ब्रेकिंग न्यूज़
प्रधानमंत्री मोदी ने विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर देश को किया संबोधित, कहा- आज के युवा की सबसे बड़ी ताकत उसकी स्किल ही हैभारतीय रेल ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बनाये विशेष किस्म के रेल डिब्बे, डिब्बों में किए गए ये बदलावइनकम टक्स ऑफिसर बन महिला के घर से 50 लाख का सोना लूटने का आरोपी मोतिहारी के मिस्कॉट से गिरफ्तार, ले गई बंगाल की पुलिसमोतिहारी डीएम के खाते से फर्जीवाड़ा गिरोह ने पटना से बैंक ऑफ इंडिया शाखा से एक लाख रुपए ट्रांस्फर की कोशिश की, गांधी मैदान व मोतिहारी थाने में एफआईआररक्सौल: ट्रेन से कटकर एक वृद्ध महिला की मौतऐश्वर्या और अराध्या भी निकलीं कोरोना पॉजिटिव, अमिताभ का बंगला जलसा कंटेनमेंट जोन घोषितअभिनेता अनुपम खेर की मां, भाई समेत परिवार के चार सदस्य कोरोना पॉजिटिवमोतिहारी-बेतिया सहित उत्तर बिहार के तराई इलाके में भारी बारिश व बज्रपात की चेतावनी
राज्य
पीएम मोदी भी मुरीद, भीख मांगकर समाजसेवा करते हैं राजू, मन की बात में किया जिक्र
By Deshwani | Publish Date: 31/5/2020 11:56:28 AM
पीएम मोदी भी मुरीद, भीख मांगकर समाजसेवा करते हैं राजू,  मन की बात में किया जिक्र

पठानकोट। प्रधानमंत्री मोदी ने आज मन की बात में राजू नाम के शख्स का जिक्र किया। राजू इससे पहले भी अपने काम की वजह से चर्चा में रहे हैं। राजू ने कोरोना काल में लोगों की मदद कर मानवता की शानदार मिशाल पेश की है। यही वजह रही है कि प्रधानमंत्री मोदी ने राजू के बारे में पूरे देश को बताया।

राजू पंजाब के पठानकोट के रहने वाले हैं। वह दिव्यांग हैं और भीख मांगते हैं। भीख से मिलने वाले रुपयों को राजू लोगों की सहायता में खर्च करते हैं। भीख के पैसों से राजू ने अब तक 100 से ज्यादा परिवारों को एक महीने का राशन दिया और 2500 से ज्यादा लोगों में मास्क भी बांट चुके हैं। यह सब पैसे राजू ने भीख से जुटाए थे।


दिन भर मांगते हैं भीख फिर उसी रकम से लोगों की करते हैं मदद:

राजू व्हीलचेयर पर दिनभर भीख मांगते हैं। वह भीख मांगकर अपने पास सिर्फ उतना रखते हैं, जितने में उनका गुजारा हो। बाकी सब वह दूसरे लोगों में बांट देते हैं। मैले-कुचैले कपड़ों में लोगों के घरों तक राशन पहुंचाने वाले राजू दिव्यांग ही नहीं स्वस्थ व्यक्ति के लिए भी प्रेरणा स्त्रोत है। वहीं, लोगों को पता है कि उनका पैसा भलाई के कामों में लगना है तो लोग राजू को खुले दिल से पैसे भी देते हैं।


घर पर रहने का दे रहे संदेश:

राजू रोजाना पठानकोट की सड़कों पर अपनी व्हीलचेयर पर बैठक निकल पड़ते हैं। इस दौरान राजू लोगों में मास्क और राशन बांटते हैं। लोगों को घर पर रहने और सामाजिक दूरी का पालन करने के लिए भी प्रेरित करते हैं। राजू कहते हैं कि लोग बहुत पैसा देते हैं, वह पैसे जोड़ते हैं और मौका मिलते ही जरूरतमंदों पर खर्च कर देते हैं। राजू ने कहा कि जीते जी उसके अपनों ने उसे दूर रखा, कुछ नेकी कर लूंगा तो शायद आखिरी समय में लोगों के कंधे मिल सकें।

बच्चों की फीस, 22 गरीब कन्याओं की शादी कराई:

राजू की दरियादिली का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि वह समाज सेवा में बहुत दिनों से जुटे हुए हैं। अब तक वो 22 गरीब लड़कियों की शादी करा चुके हैं। गर्मियों में छबील, भंडारा भी करवाते हैं। इतना ही नहीं पठानकोट के ढांगू रोड पर एक गली की पुलिया पर रोजाना हादसों से तंग आकर राजू ने अपने पैसों से इसका निर्माण करवाया।


हर साल 15 अगस्त को महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सिलाई मशीनें उपलब्ध कराते हैं। सर्दियों में कंबल बांटते हैं। राजू अभी कुछ बच्चों की फीस का खर्च भी उठा रहे हैं। कॉपी-किताब के लिए भी मदद करते हैं। राजू कहते हैं कि यह सब मेरे अपने हैं। इनकी मदद कर मन को शांति मिलती है।


image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS