ब्रेकिंग न्यूज़
बेखौफ अपराधियों का कहर, दिनदहाड़े पुलिसकर्मी को गोली से भूना, कार्बाइन ले भागेएमजंक्शन अवार्ड्स में अडानी ग्रुप को मिला सर्वश्रेष्ठ कोयला सर्विस प्रोवाइडर का पुरस्कारटी20 विश्व कप के लिये युवाओं के पास मनोबल बढ़ाने का बेहतरीन मंच: शिखर धवनबिपाशा के बॉलीवुड में 18 साल, 'अजनबी' से की थी बॉलीवुड करियर की शुरुआतराष्ट्रपति ट्रंप का बड़ा फैसला, सऊदी अरब और UAE में तैनात होगी अमेरिकी सेनाउत्तर प्रदेश: पटाखा फैक्टरी में भीषण विस्फोट, 6 लोगों की मौत, कई घायलहरियाणा व महाराष्ट्र के बाद अब झारखंड में विधानसभा चुनाव की तारीख का इंतजारएक लोकसभा सीट समेत बिहार की पांच विधानसभा सीटों पर उपचुनाव 21 अक्तूबर को, 24 को होगी मतगणना
बिहार
आज पटना लाया जायेगा पूर्व मुख्यमंत्री डॉ जगन्नाथ मिश्रा का पार्थिव शरीर, पैतृक गांव बलुआ में पसरा सन्नाटा
By Deshwani | Publish Date: 20/8/2019 1:30:17 PM
आज पटना लाया जायेगा पूर्व मुख्यमंत्री डॉ जगन्नाथ मिश्रा का पार्थिव शरीर, पैतृक गांव बलुआ में पसरा सन्नाटा

पटना। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ जगन्नाथ मिश्रा का पार्थिव शरीर आज दोपहर दिल्ली से पटना लाया जायेगा। इसके बाद लोगों के अंतिम दर्शन के लिए उनका पार्थिव शरीर पटना के शास्त्रीनगर स्थित उनके आवास पर रखा जायेगा। बताया जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव सुपौल जिले के बलुआ में राजकीय सम्मान के साथ बुधवार को किया जायेगा।

 
पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा के निधन से उनके पैतृक गांव बलुआ में सन्नाटा पसर गया है। हालांकि, उनके पैतृक आवास पर फिलहाल उनके परिजन नहीं हैं। इसके बावजूद उनके भतीजे और पड़ोस के लोग आवास पर पहुंच कर आनेवाले लोगों से मिल रहे हैं। डॉ मिश्रा के निधन की जानकारी मिलने के बाद गांव के लोग शोक में हैं। आवास पर पहुंचे लोगों का कहना है कि ये क्षति कभी पूरी नहीं हो सकती। गांव के लोग उनके किये कार्यों की चर्चा कर उन्हें याद कर रहे हैं। 
 
 
बता दें कि अपनी मजबूत राजनीतिक पकड़ की वजह से डॉ मिश्रा ने तीन बार बिहार के मुख्यमंत्री बने. पहली बार उन्होंने मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी वर्ष 1975 में संभाली। दूसरी बार वे 1980 में मुख्यमंत्री बने। आखिरी बार वह वर्ष 1989 से 1990 तक बिहार के मुख्यमंत्री रहे। इसके बाद वह 90 के दशक में केंद्रीय कैबिनेट मंत्री भी रहे। बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा ने राजनीति में आने से पहले अपने कॅरियर की शुरुआत लेक्चरर के तौर पर की थी। बाद में उन्होंने बिहार यूनिवर्सिटी में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर के तौर पर अपनी सेवाएं दी। बिहार में डॉ मिश्रा का नाम बड़े नेताओं के तौर पर जाना जाता है। मिथिलांचल के सबसे कद्दावार नेताओं में उनका नाम शुमार किया जाता है। मालूम हो कि सोमवार को लंबी बीमारी के बाद दिल्ली के एक अस्पताल में उन्होंने अपनी आखिरी सांस ली थी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS