ब्रेकिंग न्यूज़
चीन से कच्चे माल की आपूर्ति में व्यवधान के संबंध में वित्त मंत्री ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाईजम्मू-कश्मीर में पंचायत उपचुनाव सुरक्षा मुद्दों और क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की अनिच्छा के कारण स्थगितअशरफ गनी अफगानिस्तान के नए राष्ट्रपति चुने गएबिहार के गया में कोरोना वायरस के एक संदिग्ध मरीज को देखरेख के लिए अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में कराया गया भर्तीऔरंगाबाद में रफीगंज-शिवगंज पथ पर तेज रफ्तार ट्रक ने ऑटो में मारी टक्कर, दो मासूमों सहित 10 लोगों की मौतनफरत को खत्म करने, संविधान को बचाने, एन आर सी, सी ए ए जैसे काले कानून के खिलाफ भारत के गंगा-जमुनी तहजीब का नमूना है शाहीन बाग: पप्पू यादवधार्मिक कार्यक्रम में जा रहे हजारों भारतीयों को नेपाल ने करोना वायरस की आशंका से गुरुवार की रात्रि रोका, वार्ता के बाद आज मिली एन्ट्रीपुलवामा हमले के शहीदों को राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने दी श्रद्धांजलि
राष्ट्रीय
परीक्षा में अच्‍छे अंक ही सबकुछ नहीं - मोदी, परीक्षा पे चर्चा-2020 कार्यक्रम में देश भर के दो हजार से अधिक विद्यार्थी ले रहे भाग
By Deshwani | Publish Date: 20/1/2020 3:44:06 PM
परीक्षा में अच्‍छे अंक ही सबकुछ नहीं - मोदी, परीक्षा पे चर्चा-2020 कार्यक्रम में देश भर के दो हजार से अधिक विद्यार्थी ले रहे भाग

नई दिल्ली। नई दिल्‍ली के तालकटोरा स्‍टेडियम में प्रधानमंत्री मोदी अपने परीक्षा पे चर्चा-2020 कार्यक्रम में विद्यार्थियों, अध्‍यापकों और अभिभावकों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा है कि परीक्षा में अच्‍छे अंक ही सबकुछ नहीं हैं इसलिए विद्यार्थियों को इस सोच से बाहर निकलना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि शिक्षा का उद्देश्‍य नई चीजें सीखने का केवल एक तरीका है और विदयार्थियों को ज्‍यादा से ज्‍यादा ज्ञान प्राप्‍त करना चाहिए। 


एक सवाल के जवाब में श्री मोदी ने कहा कि विफलता में भी सफलता का रास्‍ता ढूंढा जा सकता है। उन्‍होंने कहा कि परीक्षा के दौरान पढ़ाई के अलावा अन्‍य कारणों से भी परिणाम प्रभावित हो सकते हैं। प्रधानमंत्री ने पठन पाठन के अलावा अन्‍य गतिविधियों के महत्‍व पर जोर देते हुए कहा कि ऐसी गतिविधियां में भाग नहीं लेने से व्‍यक्ति रॉबोट की तरह हो जाता है।

उन्‍होंने कहा कि अस्‍थाई विफलता का यह मतलब नहीं है कि सफलता आपका इंतजार नहीं कर रही है, वास्‍तव में विफलता का मतलब है कि आपका सबसे अच्‍छा योगदान आना अभी बाकी है। उन्‍होंने विद्यार्थियों से चन्‍द्रयान-2 का अनुभव साझा किया और कहा कि वे वैज्ञानिकों के प्रयासों की सराहना करते हैं, जिन्‍होंने देश की आकांक्षाओं को पूरा करने के भरपूर प्रयास किए। श्री मोदी ने कहा कि प्रत्‍येक विफलता से व्‍यक्ति कुछ सीखता है।
 
प्रधानमंत्री का परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम का यह तीसरा संस्‍करण है। रविवार के कार्यक्रम में देश भर के दो हजार से अधिक विद्यार्थी, शिक्षक और अभिभावक भाग ले रहे हैं।
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS