ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए प्रचार अभियान जोरों परभारतीय नौसेना के प्रमुख युद्धक पोतों की संचालन और युद्धक तैयारियों की नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने की समीक्षाताइवान को लगभग एक अरब 80 करोड़ डॉलर मूल्‍य की हथियार प्रणालियां बेचने को अमरीकी विदेश मंत्रालय ने दी मंजूरीबिरगंज के गहवा माई मन्दिर में शारदीय नवरात्र के सातवे रोज माता दुर्गा की निकली डोली"जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं", मास्क और सैनिटाइजर का हमेशा उपयोग करें : जिला निर्वाची पदाधिकारीनेपाल के बारा जिला में अवैध पिस्टल के साथ एक गिरफ्तारप्रधानमंत्री की चुनावी रैली की तैयारी का जायजा लेने मोतिहारी पहुंचे बिहार चुनाव प्रभारी सह पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीससात माह लंबे इंतजार के बाद खुला भारत-नेपाल बॉर्डर
राष्ट्रीय
भारत ने किया रक्षा शक्तियों में और इजाफा, ब्रह्मोस मिसाइल का सफल परीक्षण, मारक क्षमता 400 किमी से ज्यादा
By Deshwani | Publish Date: 30/9/2020 8:37:03 PM
भारत ने किया रक्षा शक्तियों में और इजाफा, ब्रह्मोस मिसाइल का सफल परीक्षण, मारक क्षमता 400 किमी से ज्यादा

भुवनेश्वर। चीन सीमा पर जारी तनाव के बीच भारत ने अपनी रक्षा शक्तियों में और इजाफा किया है। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने स्वदेशी बूस्टर और एयरफ्रेम सेक्शन के साथ ही कई अन्य ‘मेड इन इंडिया’ उप प्रणालियों से लैस सतह से सतह तक मार करने वाली सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का ओडिशा में आईटीआर, बालासोर से सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया। इसकी मारक क्षमता 400 किमी की गई है। यह स्वदेशीकरण के विस्तार की दिशा में एक अन्य महत्वपूर्ण कदम है।

 
बुधवार को ओडिशा तट पर एक टेस्ट फैसिलिटी से स्वदेशी बूस्टर के साथ एक विस्तारित-रेंज वाले सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का सफलतापूर्वक परीक्षण किया। सूत्रों ने बताया कि मिसाइल को बालासोर जिले में ‘इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज ‘(आईटीआर) से एक मोबाइल लांचर से सुबह करीब 10.30 बजे लॉन्च किया गया।
 
ब्रह्मोस एक रैमजेट सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है जिसे सबमरीन, शिप, फाइटर जेट या जमीन से लॉन्च किया जा सकता है। इस मिसाइल को डीआरडीओ और रूस की एनपीओएम संस्था ने मिलकर बनाया है। ब्रह्मोस लैंड-अटैक क्रूज मिसाइल (एलएसीएम) की अधिकतम गति मैक 2.8 रही थी।
 
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस शानदार मिशन के लिए डीआरडीओ के सभी कर्मचारियों और टीम ब्रह्मोस को बधाई दी। डीडी आरएंडडी सचिव और डीआरडीओ चेयरमैन डॉ. जी सतीश रेड्डी ने इस उपलब्धि के लिए वैज्ञानिक समुदाय और उद्योग को शुभकामनाएं दीं।
 
ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने ट्वीट किया, “विस्तारित रेंज वाले ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के सफल परीक्षण पर डीआरडीओ को बधाई। स्वेदशी बूस्टर वाला मिसाइल भारत की रक्षा क्षमता को मजबूत करेगा।”
 
यह दूसरी बार है जब ब्रह्मोस के विस्तारित-रेंज संस्करण का परीक्षण किया गया है। ब्रह्मोस मिसाइल को मूल रूप से 290 किलोमीटर की दूरी तक मार करने की क्षमता के साथ बनाया गया था। बता दें कि ब्रह्मोस मिसाइल को भारत और रूस ने मिलकर बनाया है। यह सुपरसॉनिक मिसाइल अपने अत्याधुनिक तकनीक से लैस है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS