ब्रेकिंग न्यूज़
फिल्म 'भारत' के ट्रेलर से इसलिए गायब हुई तब्बू, यह है बड़ी वजहबिहार में चार बजे तक लगभग 50.9 प्रतिशत मतदानरूसी राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन से मिलेंगे उत्तर कोरिया के किम जोंगराफेल केस: सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना मामले में राहुल गांधी को जारी किया नोटिस, 30 को होगी सुनवाईसुपौल लोकसभा क्षेत्र में बारिश ने डाला खलल, दिन चढ़ने के साथ बढ़ती गयी मतदाताओं की कतारडेमोक्रेट सांसद कमला हैरिस ने की ट्रंप के खिलाफ महाभियोग शुरू करने की मांगउप्र की दस सीटों पर मतदान जारी, इस चरण में 'यादव परिवार' की साख दांव परराजस्थान: मोदी पर बरसे राहुल, कहा- प्रधानमंत्री मोदी ने सबसे अधिक नुकसान आदिवासियों का किया
बिहार
ओबीसी का कोटा बढ़ाने की मांग पर नीतीश ने आरजेडी की मांग का किया समर्थन
By Deshwani | Publish Date: 21/1/2019 3:31:14 PM
ओबीसी का कोटा बढ़ाने की मांग पर नीतीश ने आरजेडी की मांग का किया समर्थन

पटना। राष्ट्रीय जनता दल के बाद अब जनता दल यूनाइटेड भी ओबीसी के अन्तर्गत जातियों के लिए नौकरी और शिक्षण संस्थाओं में कोटा बढ़ाने की मांग का समर्थन किया है।

 
बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने आज कहा कि संख्या बढ़ाने की मांग सही है और मुझे इस मांग पर कोई ऐतराज़ नहीं है। लेकिन उन्होंने अपने इस मांग को व्यावहारिक रूप से लागू करने के लिए अगली जनगणना जातिगत आधार पर करने की मांग भी की।
 
उन्होंने कहा कि 1931 के बाद देश में जातिगत जनगणना नहीं हुई है, इसलिए किस जाति की कितनी संख्या है और क्या सामाजिक हालत है वो जातिगत जनगणना से ही पता चल सकता है और एक बार ये जातिगत जनगणना का डेटा आ जायेगा तो आबादी के अनुरूप आरक्षण पर विचार किया जा सकता है।
 
नीतीश ने इस बात को दोहराया कि जाति के आबादी के अनुरूप अगर आरक्षण हो जाए तो इससे अच्छी कोई बात नहीं लेकिन उन्होंने माना कि फ़िलहाल सर्वोच्च न्यायालय के उस फ़ैसले के कारण जिसमें आरक्षण की सीमा 50 प्रतिशत तक सीमित कर दी गई है उसके बाद अभी भी भारी कठिनाई है।
 
मुख्यमंत्री के इस रुख़ से साफ़ है कि जहां एक ओर वो ऊंची जाति के लिए हाल में किए गए 10 प्रतिशत के आरक्षण का प्रावधान का समर्थन कर रहे हैं लेकिन साथ ही साथ इस मुद्दे पर आरजेडी ने जो अपना स्टैंड लिया है उससे भी वो कहीं पीछे नहीं रहना चाहते और भविष्य में इस मुद्दे पर किसी भी संभावित आंदोलन के दौरान आंदोलनकारियों के आक्रोश का सामना करने से पहले उन्होंने अपना रुख साफ कर दिया है।
 
जहां तक हाल ही में सवर्ण जातियों के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने का सवाल है तो उसे बिहार में लागू करने के लिए नीतीश कुमार ने कहा कि जल्द इस संबंध में आदेश पास किया जाएगा। फ़िलहाल ये जानने की कोशिश हो रही है कि क्या इसे एक्ट के द्वारा लागू किया जाए या किसी एक्सक्यूटिव आदेश से।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS