ब्रेकिंग न्यूज़
समस्तीपुर : मिथिलांचल को मिला तोहफा, जयनगर से भागलपुर तक जायगी स्पेशल ट्रेनमहिन्द्र फर्स्ट च्वाइस के मालिक मोतिहारी के पीपराकोठी में अपने ही स्कॉर्पियो में गोली लगने से घायल मिले, हुई मौतइसबार मोतिहारी की पुलिस रही मुस्तैद तो लूट नहीं सके सवा लाख रुपए, आर्म्स के साथ दबोचे गए तीनइंटरसिटी और लोकल ट्रेन का संचालन नहीं होने से यात्रियों को हो रही काफी परेशानी, रामगढ़वा में भाजपा सांसद का पुतला दहन कर स्थानीय ग्रामीणों ने किया विरोध प्रदर्शनकेंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने कर्नाटक के बेंगलुरु में तीन अलग-अलग प्रकल्पों का लोकार्पण कियाभारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में दिग्गज अभिनेता और निर्देशक बिस्वजीत चटर्जी को 51वें भारतीय व्यक्तित्व पुरस्कार से किया गया सम्मानितभारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच रक्सौल के दो केन्द्रों पर कोविड वैक्सीनेशन अभियान हुआ प्रारंभरक्सौल: सिमुलतला विद्यालय में ईशान ने मारी बाजी
अंतरराष्ट्रीय
रोहिंग्‍या संकट के तत्‍काल समाधान के लिए संयुक्‍त राष्‍ट्र ने एक प्रस्‍ताव किया पारित
By Deshwani | Publish Date: 19/11/2020 7:48:06 PM
रोहिंग्‍या संकट के तत्‍काल समाधान के लिए संयुक्‍त राष्‍ट्र ने एक प्रस्‍ताव किया पारित

दिल्ली संयुक्‍त राष्‍ट्र ने रोहिंग्‍या संकट के तत्‍काल समाधान के लिए एक प्रस्‍ताव पारित किया है। यह प्रस्‍ताव इस्‍लामी देशों के संगठन और यूरोपीय यूनियन ने मिलकर पेश किया था जिसे 132 देशों का समर्थन मिला। प्रस्‍ताव के विरोध में 9 देश थे, 31 देशों ने मतदान में भाग नहीं लिया। संयुक्‍त राष्‍ट्र में बांग्‍लादेश के स्‍थाई मिशन की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि इस वर्ष के प्रस्‍ताव में कुछ नये विषय शामिल किए गए हैं जिनमें अंतर्राष्‍ट्रीय अपराध न्‍यायालय का अंतरिम आदेश और रोहिंग्‍याओं के साथ ही कुछ अन्‍य अल्‍पसंख्‍यक समुदायों को मताधिकार से बाहर करने जैसे मुद्दे शामिल हैं। 

 
 
 
 
इस प्रस्‍ताव में म्‍यामां से कहा गया है कि वह रोहिंग्‍या संकट के मूल कारणों का समाधान करे जिसमें उन्‍हें नागरिकता देना और सकारात्‍मक वातावरण तैयार करके उसमें उनकी अपने घरों में सकुशल और स्‍थाई वापसी को सुनिश्चित करना है। इस प्रस्‍ताव में विस्‍थापित रोहिंग्‍याओं को मानवीय आधार पर शरण देने के लिए बांग्‍लादेश सरकार की प्रशंसा की गई है। प्रस्‍ताव में बाकी देशों से अनुरोध किया गया है कि वे बांग्‍लादेश को उसके इस मानवीय प्रयास में सहायता दें।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS