ब्रेकिंग न्यूज़
उपमुख्‍यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा– फिजियोथेरेपी है समय की जरूरतदिल्ली मेट्रो की ग्रे-लाइन पर नजफगढ़-ढांसा बस स्टैंड खंड का उद्घाटन किया गयाप्रधानमंत्री 18 सितंबर को गोवा में स्वास्थ्य कर्मचारियों और कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के लाभार्थियों से संवाद करेंगेपूर्वी चम्पारण के एसपी नवीन चन्द्र झा ने रक्सौल नगर थाने का किया औचक निरीक्षण, दिए निर्देशप्रधानमंत्री ने गुजरात सरकार में मंत्री पद की शपथ लेने वाले सभी लोगों को बधाई दीकेंद्रीय कृषि मंत्रालय ने किया सभी संघ राज्य क्षेत्रों का सम्मेलनरक्सौल: स्वर्ण व्यवसाई हत्याकांड में मृतक कपिलदेव सर्राफ के ब्यान पर एफआईआर दर्ज, छापेमारी जारीउपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और लोकसभा अध्यक्ष संयुक्त रूप से 15 सितंबर को ‘संसद टीवी’ का करेंगे शुभारंभ
राष्ट्रीय
प्रधानमंत्री ने गुजरात में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के लाभार्थियों से की बातचीत
By Deshwani | Publish Date: 3/8/2021 10:15:39 PM
प्रधानमंत्री ने गुजरात में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के लाभार्थियों से की बातचीत

दिल्ली प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज गुजरात में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के लाभार्थियों से वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। योजना के बारे में और जागरूकता फैलाने के लिए राज्य में एक जन भागीदारी कार्यक्रम शुरू किया गया था।

 
 
 
 
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजरात में लाखों परिवारों को पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत निःशुल्क राशन मिल रहा है। यह निःशुल्क राशन गरीबों के संकट को कम करता है और उन्हें आत्मविश्वास देता है। उन्होंने कहा कि गरीब नागरिकों को यह महसूस करना चाहिए कि कैसी भी आपदा आ जाए, देश सदैव उनके साथ है।
 
 
 
 
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आज़ादी के बाद से ही करीब-करीब हर सरकार ने गरीबों को सस्ता भोजन देने की बात कही थी। सस्ते राशन की योजनाओं का दायरा और बजट साल दर साल बढ़ता गया, लेकिन उसका जो प्रभाव होना चाहिए था, वह सीमित ही रहा था। देश के खाद्य भंडार बढ़ते गए, लेकिन भुखमरी और कुपोषण में उस अनुपात में कमी नहीं आ पाई। इसका बड़ा कारण था, प्रभावी डिलीवरी सिस्टम का न होना। इस स्थिति को बदलने के लिए 2014 के बाद नए सिरे से काम शुरू किया गया। उन्होंने कहा, नई तकनीक का उपयोग करके करोड़ों फर्जी लाभार्थियों को वितरण प्रणाली से बाहर कर दिया गया और राशन कार्डों को आधार कार्ड से जोड़ा गया। इससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिली कि सदी की सबसे बड़ी आपदा के बावजूद कोई भी नागरिक भूखा न रहे, वह भी ऐसे समय में जब लॉकडाउन के कारण आजीविका और व्यापार प्रभावित हुए थे। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को दुनिया ने स्वीकार किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि महामारी के दौरान 2 लाख करोड़ रुपये से अधिक के खर्च के साथ 80 करोड़ से अधिक लोगों को मुफ्त राशन उपलब्ध कराया गया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS