवैत के क्राउन प्रिंस शेख सबा अल अहमद का निधन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया शोकउपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू कोरोना पॉजिटिव, खुद को किया होम क्वारंटीनड्रग्स मामला: रिया-शौविक की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी, बॉम्बे हाई कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित
बिहार
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वाल्मीकिनगर से बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया
By Deshwani | Publish Date: 7/8/2020 9:23:43 PM
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वाल्मीकिनगर से बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा किया

बाढ़ पीड़ितों को हरसंभव राहत उपलब्ध कराने आश्वासन दिया

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पश्चिम चम्पारण जिला के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का किया हवाई सर्वेक्षण

गण्डक के दियारावर्ती क्षेत्र में 10 मिनट तक मंडराता रहा मुख्यमंत्री हेलीकॉप्टर

मुख्यमत्री के हेलीकॉप्टर को देख अभियंता और संवेदको की कार्य गति बढ़ी

 

बेतिया। हृदयानंद सिंह यादव/अवधेश कुमार शर्मा। वैश्विक आपदा कोविड 19 कोरोना वायरस संंंक्रमणण के दौरान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार को वाल्मीकिनगर पहुंचे। उन्होंने सर्वप्रथम गंडक बराज का निरीक्षण किया। उसके बाद पदाधिकारियों के साथ गंडक बराज नियंत्रण कक्ष में बैठक किया। उन्होंने पदाधिकारियों से बाढ़ विभिन्न पहलुओं पर विचार विमर्श किया। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री वाल्मीकिनगर एयरपोर्ट पर उतरने के पश्चात सड़क मार्ग से बाढ़ राहत कैंप की व्यवस्था का निरीक्षण किया। उन्होंने बाढ़ पीड़ितों से भेंटकर उन्हें हरसंभव सहायता पहुंचाने का आश्वासन दिया। बिहार में बाढ़ और वैश्विक महामारी कोविड 19 कोरोना से त्रस्त जनता त्राहिमाम कर रही है। इस दौरान बिहार के मुखिया एनडीए सरकार के नेता नीतीश कुमार चम्पारण के दौरान पर वाल्मीकिनगर पहूँचे। वहाँ वे नीतीश नीतीश कुमार ने कहा कि सरकार लगातार बाढ़ पीड़ितों की मदद करने में लगी हुई है। सीएम नीतीश कुमार अनवरत इस पर पदाधिकारियों के माध्यम से नजर रखे हुए हैं। शुक्रवार को बाढ़ के हालात का निरीक्षण करने पहुंचे नीतीश कुमार ने क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण किया।

 

 

 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चंपारण में बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया। मुख्यमंत्री का हेलीकॉप्टर चंद्रपुर के पास कटाव स्थल के ऊपर मंडराने लगा, तब कटाव रोधी कार्य में लगे संवेदक सभी अभियंता, कनीय अभियंता सतर्क हो गए। मुख्यमंत्री के हवाई सर्वेक्षण की प्रशासनिक खबर मिलते ही कारण सिंचाई विभाग के सभी अभियन्ता तटबन्ध पर तैनात दिखे। गण्डक नदी के कटाव स्थल पर संवेदकों ने कटाव रोधी कार्य युद्धस्तर पर कराना प्रारम्भ कर दिया। मुख्यमंत्री के हेलीकॉप्टरों को आसपास के गांवों के लोग तटबन्ध के पास मंडराता देख आश्चर्यचकित हो गए, उन्हें जब यह खबर मिली की मुख्यमंत्री का वाल्मीकिनगर क्षेत्र का दौरा हो रहा है। उसी क्रम में उन्होंने चंद्रपुर तटबन्ध के कटाव स्थल का निरीक्षण हेलीकॉप्टर किया। जिससे वहां की वस्तु स्थिति की जानकारी मुख्यमंत्री को मिले, सीएम का हेलीकॉप्टर दियारा क्षेत्र के बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में भी लगभग 10 मिनट तक मंडराता रहा। जैसे जैसे लोगों को खबर मिलती गयी वे हर्षातिरेक हेलीकॉप्टर को आशा भरी निगाहों से निहारते रहे, लेकिन महाराजा श्री कुमार जनता की स्थिति देख पदधिकारियों को दिशा निर्देश देकर पटना लौट गए। इस दौरान क्षेत्र के बाढ़ और कटाव पीडितो को मुख्यमंत्री के हवाई सर्वेक्षण से नई आस जगी है। विगत दिनों और वर्तमान में नेपाल में हो रही भारी वर्षा से गंडक नदी में उफान की सम्भावना है। जिसके कारण दियारा(भाठ) के सैकड़ों परिवार बेघर हो गए हैं। गण्डक नदी तटवर्ती क्षेत्र के कई परिवार अभी तटबन्ध पर प्लास्टिक की चादरों में रात गुजारने को विवश हैं।

 

 

 

नीतीश कुमार ने गण्डक बैराज का भ्रमण भी किया। मुख्यमंत्री ने जिला पदाधिकारी कुंदन कुमार, डीडीसी रवीन्द्र नाथ प्रसाद सिंह, बगहा एसडीएम विशाल राज बगहा एसपी राजीव रंजन से मिलकर सोसल डिस्टेंस का ख्याल रखते हुए जिला की स्थिति पर विचार विमर्श किया। सबसे अहम् बात यह कि मुख्यमंती पत्रकारों से मिले और आमजनता से मिलकर उनके दर्द पर मरहम लगाने का कार्य ही किया।उन्होंने पेवर ब्लॉक का निर्माण करने वाले कामगारों से बातचीत के क्रम में कहा कि राज्य सरकार द्वारा लॉकडाउन के दौरान वापस लौटे व्यक्तियों को उनके घर के पास रोजगार उपलब्ध कराने को हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं। जिससे उन्हें किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़े तथा उनका जीविकोपार्जन हो सके। पश्चिम चम्पारण के डीएम कुंदन कुमार ने मुख्यमंत्री को बताया कि लॉकडाउन के दौरान वापस लौटे कामगारों, श्रमिकों को उनके हुनर (कौशल) के अनुसार रोजगार मुहैया कराया जा रहा है। कई श्रमिकों को स्वरोजगार मुहैया कराकर, उन्हें उद्यमी बनाया गया है। उन्होंने कहा कि वापस लौटे श्रमिकों एवं कामगारों को रोजगार उपलब्ध कराने का कार्य युद्धस्तर पर लगातार जारी है। मुख्यमंत्री के निरीक्षण के दौरान विधायक, वाल्मीकिनगर, धीरेंद्र प्रताप सिंह उर्फ रिंकू सिंह, विधान पार्षद, भीष्म सहनी, जदयू जिलाध्यक्ष-सह-पूर्व सांसद, कैलाश बैठा, मुख्य सचिव दीपक कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, जल संसाधन विभाग के सचिव संजीव हंस, आयुक्त तिरहुत प्रमंडल पंकज कुमार, जिला पदाधिकारी कुंदन कुमार, पश्चिम चम्पारण, पुलिस अधीक्षक बगहा राजीव रंजन अन्य वरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS