ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी में बलआ के राज मार्केट स्थित दवा दुकानदार की अपराधियों ने रात्रि में गोली मार हत्या कीरक्सौल के ई. कुंदन श्रीवास्तव ने आर्थिक मदद कर सत्याग्रह ट्रेन से आये यात्रियों को दिया भोजन का पैकेटझारखंड में बिहार सहित अन्य राज्यों से आनेवाली बस की एंट्री नहीं, निजी वाहनों को भी लेना होगा ई-पासमोतिहारी के कोटवा में ट्रक व कार में भीषण टक्कर, एक की मौत चार अन्य घायल, दो की स्थित गंभीरबिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जान
बिहार
सूरत के कपड़ा मिल में काम करने वाले करीब 63 श्रमिक पहुंचे रक्सौल, सभी हैं नेपाली नागरिक
By Deshwani | Publish Date: 22/5/2020 9:34:04 PM
सूरत के कपड़ा मिल में काम करने वाले करीब 63 श्रमिक पहुंचे रक्सौल, सभी हैं नेपाली नागरिक

रक्सौल अनिल कुमार। गुरूवार की रात करीब 12 बजे गुजरात सूरत के कपड़ा मिल में काम करने वाले करीब 63 की संख्या श्रमिक रक्सौल पहुंचे। ये सभी श्रमिक नेपाली नागरिक थे और लॉकडाउन में फैक्ट्री बंद हो जाने के बाद सूरत से बस भाड़ा करके रक्सौल पहुंचे थे। रक्सौल आने के बाद इन लोगों को पता चला कि सीमा सील है, जिसके बाद जब ये लोग बॉर्डर पर पहुंचे तो वहां एसएसबी ने इन्हे रोक दिया। रात में ही एसएसबी के अधिकारी राज कुमार कुमावत जवानो की सूचना पर बॉर्डर पर पहुंचे। इसके बाद पूरी रात इनको कहीं रखने को लेकर चर्चा होती रही। 

 
 
 
बाद में इस बात का निर्णय हुआ कि इनको रात में स्टेशन पर रखा जाये। जिसके बाद सभी को स्टेशन पर रात में रखा गया। दिन के समय स्वच्छ रक्सौल संगठन के रंजीत सिंह के द्वारा सभी श्रमिको को भोजन कराया गया। प्रभारी एसडीओ मनीष कुमार ने बताया कि दिन के करीब 1 बजे सूरत से आये सभी श्रमिको को रक्सौल के केसीटीसी कॉलेज में संचालित कोरेनटाइन सेंटर पर रख दिया गया है। यहां बता दे कि इन दिनो लगातार भारत के अलग-अलग इलाको में फंसे नेपाली श्रमिको के रक्सौल आने का क्रम लगातार जारी है और गृह मंत्रालय की अनुमति नहीं मिलने के कारण इनके वतन वापसी में काफी परेशानी हो रही है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS