ब्रेकिंग न्यूज़
समस्तीपुर : मिथिलांचल को मिला तोहफा, जयनगर से भागलपुर तक जायगी स्पेशल ट्रेनमहिन्द्र फर्स्ट च्वाइस के मालिक मोतिहारी के पीपराकोठी में अपने ही स्कॉर्पियो में गोली लगने से घायल मिले, हुई मौतइसबार मोतिहारी की पुलिस रही मुस्तैद तो लूट नहीं सके सवा लाख रुपए, आर्म्स के साथ दबोचे गए तीनइंटरसिटी और लोकल ट्रेन का संचालन नहीं होने से यात्रियों को हो रही काफी परेशानी, रामगढ़वा में भाजपा सांसद का पुतला दहन कर स्थानीय ग्रामीणों ने किया विरोध प्रदर्शनकेंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने कर्नाटक के बेंगलुरु में तीन अलग-अलग प्रकल्पों का लोकार्पण कियाभारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में दिग्गज अभिनेता और निर्देशक बिस्वजीत चटर्जी को 51वें भारतीय व्यक्तित्व पुरस्कार से किया गया सम्मानितभारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच रक्सौल के दो केन्द्रों पर कोविड वैक्सीनेशन अभियान हुआ प्रारंभरक्सौल: सिमुलतला विद्यालय में ईशान ने मारी बाजी
बिहार
14 दिसम्बर को किसान विरोधी कृषि बिल के खिलाफ राज्यभर के प्रखण्ड मुख्यालयों पर एकदिवसीय धरना देगी जविपा : अनिल कुमार
By Deshwani | Publish Date: 1/12/2020 9:42:29 PM
14 दिसम्बर को किसान विरोधी कृषि बिल के खिलाफ राज्यभर के प्रखण्ड मुख्यालयों पर एकदिवसीय धरना देगी जविपा : अनिल कुमार

पटना। केंद की मोदी सरकार द्वारा कोरोना काल में पारित कृषि बिल को किसान विरोधी बताते हुए आज जनतांत्रिक विकास पार्टी ने आगामी 14 दिसंबर 2020 को बिहार के सभी प्रखण्ड मुख्यालयों में एकदिवसीय धरना देने का निर्णय लिया है। इस दौरान जविपा सुप्रीमो अनिल कुमार ने कहा कि यह निर्णय पार्टी ने देश में मोदी सरकार के कृषि कानून के विरोध में चल रहे व्यापक किसान आंदोलन के समर्थन में लिया है। उन्होंने कहा कि जविपा इस बिल को किसान विरोधी मानती है और मांग करती है कि सरकार यह बिल वापस ले।




अनिल कुमार ने कहा कि किसानों के विरोध के बाद सरकार के मंत्री और खुद प्रधानमंत्री कहते हैं कि यह कानून किसान विरोधी नहीं है। MSP हटाना किसान विरोधी नहीं है। तो किसान आखिर अपने खेत को छोड़ कर विरोध क्यों कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बिहार में पहले ही नीतीश कुमार की सरकार इसे को हटा चुके हैं। इसका खामियाजा बिहार के किसान भुगत रहे हैं। तभी निर्धारित 1868 रुपए का धान 1100 में बेचने को विवश हैं। क्या धान के मूल्य का निर्धारण सरकार के चुनिंदा लोगों के लिये किया गया है? बगल के राज्यों में धान की खरीद पर किसान को बोनस भी मिलाता है, लेकिन बिहार के किसान इससे वंचित क्यों है? इसका जवाब मुख्यमंत्री जी को देना चाहिए। वे बताएं कि किसान अपना धान कहाँ बेचें? क्या वे धान लेकर एक अणे मार्ग जाएं? आखिर सरकार को किसानों की चिंता क्यों नहीं है?


 

अनिल कुमार ने बिहार सरकार को आगाह करते हुए कहा कि राज्य सरकार जल्द से जल्द प्रदेश के सभी प्रखंडों में धान का क्रय केंद्र 14 तारीख तक स्थापित करने का काम करें, वरना 14 दिसम्बर के धरने कुछ दिन बाद हम किसानों के धान के साथ एक अणे मार्ग की ओर जाने को विवश होंगे। हम और हमारी पार्टी किसानों के सवाल पर प्रखर होकर सबसे पहले आवाज उठा रही है। हम अपने अन्नदाता पर जुर्म बर्दाश्त नहीं करेंगे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS