ब्रेकिंग न्यूज़
झारखंड में बिहार सहित अन्य राज्यों से आनेवाली बस की एंट्री नहीं, निजी वाहनों को भी लेना होगा ई-पासमोतिहारी के कोटवा में ट्रक व कार में भीषण टक्कर, एक की मौत चार अन्य घायल, दो की स्थित गंभीरबिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोज
बिहार
महामारी के बावजूद विद्युत विभाग के अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक अपनी जान की परवाह किए बगैर बिजली आपूर्ति बहाल रखने में जुटे हुए हैं
By Deshwani | Publish Date: 9/4/2020 9:34:26 PM
महामारी के बावजूद विद्युत विभाग के अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक अपनी जान की परवाह किए बगैर बिजली आपूर्ति बहाल रखने में जुटे हुए हैं

रक्सौल अनिल कुमार। वैश्विक स्तर पर प्राण घातक बन चुके कोरोना बीमारी की भयावहता से जहां सभी लोगों में ख़ौफ व्याप्त है।इसको लेकर सरकार द्वारा लॉक डाउन घोषित किया गया है, ताकि लोग अपने घरों में ही दुबके रहें। वहीं इससे इतर विद्युत विभाग के अधिकारी से लेकर कर्मचारी व मानव बल अपने जान का प्रवाह किये बगैर निर्वाध बिजली आपूर्ति बहाल रखने में जुटे हुए हैं। इतना ही नही लॉक डाउन का पालन कर रहे लोगों के घरों की बिजली बाधित नही हो इसके लिए विद्युत विभाग द्वारा दोगुने एनर्जी के साथ सेवा जारी रखने हेतु खासे तैयारी भी की गई है। 

 
 
इसको लेकर विभाग द्वारा डिवीजन स्तर पर कण्ट्रोल रूम भी बनाये गए हैं, जिसका नम्बर 09264456406 है। इसके अलावा उपभोक्ताओं के शिकायतें सुनने के लिए लैंड लाईन की व्यवस्था की गई है। जिसका नम्बर 06255221114 है। उक्त आशय की जानकारी देते हुए रक्सौल डिवीजन के कार्यपालक अभियंता प्रदीप कुमार सुमन ने बताया कि वर्तमान समय में सभी के लिए परेशानी का सबब बन चुके कोरोना बीमारी के ख़ौफ व लॉक डाउन जैसे हालात के मद्देनजर डिवीजन अंतर्गत पौने तीन लाख विद्युत उपभोक्ताओं के घरों की बिजली बाधित नही हो इसके लिए 3 सबडिवीजनों के सहायक अभियंताओं व 13 सेक्शनों  में 15 कनीय अभियंताओं के साथ-साथ एक सौ से अधिक संविदा कर्मियों व मानव बलों को लगाया गया है। 
 
 
उन्होंने बताया कि लॉक डाउन अवधि के दौरान जले तीन ट्रांसफॉर्मरों को भी अतिशीघ्र बदलकर लाइनें चालू की गई। इसके अलावा डिवीजन कार्यालय में भी स्टैंड मोड यानी अतिरिक्त ट्रांफॉर्मर तैयारी अवस्था मे रखा गया है, ताकि कहीं से भी ट्रांसफॉर्मर जलने की सूचना मिलते ही उक्त जगह नया ट्रांसफॉर्मर लगाकर अविलम्ब बिजली आपूर्ति को सुचारू रखा जा सके। वहीं उपभोक्ताओं से भी अपने घर बैठे विभाग के साईट डब्लूडब्लूडब्लू एंबीपीडीसीएल डॉट को डॉट इन पर ऑनलाईन विपत्र की राशि भुगतान करने की अपील कार्यपालक अभियंता द्वारा की गई है, ताकि विभाग को राजस्व प्राप्त होता रहे। इसके लिए विभागीय ऐप पे बीबीबीपी की भी सुविधा उपलब्ध है। वहीं सभी मानव बलों व एसबीओ को मास्क पहनने का भी सख्त निर्देश जारी किया गया है।
 
 
इधर विद्युत विभाग की सक्रियता को देखते हुए स्थानीय समाजसेवी सह ग्राम स्वराज मंच के अध्यक्ष रमेश कुमार सिंह का कहना है कि इस विकट परिस्थिति में भी अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों के घरों को रोशनी करने में जुटे विद्युत कर्मियों को सम्मानित किया जाना चाहिए। वहीं प्रो.अनिल कुमार सिन्हा का कहना है कि सरकार की दूरदर्शिता को बिल्कुल धरातल पर उतारकर विद्युत विभाग ने अपने कर्मचारियों के बल यह साबित कर दिया है कि कठिन से कठिन कार्य को भी वे करने में सक्षम हैं। इसको लेकर प्रो.मनीष दुबे ने विद्युत विभाग को धन्यवाद देते हुए  कोरोना का असली योद्धा विद्युत कर्मियों को बताया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS