ब्रेकिंग न्यूज़
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा की आतंकवाद को अपनी कार्य नीति का हिस्सा बना लिया पाकिस्तानसरकार अर्थव्‍यवस्‍था को फिर से पटरी पर लाने के लिए और उपाय कर रही: निर्मला सीतारमन्कुशीनगर में बुद्ध महापरिनिर्वाण मंदिर के समीप नया गेट बनवाने पर कई अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्जजन अधिकार छात्र परिषद के प्रदेश अध्यक्ष गौतम आनंद को किया गया बर्खास्‍तझारखंड विधानसभा चुनाव: दूसरे चरण की 20 सीटों पर मतदान जारीबिहार में बलात्‍कारियों को गोली मारने वालों को पप्‍पू यादव देंगे 5 लाख, कहा-हैदराबाद एनकाउंटर टीम को देंगे 50-50 हजारभारत ने आज 13वें दक्षिण एशिया खेलों में 2 स्वर्ण सहित 12 पदक जीतेपॉक्‍सो अधिनियम के तहत दोषियों के लिए नहीं होना चाहिए दया याचिका का प्रावधान: रामनाथ कोविंद
सहरसा
पूर्व मुखिया सत्तो यादव की गोली मार हत्या, कोसी दियारा इलाके में दहशत
By Deshwani | Publish Date: 21/11/2019 4:43:01 PM
पूर्व मुखिया सत्तो यादव की गोली मार हत्या, कोसी दियारा इलाके में दहशत

सहरसा/दरभंगा। कोसी के दियारा क्षेत्र फरकिया व सहरसा-दरभंगा जिले के सीमावर्ती इलाके में गुरुवार की अहले सुबह सशस्त्र अपराधियों ने सहरसा जिले के महिषी प्रखंड के पूर्व मुखिया सत्तो यादव को गोली मारकर हत्या कर दी।
 
प्राप्त जानकारी के अनुसार सत्तो यादव महिषी थाना व राजनपुर पंचायत के धनोज-धर्मपुर गांव का निवासी था। घटनास्थल दरभंगा जिले के कुशेश्वर स्थान थाना व तिलकेश्वर ओपी के दुधेली भित्ता बथान की है। सत्तो यादव सुबह में ट्रैक्टर से अपने खेत की जुताई कर रहा था। इसी क्रम में घोड़े और बाइक पर सवार होकर हमलावर पहुंचे और उन्होंने ट्रैक्टर पर ही उसे गोली मारकर हत्या कर दी।
 
घटना की सूचना मिलने पर बड़ी संख्या में ग्रामीण वहां पहुंचे। ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। इसके बाद सहरसा जिले के कनरिया और महिषी थाना की पुलिस ने घटनास्थल को दरभंगा जिला का बताकर सर्वप्रथम अपना पल्ला झाड़ लिया। कारणवश तत्काल आगे की कार्रवाई नहीं हो सकी। 
 
पुलिस उस स्थल की जांच कर रही है कि जहां हत्या हुई, वह किस जिले का भाग है। इसके लिए अमीन की सहायता भी ली गई। पुलिस प्रशासन और जमीन संबंधी मामले के जानकारों के अनुसार जिस जगह हत्या हुई वह दरभंगा जिले के तिलकेश्वर ओपी क्षेत्र में पड़ता है। इसके बाद घटना स्थल पर पड़ा शव दरभंगा जिले का माना गया। उसके बाद पुलिस ने घटना स्थल पर से गोली का चार खोखा बरामद कर शव को पोस्टमार्टम के लिए दरभंगा भेज दिया है। 
 
मृतक सत्तो यादव का पुत्र काजल यादव फिलहाल सहरसा जेल में बंद है। सहरसा पुलिस के अनुसार दोनों पिता पुत्र का आपराधिक इतिहास रहा है। मृतक का दोस्ती व दुश्मनी दियारा क्षेत्र के कुख्यात अपराधकर्मी रामानंद यादव, पारो यादव, विपिन यादव आदि गिरोह से चलती आ रही थी।
 
घटना का परिणाम आपसी अदावत व वर्चस्व बतायी जाती है। फरकिया क्षेत्र में अक्टूबर- नवम्बर माह में हुई कई हत्याएं व खूनी संघर्ष की घटना से दियारावासी आतंक व दहशत के साये में जीने को मजबूर हैं। इस घटना के प्रतिशोध में दियारा क्षेत्र में खूनी संघर्ष की संभावित घटना से इनकार नही किया जा सकता है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS